DA Image
हिंदी न्यूज़ › क्रिकेट › डिप्रेशन को लेकर अपना अनुभव शेयर करने पर सचिन तेंदुलकर ने की विराट कोहली की तारीफ, जानें क्या कुछ कहा
क्रिकेट

डिप्रेशन को लेकर अपना अनुभव शेयर करने पर सचिन तेंदुलकर ने की विराट कोहली की तारीफ, जानें क्या कुछ कहा

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Tarun Singh
Sun, 21 Feb 2021 11:56 AM
डिप्रेशन को लेकर अपना अनुभव शेयर करने पर सचिन तेंदुलकर ने की विराट कोहली की तारीफ, जानें क्या कुछ कहा

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली को पूर्व दिग्गज बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने एक बेहतरीन कैरियर के लिए बधाई दी। साथ ही डिप्रेशन से जुड़े अनुभव को शेयर करने के लिए उनकी सराहना की। कोहली ने एक पाॅडकास्ट में बोलते हुए कहा था कि उस दौर में सचिन तेंदुलकर ने उनकी काफी मदद की थी। कोहली ने कहा था उनके शब्द ने मुझे एक नई दिशा दी। 

सूर्यकुमार के टीम में चुने जाने पर सिलेक्टर का पुराना कमेंट वायरल

शनिवार को सचिन ने ट्विटर पर लिखा, 'मुझे तुम्हारे क्रिकेट कैरियर पर गर्व है। इस युवाओं को सोशल मीडिया पर काफी उलझे हैं। 1000 लोग बात करते हैं पर असल में कोई नहीं। हमें उन्हें सुनना होगा और उनकी मदद करनी होगी।' 

सूर्यकुमार यादव ने 30 साल की उम्र में टीम इंडिया में शामिल होकर रचा इतिहास, जानें उनका पूरा सफर

.@imVkohli, proud of your success & decision to share such personal experiences.

These days youngsters are constantly judged on social media. Thousands speak about them but not to them.

We need to be able to listen to them and help them flourish. https://t.co/xsBThtzOTx

— Sachin Tendulkar (@sachin_rt) February 20, 2021

इंग्लैंड दौरे के बारे में विराट कोहली ने कहा, 'आपको पता नहीं होता है कि इससे कैसे पार पाना है। यह वह दौर था जबकि मैं चीजों को बदलने के लिए कुछ नहीं कर सकता था। मुझे ऐसा महसूस होता था कि जैसे कि मैं दुनिया में अकेला इंसान हूं।' कोहली ने याद किया कि उनकी जिंदगी में उनका साथ देने वाले लोग थे, लेकिन वह तब भी अकेला महसूस कर रहे थे। उन्होंने कहा कि तब उन्हें पेशेवर मदद की जरूरत थी।

टी20 सीरीज में सिलेक्ट किए जाने के बाद तेवतिया ने ऐसे किया रिएक्ट

उन्होंने कहा, 'निजी तौर पर मेरे लिए वह नया खुलासा था कि आप बड़े ग्रुप का हिस्सा होने के बावजूद अकेला महसूस करते हो। मैं यह नहीं कहूंगा कि मेरे साथ बात करने के लिए कोई नहीं था लेकिन बात करने के लिए कोई पेशेवर नहीं था जो समझ सके कि मैं किस दौर से गुजर रहा हूं। मुझे लगता है कि यह बहुत बड़ा कारक होता है। मैं इसे बदलते हुए देखना चाहता हूं।'

संबंधित खबरें