DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जानिए सचिन तेंदुलकर ने क्यों की बल्लेबाजों पर जुर्माना लगाने की मांग?

सचिन तेंदुलकर को लगता है कि गेंदबाजी करने वाली टीम की तरह बल्लेबाजी करने वाली टीम पर भी मैच के दौरान खेल के नियमों का उल्लघंन करने पर 7 रन का जुर्माना लगाया जाना चाहिए। जानिए क्यों...?

sachin tendulkar jpg

सचिन तेंदुलकर को लगता है कि गेंदबाजी करने वाली टीम की तरह बल्लेबाजी करने वाली टीम पर भी मैच के दौरान खेल के नियमों का उल्लघंन करने पर 7 रन का जुर्माना लगाया जाना चाहिए। मुंबई टी20 लीग के सेमीफाइनल मैच में सोबो सुपरसोनिक्स और आकाश टाइगर्स मुंबई वेस्टर्न सबर्ब के बीच हुए अजीबोगरीब विवाद के बाद तेंदुलकर ने यह टिप्पणी की। उन्होंने कहा, 'जो भी मैंने देखा, वो मैंने पहली बार देखा है और फिर मैंने सोचना शुरू किया कि क्या किया जा सकता है। यह एक डेड बॉल नहीं हो सकती। लेकिन नियम इस तरह के हैं कि जो कुछ भी हुआ, वो उस समय सही चीज थी।' तेंदुलकर ने कहा, 'लेकिन मैं सोच रहा था कि बदलाव के लिए क्या किया जा सकता है जो आने वाले समय में लागू किया जा सकता है।'

READ ALSO: ICC ODI WC 2019: ये हैं क्रिकेट विश्व कप इतिहास के पांच यादगार मुकाबले

'बल्लेबाजों पर भी लगे जुर्माना'
उन्होंने कहा, 'मुझे लगता है कि अगर सर्कल के अंदर तीन क्षेत्ररक्षक हैं तो अंपायर उन्हें कभी नहीं कहता कि आपको चौथा क्षेत्ररक्षक रिंग में लगाने की जरूरत है और अगर नो बॉल होती है और इसके लिए फ्री हिट है। इसलिए क्षेत्ररक्षण करने वाली टीम को इसके लिए जुर्माना लगाया जाता है। लेकिन जब बल्लेबाज अपने छोर पर नहीं पहुंचते तो बल्लेबाजी करने वाली टीम पर जुर्माना क्यों नहीं लगता? मुझे लगता है कि बल्लेबाजी करने वाली टीम को भी सजा मिलनी चाहिए। और एक गेंद पर अधिकतम कितने रन बना सकता है, जो 7 रन हैं जिसमें एक पिछली नो बॉल और फ्री हिट पर रन हैं। इसलिए शायद यहां पर बल्लेबाजी करने वाली टीम पर 7 रन का जुर्माना लगना चाहिए।'

READ ALSO: सचिन तेंदुलकर बोले- अभ्यास मैच में मिली हार से परेशान होने की जरूरत नहीं

जानिए क्या हुआ था पूरा विवाद?    
इस मैच में 15वें ओवर के अंत में सोबो सुपरसोनिक्स की टीम बिना विकेट गंवाए 158 रन पर ख्थेल रही जब हर्श टैंक को क्रैंप के कारण चिकित्सा लेनी पड़ी। इस ओवर की अंतिम गेंद पर जय बिष्टा ने एक रन लिया लेकिन अगले ओवर के शुरू होने पर किसी भी खिलाड़ी या अंपायर ने महसूस नहीं किया कि टैंक स्ट्राइक छोर पर थे, बिस्टा नहीं। गलत स्ट्राइक लेने के बाद टैंक पहली गेंद पर आउट हो गए। अंपायरों को महसूस हुआ कि बल्लेबाजों ने छोर नहीं बदला था तो उन्होंने इसे डेड बॉल करार कर दिया जिससे आकाश टाइगर्स की टीम को विकेट नहीं मिला जबकि गलती पूरी तरह से बल्लेबाजों की थी। तेंदुलकर ने कहा कि यह मैदान के बाहर के मैच अधिकारियों का काम था कि वे मैदानी अंपायरों को इस गलती का आभास कराते।

सभी खेलों से जुड़े समाचार पढ़ें सबसे पहले Live Hindustan पर। अपने मोबाइल पर Live Hindustan पढ़ने के लिए डाउनलोड करें हमारा न्यूज एप। और देश-दुनिया की हर खबर से रहें अपडेट।  

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Sachin Tendulkar demands 7 runs penalty for Batting side if rules are breached