फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News क्रिकेटRohit Sharma on Impact Rule: नहीं पसंद इम्पैक्ट रूल, कहा- शिवम दुबे और वॉशिंगटन सुंदर जैसे खिलाड़ियों को तो...

Rohit Sharma on Impact Rule: नहीं पसंद इम्पैक्ट रूल, कहा- शिवम दुबे और वॉशिंगटन सुंदर जैसे खिलाड़ियों को तो...

मुंबई इंडियंस के पूर्व कप्तान रोहित शर्मा ने कहा कि उन्हें आईपीएल में इम्पैक्ट रूल बिल्कुल भी नहीं पसंद है। उन्होंने कहा कि इसके चलते शिवम दुबे, वॉशिंगटन सुंदर जैसे खिलाड़ियों को बॉलिंग नहीं मिलती।

Rohit Sharma on Impact Rule: नहीं पसंद इम्पैक्ट रूल, कहा- शिवम दुबे और वॉशिंगटन सुंदर जैसे खिलाड़ियों को तो...
Namita Shuklaलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीThu, 18 Apr 2024 01:52 PM
ऐप पर पढ़ें

Rohit Sharma on Impact Rule: इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में इम्पैक्ट रूल जबसे आया है, तब से ऑलराउंडर्स खिलाड़ियों की मुश्किलें थोड़ी बढ़ गई हैं। इम्पैक्ट रूल के चलते टीम प्लेइंग XI की जगह प्लेइंग XII चुनती है, जिसमें से एक खिलाड़ी को बीच में बदला जा सकता है। मुंबई इंडियंस के पूर्व कप्तान रोहित शर्मा को हालांकि इम्पैक्ट रूल बिल्कुल पसंद नहीं है। उन्होंने इसके पीछे का लॉजिक भी समझाया है। इम्पैक्ट रूल के आने से ज्यादा खिलाड़ियों को खेलने का मौका तो मिल जाता है, लेकिन इससे हर टीम एक स्पेशलिस्ट बैटर या बॉलर के साथ मैदान पर उतर सकती है और इससे ऑलराउंडर्स को नुकसान हो रहा है।

धोनी या कार्तिक? रोहित ने बताया टी20 वर्ल्ड कप के लिए किसे मनाना आसान

रोहित शर्मा ने पॉडकास्ट शो क्लब प्रेयरी फायर पर कहा, 'मैं इम्पैक्ट सबस्टीट्यूट का समर्थक नहीं हूं। इससे ऑलराउंडर्स को नुकसान हो रहा है। क्रिकेट 11 खिलाड़ियों के बीच खेला जाता है, ना कि 12 खिलाड़ियों के बीच। लोगों के लिए इस खेल को और एंटरटेनिंग बनाने के लिए हम गेम से काफी कुछ छीन रहे हैं। शिवम दुबे और वॉशिंगटन सुंदर जैसे ऑलराउंडर्स को तो आईपीएल में बॉलिंग करने का मौका ही नहीं मिल रहा है।' 

जब तक मैं...T20 WC सिलेक्शन मीटिंग की खबरों को बकवास बताते हुए रोहित

क्या है इम्पैक्ट सब्स्टीट्यूट रूल

इस नियम के मुताबिक टॉस के बाद हर टीम प्लेइंग XI चुनने के साथ-साथ पांच और खिलाड़ियों के नाम चुनती है, जिसमें से एक का इस्तेमाल इम्पैक्ट प्लेयर के तौर पर मैच के दौरान किया जा सकता है। ऐसे में किसी स्पेशलिस्ट बैटर को किसी स्पेशलिस्ट बॉलर के साथ रिप्लेस किया जा सकता है और इसी वजह से ऑलराउंडर्स के लिए यह नियम काफी घातक साबित हो रहा है। इस तरह से प्लेइंग XI में 12वें खिलाड़ी की जगह बन जाती है और कोई भी टीम फिर कामचलाऊ बैटर या कामचलाऊ बॉलर के साथ नहीं खेलना चाहती है।