DA Image
22 अक्तूबर, 2020|9:04|IST

अगली स्टोरी

बीसीसीआई सूत्र के मुताबिक- फिलहाल आईपीएल रिव्यू मीटिंग की तारीख को लेकर फैसला नहीं

ipl trophy photo-social media

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) को लेकर लेकर एक रिव्यू मीटिंग होनी है, लेकिन अभी तक इसकी कोई तारीख निर्धारित नहीं की गई है। आईपीएल का टाइटल स्पॉन्सर 'वीवो' है, जो चीनी कंपनी है।  गलवान घाटी में 15 जून को 20 भारतीय सैनिकों की मौत के बाद चीन के प्रोडक्ट्स के बहिष्कार की मांग लगातार जोर पकड़ रही है। भारतीय सरकार ने टिकटॉक समेत 59 चीनी ऐप को भी बैन कर दिया है। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के एक सूत्र के मुताबिक आईपीएल रिव्यू मीटिंग के लिए अभी कोई तारीख निर्धारित नहीं की गई है।

पाकिस्तान और इंग्लैंड के क्रिकेटरों ने पास किया लेटेस्ट कोविड-19 टेस्ट

एएनआई के ट्वीट के मुताबिक बीसीसीआई के सूत्र ने कहा, 'अभी आईपीएल रिव्यू मीटिंग की तारीख को लेकर कोई फैसला नहीं लिया गया है। कुछ मसले हैं जिस पर बीसीसीआई काम कर रहा है। आईपीएल के आसपास के सभी मसलों पर जब हम काम कर लेंगे तब यह मीटिंग होगी।' इससे पहले मंगलवार को किंग्स इलेवन पंजाब के को-ओनर नेस वाडिया ने भारत और चीन के बीच बढ़ते तनाव के कारण आईपीएल में चीन की कंपनियों के प्रायोजन को धीरे-धीरे खत्म करने की मांग की थी।

भज्जी ने शेयर किया द्रविड़ का यह VIDEO, लक्ष्मण-कुंबले ने किया रिऐक्ट

गलवान घाटी में भारतीय और चीनी सेना के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद से बीसीसीआई को चीन की कंपनियों द्वारा प्रायोजन की समीक्षा के लिए आईपीएल संचालन परिषद की बैठक बुलानी पड़ी, लेकिन यह बैठक अब तक नहीं हो पाई है। 

वीवो हर साल बीसीसीआई को देता है 440 करोड़ रुपये

गलवान में भारतीय हिस्से की तरफ चीन द्वारा चौकी बनाए जाने का जब भारतीय सैनिकों ने विरोध किया तो चीन के सैनिकों ने पत्थरों, कील लगे डंडों और लोहे की सलाखों से उन पर हमला कर दिया। नाथुला में 1967 के बाद यह दोनों देशों की सेनाओं के बीच सबसे बड़ी झड़प थी। भारत ने तब लगभग 80 सैनिक गंवाए थे, जबकि चीन के 300 से अधिक सैनिक मारे गए थे। चीन की मोबाइल फोन कंपनी वीवो आईपीएल की टाइटल स्पॉन्सर है और 2022 तक चलने वाले करार के तहत वो हर साल बीसीसीआई को 440 करोड़ रुपये देती है।
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:no date has been decided for the Indian Premier League IPL review meeting there are issues that BCCI is looking into