Tuesday, January 25, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ क्रिकेटविराट कोहली से जुदा है केन विलियमसन की राय, कहा- वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का एक फाइनल होना रोमांचक

विराट कोहली से जुदा है केन विलियमसन की राय, कहा- वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का एक फाइनल होना रोमांचक

एजेंसी,नई दिल्लीShubham Mishra
Thu, 24 Jun 2021 06:52 PM
विराट कोहली से जुदा है केन विलियमसन की राय, कहा- वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का एक फाइनल होना रोमांचक

आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल में न्यूजीलैंड टीम को चैंपियन बनाने वाले केन विलियमसन की राय भारतीय कप्तान विराट कोहली से एकदम से अलग है। विराट ने कीवी टीम के हाथों मिली हार के बाद कहा था कि डब्ल्यूटीसी के विजेता का चयन करने के लिए बेस्ट ऑफ थ्री यानी तीन मैचों की सीरीज खेली जानी चाहिए। हालांकि, विलियमसन ऐसा नहीं मानते हैं। न्यूजीलैंड के कप्तान ने कहा कि डब्ल्यूटीसी का एक फाइनल होना रोमांचक है और एकबार में कुछ भी हो सकता है। 

फैन्स के लिए आई अच्छी खबर, IPL 2021 के दूसरे फेस में उपलब्ध होंगे न्यूजीलैंड के खिलाड़ी

केन विलियमसन ने कहा, 'मुझे लगता है कि फाइनल का रोमांचक हिस्सा यह है कि एक बार में कुछ भी हो सकता है। हम जानते हैं कि क्रिकेट कितना अस्थिर है और हमने अन्य टूर्नामेंटों, विश्व कप और अन्य सभी छोटे फॉर्मेट में यह देखा है। इकलौते फाइनल का एकमात्र कारक अनूठी गतिशीलता भी है, जो इसे रोमांचक बनाता है। एक बार में कुछ भी हो सकता है। हम उस बयान के सभी अलग-अलग पक्षों पर रहे हैं। मुझे लगता है कि दोनों टीमों के लिए तर्क हैं और मुझे लगता है कि सबसे बड़ी चुनौती शेड्यूलिंग होगी, क्योंकि बहुत ज्यादा क्रिकेट के बीच सीरीज का आयोजन मुश्किल होगा, लेकिन इसमें कोई संदेह नहीं है कि अगर आपके पास एक सीरीज होगी और जितना अधिक क्रिकेट होगा, आप उतना ही अधिक अच्छा कर पाएंगे और यह आपके कैरेक्टर को प्रमाणित करेगा। यह सच में एक रोमांचक मैच था। पहली बार ऐसी टूर्नामेंट हुई है और दोनों टीमें खेल के लिए पूरी तरह से तैयार थीं।'

इंग्लैंड में बढ़े कोरोना के केस, बीसीसीआई रद्द कर सकता है भारतीय टीम की छुट्टियां

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने न्यूजीलैंड के हाथों मिली 8 विकेट से हार के बाद डब्ल्यूटीसी फाइनल के मौजूदा फॉर्मेट पर सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था, 'मैं इसका पक्ष में नहीं हूं कि दुनिया की बेस्ट टेस्ट टीम का निर्धारण एक फाइनल मैच से हो। अगर टेस्ट सीरीज है तो तीन टेस्ट से ही पता चलता है कि किस टीम में वापसी की क्षमता है । ऐसा नहीं होता कि दो दिन अच्छा खेले और फिर आप अचानक अच्छी टेस्ट टीम नहीं हैं। मैं यह नहीं मानता। भविष्य में इस पर विचार किया जाना चाहिए । तीन मैचों में प्रयास होते हैं, उतार चढाव होते हैं , हालात बदलते हैं। गलतियों को सुधारने का मौका मिलता है । इसके बाद पता चलता है कि बेस्ट टीम कौन सी है।'

epaper

संबंधित खबरें