Monday, January 24, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ क्रिकेटमोंटी पनेसर ने कहा- धोनी को लगता था मुझे हिंदी समझ नहीं आती, लेकिन मैं सब समझता था

मोंटी पनेसर ने कहा- धोनी को लगता था मुझे हिंदी समझ नहीं आती, लेकिन मैं सब समझता था

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीNamita Shukla
Fri, 28 Aug 2020 08:35 AM
मोंटी पनेसर ने कहा- धोनी को लगता था मुझे हिंदी समझ नहीं आती, लेकिन मैं सब समझता था

इंग्लैंड के पूर्व स्पिनर मोंटी पनेसर ने टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और स्टार क्रिकेटर रहे महेंद्र सिंह धोनी के बारे में कुछ अहम बातें कही हैं। पनेसर ने उन दिनों को याद किया है, जब वो धोनी के खिलाफ खेलते थे। धोनी मैदान पर अपनी चालाक और शांत कप्तानी के लिए जाने जाते थे। विकेटकीपिंग दौरान धोनी गेंदबाजों की काफी मदद करते थे और बताते थे कि बल्लेबाज के हिसाब से उन्हें किस लाइन और लेंथ से गेंदबाजी करनी चाहिए। पनेसर ने बताया कि धोनी को लगता था कि उन्हें हिंदी नहीं आती है, लेकिन वो हिंदी अच्छी तरह समझते थे और उन्हें पता होता था कि विकेट के पीछे से धोनी गेंदबाजों को क्या इंस्ट्रक्शन दे रहे हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए इंटरव्यू में पनेसर ने बताया कि कैसे धोनी अपने गेंदबाजों को बताते थे कि किस तरह की गेंदबाजी से उन्हें विकेट मिल सकता है। उन्होंने बताया कि धोनी की बातें उन्हें समझ में आ जाती हैं क्योंकि वो हिंदी और पंजाबी अच्छी तरह से बोल लेते हैं। पनेसर ने कहा, 'मुझे याद है कि वो अपने गेंदबाजों को कैसे सलाह देते थे, अभी थोड़ी वाइड बॉल डाले, अभी थोड़ा सीधा स्टंप पर रखो, ये क्रॉस लाइन खेलने वाला है, सीधा डालो, ये डीप मिड-विकेट पर छक्का मारेगा, थोड़ा वाइड रखना।'

IPL 2020: मुंबई इंडियंस और केकेआर का बढ़ सकता है क्वारंटाइन पीरियड

'मैं ऐसे दिखाता था कि मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा'

पनेसर ने आगे कहा, 'मैं हिंदी और पंजाबी अच्छी तरह से समझ और बोल सकता हूं। एमएसडी को लगता था कि मुझे समय नहीं आ रहा है। मैं हर चीज सुनता था, लेकिन ऐसे दिखाता था कि मुझे कुछ समय नहीं आ रहा है या मैंने कुछ सुना नहीं, लेकिन मुझे सब पता होता था।' उन्होंने कहा, 'और सच मानिए धोनी ने ऐसा करके कई बार विकेट निकाले हैं, मुझे धोनी के बारे में यह बहुत पसंद है। मुझे गर्व है कि मैंने उनके खिलाफ मैच खेले।'

वनडे टीम में वापसी पर रहाणे की नजरें, कहा-मेरा रिकॉर्ड बहुत अच्छा है

'धोनी का सीक्रेट यही है'

धोनी की सबसे बड़ी ताकत के बारे में बात करते हुए पनेसर ने कहा, 'वो दूसरों को पढ़ने में माहिर थे, लेकिन लोग उन्हें नहीं पढ़ पाते थे। यह उनकी बड़ी ताकत थी। आपको कभी समझ ही नहीं आएगा कि जब आखिरी तीन ओवर में हर ओवर में 15 रन की जरूरत हो और वो क्रीज पर आए हों तो उनके दिमाग में क्या चल रहा है और वो ये रन बना लेते थे। वो ऐसा करते कैसे हैं? यही एमएसडी का सीक्रेट है।'
 

epaper

संबंधित खबरें