DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

महेंद्र सिंह धौनी के फैन हैं तो यहां मिलेगा मुफ्त में खाना

शंभू के इस छोटे से रेस्टोरेंट में मुख्यत: बंगाली खाना ही मिलता है। रेस्टोरेंट में हर कोने में धौनी के पोस्टर हैं। आलम यह है कि दीवारें कहां खाली हैं, यह पता लगाने के लिए मशक्कत करनी पड़ती है।

ms dhoni  afp

अगर आप क्रिकेटर महेंद्र सिंह धौनी (MS Dhoni) के प्रशंसक हैं और शंभू बोस के रेस्टोरेंट में पहुंचते हैं तो आपका पेट बिना पैसे दिए भर सकता है। धौनी के बड़े प्रशंसक शंभू पश्चिम बंगाल के अलीपुरद्वार जिले में एक रेस्टोरेंट चलाते हैं, जिसका नाम 'एमएस धौनी रेस्टोरेंट' है। इस रेस्टोरेंट की खास बात यह है कि 32 साल के शंभू धौनी के प्रशंसकों को मुफ्त में भोजन देते हैं। 

शंभू ने कहा, “इस दुर्गा पूजा को हम दो साल पूरे कर लेंगे। यहां हर कोई इस जगह को जानता है, लोग यहां खाने के लिए आते हैं। आप किसी से भी धौनी के होटल के बारे में पूछ लीजिए, आप यहां आ ही जाएंगे।”

धौनी ने मेरठ में बनवाया था ‘बलिदान बैज’ वाला दस्ताना

शंभू से जब धौनी से लगाव के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, “उनकी तरह कोई नहीं है। मैं जब बच्चा था, तभी से उनको पसंद करता हूं। वह जिस तरह से हैं, जिस तरह से वे क्रिकेट खेलते हैं, उसी से पता चलता है कि लेजेंड कैसे बनते हैं। वह मेरे लिए प्रेरणा है।”

शंभू के इस छोटे से रेस्टोरेंट में मुख्यत: बंगाली खाना ही मिलता है। रेस्टोरेंट में हर कोने में धौनी के पोस्टर हैं। आलम यह है कि दीवारें कहां खाली हैं, यह पता लगाने के लिए मशक्कत करनी पड़ती है।

उन्होंने कहा, “ऐसा ही मेरे घर पर भी है। उन्हें देखकर मैंने काफी कुछ सीखा है। मैं एक दिन उनसे मिलना चाहता हूं लेकिन मेरे पास स्टेडियम में जाकर मैच देखने के पैसे नहीं हैं।”

CWC 2019: सानिया मिर्जा ने भारत-पाक वर्ल्ड कप मैच से पहले किया ये ट्वीट

शंभू ने कहा, “मैं जानता हूं कि मेरा सपना कभी पूरा नहीं होगा, लेकिन अगर मैं उनसे किसी दिन मिल सका तो मैं उनसे मेरे रेस्टोरेंट में आने को कहूंगा। मुझे पता है कि उन्हें भात-मच्छी पसंद है।”

शंभू ने दो अप्रैल 2011 को याद करते हुए कहा, “मैं उस समय चाय की दुकान चलाता था। उसका कोई नाम नहीं था लेकिन उसमें धौनी का छोटा सा पोस्टर था। मुझे उनके लंबे बाल पसंद थे। मुझे याद है कि मैंने 2011 विश्व कप का फाइनल अपने दोस्तों के साथ मेरी चाय की दुकान पर देखा था। मैं वो रात कभी नहीं भूल सकता, (खुशी में) मैं काफी रोया था।”

भारत ने दो अप्रैल 2011 को 28 साल बाद विश्व कप जीता था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Perks of Being an MS Dhoni Fan in West Bengal Alipurduar A Free Meal