Wednesday, January 26, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ क्रिकेटविदाई मुकाबले में रवि शास्त्री पर मेहरबान हुए थे एमएस धोनी और विराट कोहली, पूर्व हेड कोच को दिया खास तोहफा

विदाई मुकाबले में रवि शास्त्री पर मेहरबान हुए थे एमएस धोनी और विराट कोहली, पूर्व हेड कोच को दिया खास तोहफा

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीShubham Mishra
Sat, 13 Nov 2021 10:00 AM
विदाई मुकाबले में रवि शास्त्री पर मेहरबान हुए थे एमएस धोनी और विराट कोहली, पूर्व हेड कोच को दिया खास तोहफा

इस खबर को सुनें

टी-20 विश्व कप 2021 में टीम इंडिया का सफर खत्म होने के साथ ही रवि शास्त्री और विराट कोहली की सालों से चली आ रही जुगलबंदी का भी अंत हो गया। हेड कोच के तौर पर भले ही शास्त्री टीम को कोई आईसीसी ट्रॉफी ने जीता सके, लेकिन उनकी देखरेख में टीम इंडिया ने विदेशी सरजमीं पर खूब धमाल मचाया। शास्त्री की अगुवाई में भारतीय टीम ने ऑस्ट्रेलिया को उसी के घर में दो बार पटखनी दी, तो साउथ अफ्रीका और इंग्लैंड जैसी टीमों को भी दिन में तारे दिखाए। नामीबिया के खिलाफ खेला गया मैच शास्त्री के कार्यकाल का आखिरी मुकाबला रहा। इस मैच के बाद पूर्व हेड कोच को मेंटोर एमएस धोनी, विराट कोहली और रोहित शर्मा से खास गिफ्ट मिला। 

आईपीएल पहले या देश? पूर्व हेड कोच रवि शास्त्री ने दिया सटीक जवाब

इंडिया टुडे के साथ बातचीत करते हुए शास्त्री ने बताया कि धोनी ने उनको लास्ट मैच में अपनी शर्ट गिफ्ट की, जबकि कोहली और रोहित ने अपना बैट पूर्व हेड कोच को तोहफे के तौर पर दिया। बतौर हेड कोच रवि शास्त्री की देखरेख में टीम इंडिया ने 43 टेस्ट मैचों में से 25 में जीत हासिल की, जबकि वनडे में टीम को 76 मुकाबलों में से 51 में जीत हासिल हुई। शास्त्री की अगुवाई में भारीय टीम का टी-20 में रिकॉर्ड और भी दमदार रहा और टीम ने 64 मैचों में से 42 में मैदान मारा। यानी तीनों फॉर्मेट मिलाकर टीम ने 183 मैचों में से 118 में जीत दर्ज की, जबकि 53 में टीम को हार झेलनी पड़ी। 

T20 World Cup: टीम हुई बाहर, लेकिन कप्तान बाबर आजम ने तोड़ डाला 14 साल पुराना रिकॉर्ड, बाल-बाल बची कोहली की बादशाहत

रवि शास्त्री ने आईपीएल पहले या देश को लेकर छिड़ी बहस के जवाब में कहा, 'जाहिर तौर पर। इसको लेकर कोई सवाल ही नहीं है, अगर ऐसा नहीं होता तो पिछले पांच सालों में इस तरह का प्रदर्शन आपको देखने को नहीं मिलता। अगर देश के लिए खेलते हुए आपको दिमाग उस समय वहां नहीं होता तो, कौन ही बेवकूफ होगा जो देश के लिए खेलने से ज्यादा तवज्जो फ्रेंचाइजी क्रिकेट को देगा। वह भारत के लिए खेल रहे हैं, आपके चेस्ट पर बिल्ला होता है, आपको दुनिया के करोड़ों लोग देख रहे होते हैं। आप काफी लकी हैं, जो इतनी आबादी वाले देश में उन ग्यारह खिलाड़ियों में शामिल हैं जिनको देश का प्रतिनिधित्व करने का मौका मिल रहा है। तो यह सब दूर की कोड़ी है और जो ऐसा कह रहा है उसके लिए मेरे पास टाइम नहीं है।'

epaper

संबंधित खबरें