फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ क्रिकेटनमन ओझा ने लीजेंड्स लीग में वर्ल्ड जायंट्स के खिलाफ ठोका तूफानी शतक, भारत ने बनाए 209 रन 

नमन ओझा ने लीजेंड्स लीग में वर्ल्ड जायंट्स के खिलाफ ठोका तूफानी शतक, भारत ने बनाए 209 रन 

ओमान में खेली जा रही लीजेंड्स लीग क्रिकेट 2022 का पहला शतक भारतीय बल्लेबाज ने ठोका है। इंडिया महाराजा के ओपनर नमन ओझा ने वर्ल्ड जायंट्स के खिलाफ तूफानी शतक ठोका है। शतक ठोककर उन्होंने इस टूर्नामेंट...

नमन ओझा ने लीजेंड्स लीग में वर्ल्ड जायंट्स के खिलाफ ठोका तूफानी शतक, भारत ने बनाए 209 रन 
Vikash Gaurलाइव हिंदुस्तान टीम,नई दिल्लीSat, 22 Jan 2022 09:36 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/

ओमान में खेली जा रही लीजेंड्स लीग क्रिकेट 2022 का पहला शतक भारतीय बल्लेबाज ने ठोका है। इंडिया महाराजा के ओपनर नमन ओझा ने वर्ल्ड जायंट्स के खिलाफ तूफानी शतक ठोका है। शतक ठोककर उन्होंने इस टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड भी बना लिया है। उन्हीं की शतकीय पारी के दम पर इंडिया महाराजा ने वर्ल्ड जायंट्स के सामने जीत के लिए 210 रन का लक्ष्य रखा है। 

वर्ल्ड जायंट्स के खिलाफ मैच में नमन ओझा ने 57 गेंदों में 12 चौके और 5 छक्कों की मदद से शतक ठोका। वे इस मैच में 69 गेंदों में 15 चौके और 9 छक्कों की मदद से 140 रन बनाकर आउट हुए। हालांकि, पहले मैच में एशिया लायंस के खिलाफ वे ज्यादा कुछ कमाल नहीं दिखा पाए थे और सिर्फ 10 रन बनाकर आउट हो गए थे। इस मैच में इंडिया महाराजा ने नमन ओझा के शतक की बदौलत निर्धारित 20 ओवर में 3 विकेट खोकर 209 रन बनाए।

नमन के अलावा कप्तान मोहम्मद कैफ ने भी शानदार पारी खेली। मोहम्मद कैफ ने 44 गेंदों में अपना अर्धशतक पूरा किया। कैफ ने 47 गेंदों में नाबाद 53 रन बनाए। पारी की आखिरी गेंद पर यूसुफ पठान ने छक्का जड़ा। बता दें कि वसीम जाफर और एस बद्रीनाथ खाता भी नहीं खोल पाए थे। ऐसे में नमन ओझा और कप्तान मोहम्मद कैफ के ऊपर ज्यादा जिम्मेदारी थी कि वे एक बड़ा स्कोर हासिल करें और टीम ने ऐसा किया भी। 

लीजेंड्स लीग क्रिकेट के पहले सीजन में इंडिया महाराजा ने शानदार खेल दिखाया है। इस मुकाबले से पहले एशिया लायंस को भारत ने बुरी तरह हराया था। उस मैच में यूसुफ पठान का बल्ला चला था। पठान ने 40 गेंदों में 9 चौके और 5 छक्कों की मदद से 80 रन की पारी खेली थी और भारत की टीम को मैच जिताया था। वे उस समय बल्लेबाजी करने आए थे, जब टीम बड़े लक्ष्य का पीछा करते हुए संघर्ष कर रही थी। 

epaper