फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News क्रिकेटटीम इंडिया का सिलेक्टर बनने की रेस में रीतिंदर सिंह समेत ये पूर्व खिलाड़ी, जानिए BCCI ने किसका लिया इंटरव्यू

टीम इंडिया का सिलेक्टर बनने की रेस में रीतिंदर सिंह समेत ये पूर्व खिलाड़ी, जानिए BCCI ने किसका लिया इंटरव्यू

Team India selector from North Zone: टीम इंडिया का सिलेक्टर बनने की रेस में पूर्व ऑलराउंडर रीतिंदर सिंह सोढ़ी का नाम शामिल है। बीसीसीआई ने रीतिंदर समेत कई पूर्व खिलाड़ियों का इंटरव्यू लिया है।

टीम इंडिया का सिलेक्टर बनने की रेस में रीतिंदर सिंह समेत ये पूर्व खिलाड़ी, जानिए BCCI ने किसका लिया इंटरव्यू
ajit agarkar
Md.akram एजेंसी,नई दिल्लीWed, 19 Jun 2024 11:39 PM
ऐप पर पढ़ें

पूर्व भारतीय खिलाड़ी पंजाब के ऑलराउंडर रीतिंदर सिंह सोढ़ी और हरियाणा के विकेटकीपर अजय रात्रा उन कई उम्मीदवारों में शामिल हैं जिनका राष्ट्रीय चयनकर्ता पद के लिए साक्षात्कार लिया गया है। यह पद पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज सलील अंकोला के जल्द ही पद छोड़ने के बाद खाली हो जाएगा। भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) ने हिमाचल प्रदेश के तेज गेंदबाज से मैच रेफरी बने शक्ति सिंह और पंजाब के पूर्व बल्लेबाज अजय मेहरा का भी साक्षात्कार लिया है। यह भी समझा जाता है कि जूनियर राष्ट्रीय चयनकर्ता कृष्ण मोहन भी दावेदारी में हैं, हालांकि इसकी पुष्टि नहीं की जा सकी है।

रात्रा वर्तमान में राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी (एनसीए) से क्षेत्ररक्षण कोच के रूप में जुड़े हुए हैं जबकि सोढ़ी और शक्ति बीसीसीआई के मैच रेफरी हैं। मेहरा वर्तमान में कमेंटेटर हैं। अंकोला जूनियर चयन ढांचे का हिस्सा बन सकते हैं। उन्हें राष्ट्रीय चयनकर्ता का अपना पद खाली करना होगा क्योंकि सीनियर चयन पैनल में पश्चिम क्षेत्र और उसमें भी विशेष रूप से मुंबई से दो लोग हैं। चयनकर्ताओं के अध्यक्ष अजीत अगरकर भी मुंबई से हैं और वह पैनल का नेतृत्व करेंगे इसलिए भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) की परंपरा अंकोला को बाहर जाने के लिए मजबूर करेगी। पता चला है कि अंकोला को बिना किसी गलती के बाहर जाना होगा इसलिए बीसीसीआई के अधिकारी उन्हें जूनियर चयन समिति का अध्यक्ष बनाने की योजना बना रहे हैं।

जूनियर समिति में कोई अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी नहीं है। कर्नाटक के पूर्व विकेटकीपर तिलक नायडू इसके अध्यक्ष हैं। अंकोला ने 1989 से 1997 के बीच एक टेस्ट और 20 एकदिवसीय मैच खेले हैं इसलिए वह इस पद के लिए बेहतर विकल्प हो सकते हैं। बीसीसीआई के एक वरिष्ठ सूत्र ने नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर पीटीआई को बताया, ''दिल्ली से पूर्व भारतीय ऑफ स्पिनर निखिल चोपड़ा हैं जिनके बारे में माना जाता है कि उन्हें डीडीसीए (दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ) का मजबूत समर्थन हासिल है। अन्य उम्मीदवार दिल्ली के पूर्व कप्तान मिथुन मन्हास हैं जिन्हें जम्मू-कश्मीर क्रिकेट संघ का भी समर्थन प्राप्त है।'' 

उन्होंने कहा, ''लेकिन पता चला है कि एक बहुत प्रभावशाली पूर्व पदाधिकारी चाहते थे कि पंजाब के पूर्व कप्तान कृष्ण मोहन आवेदन करें और उन्होंने उसी के अनुसार आवेदन किया। अब उन्हें यह पद मिलता है या नहीं, यह एक अलग मामला है लेकिन उन्हें आवेदन करने के लिए कहा गया था।'' ऑलराउंडर कृष्ण मोहन ने 1987 से 1993 के बीच पंजाब के लिए 45 प्रथम श्रेणी मैच खेले। वह रणजी ट्रॉफी जीतने वाली पंजाब की टीम के सदस्य थे जिसमें नवजोत सिंह सिद्धू, विक्रम राठौर और गुरशरण सिंह भी शामिल थे। अगर कृष्ण मोहन को चुना जाता है तो वह दो साल तक पद पर रह सकते हैं क्योंकि बीसीसीआई संविधान किसी ऐसे व्यक्ति को कुल मिलाकर पांच साल पद पर रहने की अनुमति देता है जो जूनियर और सीनियर दोनों चयन समिति में रहा हो।