फोटो गैलरी

Hindi News क्रिकेटपाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड की फिर हुई जग हंसाई, इंजर्ड शादाब खान को स्टेडियम में नहीं मिला स्ट्रेचर

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड की फिर हुई जग हंसाई, इंजर्ड शादाब खान को स्टेडियम में नहीं मिला स्ट्रेचर

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड की एक बार फिर से जग हंसाई हो गई, क्योंकि इंजर्ड ऑलराउंडर शादाब खान को कराची के स्टेडियम में स्ट्रेचर नहीं मिला। टी20 नेशनल कप के दौरान वे फील्डिंग करते हुए चोटिल हो गए थे। 

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड की फिर हुई जग हंसाई, इंजर्ड शादाब खान को स्टेडियम में नहीं मिला स्ट्रेचर
Vikash Gaurलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSun, 03 Dec 2023 07:55 PM
ऐप पर पढ़ें

पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड यानी पीसीबी की एक बार फिर से जग हंसाई हो गई, क्योंकि एक इंजर्ड प्लेयर को मैदान से बाहर ले जाने के लिए स्ट्रेचर तक उपलब्ध नहीं था। खिलाड़ी को उसके साथी ने अपनी पीठ पर बिठाया और फिर उसे ट्रीटमेंट के लिए ड्रेसिंग रूम ले जाया गया। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के साथ अक्सर ऐसा होता रहता है। कभी स्टेडियम की बत्ती गुल हो जाती है तो कभी अन्य चीजों को लेकर बोर्ड सुर्खियों में रहता है। 

दरअसल, नेशनल टी20 कप का एक मैच सियालकोट और रावलपिंडी के बीच कराची के यूबीएल कॉम्प्लेक्स में खेला जा रहा था। इसी मैच के दौरान रावलपिंडी की टीम के कप्तान शादाब खान फील्डिंग करते समय चोटिल हो गए। उनके पैर में चोट लगी थी और वे फील्ड के बाहर जाने में भी असमर्थ थे। स्ट्रेचर की मांग की गई, लेकिन स्टेडियम में स्ट्रेचर उपलब्ध नहीं था। ऐसे में एक दूसरे खिलाड़ी ने शादाब को पीठ पर बिठाकर बाहर किया। 

पाकिस्तान के ही एक शख्स ने इस पूरे मामले को लेकर पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड को घेरा है। फरीद नाम के शख्स ने सवाल किया है, "क्या हम 1980 में हैं? वे शादाब खान को मैदान से बाहर कैसे ले जा रहे हैं? कोई स्ट्रेचर नहीं है क्या पीसीबी के पास? यूबीएल कॉम्प्लेक्स भी कराची में है, सुक्कुर में तो नहीं।" स्ट्रेचर को एक बुनियादी सुविधा के रूप में देखा जाता है। अगर स्टेडियम में एक स्ट्रेचर भी नहीं है तो इसकी जिम्मेदारी पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड की है। 

पैट कमिंस की शान में इयान चैपल ने कह दी बहुत बड़ी बात, बोले- कोई क्रिकेटर ऐसा नहीं कर पाता तो वह गलत खेल में

शादाब खान की बात करें तो वे पाकिस्तान की वर्ल्ड कप 2023 स्क्वॉड का हिस्सा थे। हालांकि, पूरे टूर्नामेंट में वे विकेट के लिए तरसते नजर आए थे। यहां तक कि उनके बल्ले से भी रन नहीं निकले थे। कप्तान बाबर आजम ने उनको कुछ मैचों में बाहर रखा था, लेकिन आलोचना होने के बाद और बाकी खिलाड़ियों के खराब प्रदर्शन की वजह से उनको फिर से मौका दिया गया था। हालांकि, उन्होंने पाकिस्तान टीम और टीम के फैंस को निराश किया था। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें