फोटो गैलरी

Hindi News क्रिकेटभयानक एक्सीडेंट के बाद भी ऋषभ पंत नहीं छोड़ रहे कार चलाने की जिद्द, बोले- मैं अब भी गाड़ी चलाऊंगा क्योंकि...

भयानक एक्सीडेंट के बाद भी ऋषभ पंत नहीं छोड़ रहे कार चलाने की जिद्द, बोले- मैं अब भी गाड़ी चलाऊंगा क्योंकि...

ऋषभ पंत ने कहा, ''अब मुझे कहा जा रहा है कि 'यार बिलकुल गाड़ी नहीं चलाना'। लेकिन कोई भी मुझसे ज्यादा डरा नहीं था। मैं अब भी गाड़ी चलाऊंगा क्योंकि मुझे गाड़ी चलाना पसंद है।''

भयानक एक्सीडेंट के बाद भी ऋषभ पंत नहीं छोड़ रहे कार चलाने की जिद्द, बोले- मैं अब भी गाड़ी चलाऊंगा क्योंकि...
Lokesh Kheraएजेंसी, भाषा,नई दिल्लीFri, 02 Feb 2024 08:25 AM
ऐप पर पढ़ें

भारत के विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत ने कहा है कि 13 महीने पहले हुए भयावह कार हादसे के बाद उन्हें अपना दाहिना पैर गंवाने का डर था। पंत दिसंबर 2022 में दिल्ली से अपने परिवार के पास अपने शहर रूड़की जा रहे थे जब उनकी कार सड़क के बीच डिवाइडर से टकरा गई। वह उस समय मीरपुर टेस्ट में भारत की जीत में अहम भूमिका निभाकर बांग्लादेश से लौटे ही थे।

India vs England Live Telecast: हॉटस्टार नहीं, IND vs ENG 2nd टेस्ट मैच का यहां फ्री में उठाएं लुत्फ

उन्होंने स्टार स्पोटर्स की सीरिज 'बिलीव : टू डैथ एंड बैक' में कहा, ''अगर कोई नस क्षतिग्रस्त होती तो पैर गंवाने का डर था। मैं उस समय डर गया था। मैंने एसयूवी ली थी लेकिन वह बाद में सेडान लग रही थी।''

हादसे को याद करते हुए उन्होंने कहा कि उनके दाहिने घुटने की हड्डी खिसक गई थी और उन्हें काफी दर्द हो रहा था। उन्होंने कहा, ''वहां आसपास कोई था तो मैने पूछा कि पैर को वापिस जगह पर लाने में मदद कर सकता है। उसने मेरे घुटने को सही जगह पर पहुंचाने में मदद की।''

दो व्यक्तियों रजत कुमार और निशु कुमार ने पंत को उनकी एसयूवी से निकाला जो बाद में आग की लपटों में थी।

शमर जोसेफ की हुई चांदी, गाबा की ऐतिहासिक जीत के बाद क्रिकेट वेस्टइंडीज से मिला खास तोहफा

पंत ने कहा ,'' जीवन में पहली बार ऐसा महसूस हुआ। हादसे के समय चोट के बारे में तो पता था लेकिन मैं खुशकिस्मत था क्योंकि यह और गंभीर हो सकती थी।''

पंत का शुरूआती इलाज देहरादून में हुआ जिसके बाद उन्हें हवाई जहाज से मुंबई ले जाया गया जहां बीसीसीआई ने विशेषज्ञ से उनका इलाज कराया। दाहिने घुटने के सभी तीनों लिगामेंट के आपरेशन के बाद पंत ने बेंगलुरू में राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी में रिहैबिलिटेशन शुरू किया। पंत मार्च में आईपीएल के जरिये वापसी कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि हर कोई उन्हें गाड़ी चलाने के लिए मना कर रहा है। उन्होंने कहा, ''अब मुझे कहा जा रहा है कि 'यार बिलकुल गाड़ी नहीं चलाना'। लेकिन कोई भी मुझसे ज्यादा डरा नहीं था। मैं अब भी गाड़ी चलाऊंगा क्योंकि मुझे गाड़ी चलाना पसंद है। एक हादसा हो गया तो इसका मतलब यह नहीं कि तुम इन चीजों को फिर दोबारा नहीं करोगे।''

जेम्स एंडरसन लगातार 22 साल टेस्ट क्रिकेट खेल आज करेंगे कमाल, क्या तोड़ पाएंगे सचिन तेंदुलकर का रिकॉर्ड?

पंत ने कहा कि वह करीब एक महीने तक बिस्तर पर रहे और सामान्य चीजें करने के लिए परेशान थे। उन्होंने धीरे धीरे घूमना शुरू कर दिया था। 

उन्होंने कहा, ''मैंने कभी नहीं सोचा था कि मुझे अपने दांत साफ करना इतना अच्छा लगेगा। जब मैं नहाने गया तो मैं 'बाथ टब' से निकलना ही नहीं चाह रहा था। इन छोटी छोटी चीजों में मुझे खुशी मिली क्योंकि मैं भाग्यशाली था कि मुझे दूसरी जिंदगी मिली। हर कोई दूसरी जिंदगी मिलने के लिए भाग्यशाली नहीं होता।''

पंत ने कहा, ''डॉक्टरों ने भी कहा कि दुर्घटना के बाद कोई फ्रेक्चर नहीं था। वे मुझे हमेशा कहते कि मैं भाग्यशाली हूं। निश्चित रूप से यह इतना भयानक हादसा था और लोगों को बुरा लगता है कि यह मेरे साथ हुआ। मैं भाग्यशाली कैसे हो सकता हूं? लेकिन इसका दूसरा पक्ष है कि हादसे के बाद भी मैं जीवित था।''
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें