DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   क्रिकेट  ›  पार्थिव पटेल ने कहा, उनके टीम से बाहर होने की वजह धोनी नहीं बल्कि खराब प्रदर्शन था
क्रिकेट

पार्थिव पटेल ने कहा, उनके टीम से बाहर होने की वजह धोनी नहीं बल्कि खराब प्रदर्शन था

लाइव हिंदुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Hemraj Chauhan
Thu, 22 Jul 2021 02:51 PM
पार्थिव पटेल ने कहा, उनके टीम से बाहर होने की वजह धोनी नहीं बल्कि खराब प्रदर्शन था

2000 के दशक में टीम इंडिया में महेंद्र सिंह धोनी से पहले कई विकेटकीपर बल्लेबाजों ने खेला लेकिन कोई भी अपनी जगह नहीं पक्की कर पाया। धोनी ने करीब 15 साल तक टीम इंडिया की तरफ से इंटरनेशनल क्रिकेट में विकेटकीपर की भूमिका निभाई। पार्थिव पटेल ने भी 2010 के दशक में भारतीय टीम की तरफ से खेला लेकिन वो टीम में अपनी जगह पक्की नहीं कर पाए। साल 2004 में उन्हें टीम से ड्ऱॉप कर दिया गया था। पार्थिव पटेल का मानना है कि उन्होंने धोनी की वजह से टीम इंडिया में अपनी जगह नहीं खोई बल्कि वो उन्हें मिले मौकों का फायदा नहीं उठा पाए।

पार्थिव पटेल ने कर्टली एंड करिश्मा शो पर बातचीत के दौरान कहा,' ईमानदारी से कहूं तो मुझे नहीं लगता है कि मैं अनलकी था। मुझे धोनी से पहले टीम इंडिया के लिए खेलने का मौका मिला था। मुझे टीम से इसलिए ड्रॉप किया गया था क्योंकि इंटरनेशनल क्रिकेट के हिसाब से मेरा परफॉर्मेंस अच्छा नहीं था। इसके बाद एम एस धोनी टीम में आ गए। मैं सिर्फ इसलिए खुद को अनलकी नहीं कह सकता हूं कि मुझे ज्यादा खेलने का मौका नहीं मिला। मैं ड्रॉप होने से पहले 19 टेस्ट खेल चुका था। मैं ये भी नहीं कह सकता कि मुझे पर्याप्त मौके नहीं मिले। 19 टेस्ट मैच बहुत होते हैं।'

IND vs SL: आकाश चोपड़ा ने बताया, तीसरे वनडे में कैसी होनी चाहिए टीम इंडिया की प्लेइंग XI

धोनी ने विकेटकीपर के अलावा भारतीय टीम का नेतृत्व किया। हालांकि धोनी के रहते पटेल, दिनेश कार्तिक, साहा और ऋषभ पंत ने धोनी के सक्रिय दिनों के दौरान राष्ट्रीय टीम में जगह बनाई, लेकिन उन्हें केवल एक विशेषज्ञ बल्लेबाज के रूप में खेलने का मौका मिला। पटेल ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट सीरीज जीतने वाली पहली भारतीय टीम के सदस्य थे। पटेल ने भारत की तरफ से 25 टेस्ट, 38 वनडे और 2 टी20 मैच खेले। उन्होंने टेस्ट में 934, वनडे में 736 और टी20 में 36 रन बनाए। वो आईपीएल में धोनी के नेतृत्व में भी खेले। 

संबंधित खबरें