फोटो गैलरी

Hindi News क्रिकेटRanji Trophy 2024 Mumbai vs Tamil Nadu: 48वीं बार मुंबई पहुंचा रणजी ट्रॉफी फाइनल में, शार्दुल ठाकुर बने मैन ऑफ द मैच

Ranji Trophy 2024 Mumbai vs Tamil Nadu: 48वीं बार मुंबई पहुंचा रणजी ट्रॉफी फाइनल में, शार्दुल ठाकुर बने मैन ऑफ द मैच

रणजी ट्रॉफी 2024 को अपना पहला फाइनलिस्ट मिल गया है। मुंबई ने दूसरे सेमीफाइनल मुकाबले में तीसरे दिन ही तमिलनाडु को एक पारी और 70 रनों से हराकर फाइनल का टिकट पक्का कर लिया है। शार्दुल मैन ऑफ द मैच बने।

Ranji Trophy 2024 Mumbai vs Tamil Nadu: 48वीं बार मुंबई पहुंचा रणजी ट्रॉफी फाइनल में, शार्दुल ठाकुर बने मैन ऑफ द मैच
Namita Shuklaलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीMon, 04 Mar 2024 04:48 PM
ऐप पर पढ़ें

Ranji Trophy 2nd Semifinal Mumbai vs Tamil Nadu: मुंबई ने रणजी ट्रॉफी 2023-24 के फाइनल में जगह पक्की कर ली है। मुंबई वर्सेस तमिलनाडु दूसरे सेमीफाइनल मुकाबला मुंबई के शरद पवार क्रिकेट एकैडमी बीकेसी मैदान पर खेला गया और तीन दिन के अंदर ही खत्म हो गया। अपने दमदार ऑलराउंड प्रदर्शन के दम पर शार्दुल ठाकुर को मैन ऑफ द मैच चुना गया। शार्दुल ने मुंबई की ओर से शतक भी लगाया और दोनों पारियों में क्रम से दो-दो विकेट भी चटकाए। शार्दुल ने जिस परिस्थिति में यह शतक लगाया, उसे लंबे समय तक याद किया जाएगा। तमिलनाडु ने टॉस जीतकर पहले बैटिंग का फैसला लिया। पिच से गेंदबाजों को काफी मदद मिल रही थी, ऐसे में तमिलनाडु के पहले बैटिंग के फैसले को लेकर काफी विवाद भी हुआ। तमाम दिग्गज क्रिकेटरों ने इस फैसले के लिए तमिलनाडु के कप्तान साइ किशोर की काफी आलोचना की।

पहली पारी में तमिलनाडु की टीम महज 146 रनों पर सिमट गई। विजय शंकर ने 44 जबकि वॉशिंगटन सुंदर ने 43 रनों की पारी खेली। इन दोनों के अलावा तमिलनाडु का कोई और बैटर पहली पारी में 20 रनों के आंकड़े तक भी नहीं पहुंच पाया। पहली पारी में तुषार देशपांडे ने तीन विकेट चटकाए, जबकि शार्दुल, मुशीर खान और तनुष कोटियन ने दो-दो विकेट चटकाए।

आर अश्विन वर्सेस नाथन लियोन, रूट ने बताया दोनों में कौन ज्यादा खतरनाक

मुंबई की बैटिंग के टॉप ऑर्डर में श्रेयस अय्यर, पृथ्वी शॉ, कप्तान अजिंक्य रहाणे जैसे बड़े नाम शामिल थे, लेकिन इनमें से कोई कुछ खास नहीं कर पाया। मुशीर खान ने जरूर 55 रनों की पारी खेली, लेकिन एक समय मुंबई का स्कोर पहली पारी में सात विकेट पर 106 रन हो गया था। मुंबई टीम की हालत ऐसी थी कि लग रहा था कि क्या वह पहली पारी में बढ़त भी बना पाएगी या नहीं। शार्दुल ठाकुर ने इसके बाद जिम्मा उठाया, पहले हार्दिक तामोर के साथ मिलकर उन्होंने स्कोर 2011 रनों तक पहुंचाया। हार्दिक 35 रन बनाकर आउट हुए, वहीं शार्दुल ने 109 रनों की धमाकेदार पारी खेली। ठाकुर ने 104 गेंदों पर 13 चौके और चार छक्कों की मदद से ये पारी खेली।

SRH में क्यों नहीं टिकता कोई भी कप्तान? 12 सीजन में 10 को मिली है कमान

सेमीफाइनल में 10वें नंबर पर बैटिंग करते हुए शतक लगाने वाले तनुष ने 89 रनों की पारी खेली, जबकि 11वें नंबर पर उतरे तुषार देशपांडे ने 26 रन बनाए। सात विकेट पर 106 रनों से मुंबई ने पहली पारी में कुल 378 रन बना डाले। इसके बाद तमिलनाडु दूसरी पारी में महज 162 रनों पर ऑलआउट हो गया और इस तरह से मुंबई ने 47वीं बार रणजी ट्रॉफी के फाइनल का टिकट कटाया। बाबा इंद्रजीत ने दूसरी पारी में तमिलनाडु की ओर से 70 रनों की पारी खेली। शम्स मुलानी ने चार विकेट चटकाए, जबकि शार्दुल, मोहित अवस्थी और तनुष ने दो-दो विकेट चटकाए। मुंबई अभी तक 47 बार रणजी ट्रॉफी के फाइनल में पहुंच चुका है, जिसमें से 41 बार उसने खिताब अपने नाम किया है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें