sachin tendulkar did not want to win against his elder brother - पहली बार सचिन ने किया खुलासा- जब बड़े भाई से जीतना नहीं चाहते थे वो DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पहली बार सचिन ने किया खुलासा- जब बड़े भाई से जीतना नहीं चाहते थे वो

तेंदुलकर ने एक दिलचस्प वाकया बताया, जब दोनों भाई एक-दूसरे के आमने-सामने थे और कोई जीतना नहीं चाहता था।

happy birthday sachin tendulkar

सचिन तेंदुलकर के करियर में उनके भाई अजीत का योगदान किसी से छिपा नहीं है। तेंदुलकर ने एक दिलचस्प वाकया बताया, जब दोनों भाई एक-दूसरे के आमने-सामने थे और कोई जीतना नहीं चाहता था। तेंदुलकर गुरुवार को बांद्रा उपनगर में एमआईजी क्रिकेट क्लब में अपने नाम के पवेलियन के उद्घाटन के मौके पर बोल रहे थे।

पहली बार खुलासा

सचिन ने कहा, मैं कभी इसके बारे में नहीं बोला लेकिन पहली बार बोल रहा हूं। कई साल पहले, मुझे याद भी नहीं है कि मैं अंतरराष्ट्रीय या रणजी क्रिकेट खेलता था या नहीं लेकिन मैं अच्छा खेलता था। मुझे पता था कि मेरा ग्राफ ऊपर जा रहा है। उस समय एमआईजी में एक विकेट का टूर्नामेंट होता था। मैं एक टूर्नामेंट खेल रहा था जिसमें अजीत भी खेल रहा था। हम दोनों अलग-अलग पूल में थे।

MIvSRH: बुमराह का चला मैजिक, कुछ ऐसा था सुपरओवर का रोमांच

'विराट: द मेकिंग ऑफ ए चैम्पियन'- पढ़ें एक मोटे खिलाड़ी से फिटनेस आइडल बनने तक का सफर

सिर्फ एक मैच में भिड़े

उन्होंने कहा, सेमीफाइनल में हमारा सामना हुआ और वही एकमात्र मैच हमने एक-दूसरे के खिलाफ खेला। तेंदुलकर ने कहा, मैं अजीत की भाव-भंगिमा से समझ गया था कि वह जीतना नहीं चाहते और मैं भी। मैंने बल्लेबाजी शुरू की और उसने जान-बूझ कर नोबॉल और वाइड बॉल डालनी शुरू कर दी। मैं जान-बूझकर रक्षात्मक खेल रहा था जो एक विकेट क्रिकेट में नहीं होता है।

उन्होंने कहा, तब अजीत ने मेरी तरफ देखकर ढंग से बल्लेबाजी करने का इशारा किया। आपको अपने बड़े भाई की बात माननी पड़ती है। मैंने वो मैच नहीं जीता, बल्कि वो हार गया। हम दोनों समान नतीजा चाहते थे लेकिन मेरी टीम फाइनल में पहुंच गई।

इंग्लैंड में बल्लेबाजों को मिलेगी मदद

सचिन ने कहा कि इंग्लैंड में वर्ल्ड कप के दौरान पिचें बल्लेबाजों की ऐशगाह होंगी लेकिन गर्म मौसम के कारण गेंद उतना स्विंग नहीं लेगी। वर्ल्ड कप 30 मई से इंग्लैंड में शुरू होगा। तेंदुलकर ने कहा, चैंपियंस ट्रॉफी में भी विकेट अच्छी थी। गर्मी में विकेट सपाट हो जाती हैं। मुझे उम्मीद है कि बल्लेबाजी के लिए यह शानदार विकेट होगी। बादल होने पर गेंद स्विंग ले सकती है। ऐसा होगा भी तो लंबे समय नहीं, पहले ओवर तक बस।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:sachin tendulkar did not want to win against his elder brother