msk prasad statement on ms dhoni jasprit bumrah and hardik pandya india tour to west indies 2019 - धौनी के भविष्य को लेकर एमएसके प्रसाद ने दिया बड़ा बयान, जानिए क्या कहा DA Image
6 दिसंबर, 2019|11:25|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

धौनी के भविष्य को लेकर एमएसके प्रसाद ने दिया बड़ा बयान, जानिए क्या कहा

प्रसाद का मानना है कि अगर ऐसा होता तो जसप्रीत बुमराह टेस्ट स्तर पर शानदार प्रदर्शन नहीं कर पाते और हार्दिक पांड्या जैसा खिलाड़ी टी20 से उभरकर टेस्ट क्रिकेटर नहीं बन पाता।

ms dhoni  rishabh pant  ap

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के सिलेक्शन कमिटी के चीफ एमएसके प्रसाद ने महेंद्र सिंह धौनी को लेकर कुछ अहम बातें कही हैं, इसके अलावा चयनसमिति पर दूरदर्शी नहीं होने के आरोप को लेकर भी प्रसाद ने मुंहतोड़ जवाब दिया है। प्रसाद का मानना है कि अगर ऐसा होता तो जसप्रीत बुमराह टेस्ट स्तर पर शानदार प्रदर्शन नहीं कर पाते और हार्दिक पांड्या जैसा खिलाड़ी टी20 से उभरकर टेस्ट क्रिकेटर नहीं बन पाता।

प्रसाद से पूछा गया कि क्या महेंद्र सिंह धौनी को टीम में रखने के लिए मध्यक्रम के संतुलन से समझौता किया गया, उन्होंने कहा, 'अगर शुरू में विकेट गंवाने के बाद हम विश्व कप सेमीफाइनल (न्यूजीलैंड के खिलाफ) जीत जाते तो फिर जडेजा और धौनी की पारियों को सर्वश्रेष्ठ पारियों में से एक गिना जाता।' उन्होंने कहा, 'मैं साफ तौर पर कह सकता हूं कि आज तक धौनी सीमित ओवरों में भारत का बेस्ट विकेटकीपर और फिनिशर हैं। विश्व कप में विकेटकीपर और बल्लेबाज के रूप में धौनी टीम के लिए बड़ी ताकत थे।'

श्रीनगर में धौनी ने शुरू की इंडियन आर्मी की ड्यूटी, फोटो हुई वायरल

विराट के साथ विवाद की खबरों के बीच रोहित शर्मा ने किया ये ट्वीट

'अगर दूरदर्शी नहीं होते तो टेस्ट में बुमराह और पांड्या नहीं होते'

आलोचकों का मानना है कि चयनसमिति में दूरदर्शिता की कमी है लेकिन प्रसाद ने इसे सिरे से खारिज कर दिया। उन्होंने कहा, 'अगर समिति में दूरदर्शिता की कमी होती तो फिर जिस जसप्रीत बुमराह को केवल सीमित ओवरों का क्रिकेटर माना जाता था वो कैसे टेस्ट क्रिकेट में आ पाता और वो आईसीसी रैंकिंग में नंबर एक टेस्ट गेंदबाज बना।' प्रसाद ने कहा, 'अगर हम दूरदर्शी नहीं थे तो फिर हार्दिक पांड्या कैसे सभी फॉरमैट में ऑलराउंडर की भूमिका बखूबी निभाता जबकि पहले उन्हें भी केवल टी20 खिलाड़ी माना गया था।' 

कुलदीप और चहल को लेकर प्रसाद ने दिया ये बयान

चयनसमिति के अध्यक्ष ने इस संबंध में कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल का भी उदाहरण दिया जिन्हें रविचंद्रन अश्विन और रविंद्र जडेजा जैसे स्थापित स्पिनरों की मौजूदगी के बावजूद सीमित ओवरों की टीम में रखा गया। प्रसाद ने कहा, 'इसी समिति ने कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल को आगे बढ़ाया जबकि सीमित ओवरों की टीम में हमारे पास अन्य स्थापित स्पिनर थे।' उन्होंने कहा, 'अगर हम दूरदर्शी नहीं होते तो ऋषभ पंत कैसे इतने कम समय में टेस्ट टीम में जगह बना पाते क्योंकि किसी ने नहीं सोचा था कि उन्हें टेस्ट में जगह मिल पाएगी। हम सभी ने देखा कि उसने इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में विकेट के आगे और विकेट के पीछे अच्छा प्रदर्शन किया।'

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:msk prasad statement on ms dhoni jasprit bumrah and hardik pandya india tour to west indies 2019