फोटो गैलरी

Hindi News क्रिकेटRanji Trophy: रेलवे ने रणजी ट्रॉफी में रचा इतिहास, त्रिपुरा के खिलाफ चेज किया टूर्नामेंट का सबसे बड़ा टारगेट

Ranji Trophy: रेलवे ने रणजी ट्रॉफी में रचा इतिहास, त्रिपुरा के खिलाफ चेज किया टूर्नामेंट का सबसे बड़ा टारगेट

रेलवे की टीम ने त्रिपुरा के खिलाफ रणजी ट्रॉफी के इतिहास का सबसे बड़ा टारगेट चेज कर इतिहास कर दिया है। चौथी पारी में सलामी बल्लेबाज प्रथम सिंह के दम पर रेलवे ने 378 रनों के टारगेट को चेज किया।

Ranji Trophy: रेलवे ने रणजी ट्रॉफी में रचा इतिहास, त्रिपुरा के खिलाफ चेज किया टूर्नामेंट का सबसे बड़ा टारगेट
Lokesh Kheraलाइव हिंदुस्तान टीम,नई दिल्लीMon, 19 Feb 2024 01:04 PM
ऐप पर पढ़ें

रणजी ट्रॉफी में उस समय इतिहास रचा गया जब मौजूदा सीजन में रेलवे की टीम ने त्रिपुरा के खिलाफ टूर्नामेंट का सबसे बड़ा टारगेट चेज किया। यह कारनामा उन्होंने सोमवार को एमबीबी स्टेडियम, अगरतला में अपने अंतिम लीग मैच में किया। रेलवे की जीत के हीरो सलामी बल्लेबाज प्रथम सिंह रहे जिन्होंने 169 रनों की नाबाद पारी खेली। इस मैच की पहली पारी में जहां दोनों टीमें 200 रन का आंकड़ा नहीं छू पाई थीं, वहीं दूसरी इनिंग में दोनों टीमों ने 300 से अधिक रन बनाकर मैच को रोमांचक बना दिया। रेलवे ने यह मैच 5 विकेट के अंतर से जीता।

बेन स्टोक्स का दावा- जो रूट का शॉट टर्निंग पॉइंट था, लेकिन मैं उनसे कुछ बोलने वाला कौन होता हूं

इस मैच में रेलवे ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला लिया था, उनका यह फैसला तब सही साबित हुआ जब गेंदबाजों ने त्रिपुरा की पुरी टीम को मात्र 149 रनों पर समेट दिया। रेलवे के लिए युवराज सिंह ने सर्वाधिक 4 विकेट चटकाए थे। त्रिपुरा के इस स्कोर को देख उम्मीद जताई जा रही थी कि रेलवे की टीम बड़ा स्कोर बनाकर मैच को पारी के अंतर से जीत सकती है, मगर उनकी हालत तो त्रिपुरा से भी बुरी हुई। रेलवे की पहली पारी 105 रनों पर ही सिमट गई। इस दौरान दो ही बल्लेबाज दहाई का आंकड़ा छू पाए। 149 रन बनाने के बावजूद त्रिपुरा ने पहली पारी के बाद 44 रनों की बढ़त हासिल की।

रोहित शर्मा से लेकर शुभमन गिल तक...भारतीय टीम ने बताया IND vs ENG तीसरे टेस्ट का टर्निंग पॉइंट

त्रिपुरा ने इसके बाद अपना ए गेम दिखाया और दूसरी पारी में 333 रन बोर्ड पर लगाकर रेलवे के सामने 378 रनों का टारगेट रखा। इस दौरान त्रिपुरा के दो बल्लेबाज सुदीप चटर्जी (95) और गणेश सतीश (62) अर्धशतक लगाने में कामयाब रहे।

तीसरे दिन के दूसरे हाफ में जब रेलवे ने इस विशाल लक्ष्य का पीछा करना शुरू किया तो शुरुआत में उनकी टीम एक बार फिर चरमरा गई। उनका शीर्ष क्रम मात्र 31 रनों पर लड़खड़ा गया। टीम ने इस दौरान तीन विकेट खोए। हालांकि इसके बाद सलामी बल्लेबाज प्रथम सिंह और मोहम्मद सैफ (106) ने चौथे विकेट के लिए 175 रन की साझेदारी की, जिससे रेलवे को लक्ष्य का पीछा करने में मदद मिली। प्रथम, कप्तान उपेन्द्र यादव (नाबाद 27) के साथ 169 रन (16 चौके, एक छक्का) बनाकर नाबाद रहे और रेलवे ने 103 ओवर में 5 विकेट रहते कठिन लक्ष्य को हासिल किया।

बेन डकेट ने मांगा यशस्वी जायसवाल की तूफानी बल्लेबाजी का क्रेडिट तो भड़के माइकल वॉन, बोले- जैसे कभी किसी ने...

इस विशाल टारगेट को चेज कर रेलवे ने सौराष्ट्र का रिकॉर्ड दौड़ा जिन्होंने 2019-20 में उत्तर प्रदेश के खिलाफ 372 रनों का टारगेट चेज किया था।

रणजी ट्रॉफी के इतिहास में सबसे बड़ी रन चेज-

378/5 रेलवे बनाम त्रिपुरा - 2023-24
372/4 सौराष्ट्र बनाम उत्तर प्रदेश - 2019-20
371/4 असम बनाम सेवा - 2008-09
360/4 राजस्थान बनाम विदर्भ  - 1989-90
359/4 उत्तर प्रदेश बनाम महाराष्ट्र – 2021-22

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें