DA Image
Tuesday, December 7, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ क्रिकेटवर्तमान में किस खिलाड़ी के खिलाफ बॉलिंग नहीं करना चाहेंगे? मुथैया मुरलीधरन ने दिया जवाब

वर्तमान में किस खिलाड़ी के खिलाफ बॉलिंग नहीं करना चाहेंगे? मुथैया मुरलीधरन ने दिया जवाब

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीMohan Kumar
Fri, 15 Oct 2021 06:04 PM
वर्तमान में किस खिलाड़ी के खिलाफ बॉलिंग नहीं करना चाहेंगे? मुथैया मुरलीधरन ने दिया जवाब

श्रीलंका के महान स्पिनर मुथैया मुरलीधरन ने वर्तमान समय के उस बल्लेबाज का नाम बताया है, जिसके खिलाफ वे गेंदबाजी करना पसंद नहीं करेंगे। उन्होंने यहां भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली का नाम लिया है। मुरलीधरन के नाम टेस्ट और वनडे में सबसे ज्यादा विकेट लेने का वर्ल्ड रिकॉर्ड दर्ज है। इंटरनेशनल क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट चटकाने वाले मुरलीधरन और विराट इंटरनेशनल क्रिकेट में कई बार एक-दूसरे के खिलाफ खेल चुके हैं।

IPL 2021 Final, CSK vs KKR : फाइनल से पहले हेलिकॉप्टर शॉट उड़ाते नजर आए एमएस धोनी, देखें- VIDEO

वर्तमान समय में विराट की गिनती दुनिया के बेस्ट बल्लेबाजों में शुमार की जाती है और वे स्पिनरों के खिलाफ भी बेहतर खेलते हैं। 'ईएसपीएन क्रिकइंफो' से बात करते हुए कोहली के बारे में मुरलीधरन ने कहा, 'मैंने कोहली के सामने 2011 वर्ल्ड कप और आईपीएल में खेला है। वह स्पिन को अच्छा और सीधे बल्ले से खेलते हैं।' मुरलीधरन ने कुछ समय पहले ही उन खिलाड़ियों के नाम का भी खुलासा किया था, जिनके खिलाफ उन्हें गेंदबाजी करने से डर लगता था। यहां उन्होंने भारतीय टीम के पूर्व विस्फोटक सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग और वेस्टइंडीज के महान कप्तान ब्रायन लारा का नाम लिया था।

T-20 World Cup: केन विलियमसन ने दिया अपनी चोट पर अपडेट, बताया कब शुरू करेंगे प्रैक्टिस 

यहां मुरलीधरन ने सहवाग की बल्लेबाजी की जमकर तारीफ की थी। उन्होंने कहा था, 'सहवाग बेहद खतरनाक था। उनके लिए हम बाउंड्री लाइन के पास फील्डर लगाकर रखते थे, क्योंकि हम जानते थे कि वह लंबे शॉट खेलने के लिए मौका देखेगा। वह जानता था कि जब उसका दिन होगा तो वह किसी पर भी आक्रमण कर सकता है। फिर हम डिफेंसिव फील्डिंग लगाकर क्या करते।'

बता दें कि मुरलीधरन ने साल 1992 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपना इंटरनेशनल करियर शुरू किया था और आखिरी मैच भारत के खिलाफ खेला। टेस्ट क्रिकेट में 800 और वनडे में 534 विकेट लेने वाले इस गेंदबाज का बॉलिंग में कद ठीक वैसा ही है, जैसा मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर का बल्लेबाजी में है। संन्यास के वक्त तक मुरलीधरन वनडे क्रिकेट में 534 विकेट के आंकड़े पर पहुंच गए थे। वनडे की तरह मुरलीधरन के नाम टेस्ट क्रिकेट में भी सर्वाधिक 800 विकेट लेने का वर्ल्ड रिकॉर्ड दर्ज है। इस तरह इंटरनेशनल क्रिकेट को जब मुरलीधरन ने छोड़ा तो वे टेस्ट, वनडे और टी-20 में मिलाकर कुल 1347 विकेट लेने का अविश्वसनीय रिकॉर्ड अपने नाम कर चुके थे।

वर्तमान में किस खिलाड़ी के खिलाफ बॉलिंग नहीं करना चाहेंगे? मुथैया मुरलीधरन ने दिया जवाब
सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें