DA Image
29 जून, 2020|9:42|IST

अगली स्टोरी

2 मिनट से ज्यादा नहीं चलती थीं धोनी की टीम मीटिंग: पार्थिव पटेल

पार्थिव ने कहा, ''धोनी की टीम मीटिंग 2 मिनट से ज्यादा नहीं चलती थी। 2008 के फाइनल में भी यह मीटिंग इतने ही समय चली थी। मुझे पूरा विश्वास है कि 2019 में भी यह मीटिंग 2 मिनट से ज्यादा नहीं हुई होगी।''

ms dhoni  parthiv patel  getty images

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के पहले संस्करण में पार्थिव पटेल चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) की टीम में थे। फिलहाल पार्थिव, विराट कोहली की कप्तानी वाली रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर (आरसीबी) का हिस्सा हैं, लेकिन सीएसके से अब भी उनकी कई यादें जुड़ी हैं। सीएसके के दिनों को याद करते हुए हाल ही में पार्थिव पटेल ने टीम और महेंद्र सिंह धोनी को लेकर कई बातें शेयर कीं। उन्होंने इस दौरान बताया कि धोनी की टीम मीटिंग कभी भी दो मिनट से ज्यादा नहीं चलती थी।

चेन्नई सुपर किंग्स के दिनों को याद करते हुए पार्थिव पटेल ने कहा कि महेंद्र सिंह धोनी को टीम मीटिंग में कुछ ही मिनट लगते थे। पार्थिव पटेल ने पहले सीजन में 13 मैचों में 302 रन बनाकर चेन्नई को फाइनल में पहुंचने में मदद की थी। 

ट्रोलर्स पर भड़के संजय मांजरेकर, बोले- मैं किसानों के प्रति असंवेदनशील हूं?

धोनी की कप्तानी बिलकुल नहीं बदली राय
आईपीएल 2008 का फाइनल राजस्थान रॉयल्स और चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ खेला गया था, जिसमें शेन वॉर्न की कप्तानी में राजस्थान चैंपियन बना था। इसके बाद पार्थिव आईपीएल अन्य टीमों के साथ भी खेले, लेकिन इतने सालों में भी धोनी की कप्तानी पर उनकी राय बिल्कुल नहीं बदली।

2 मिनट से ज्यादा नहीं होती धोनी की टीम मीटिंग
पार्थिव पटेल ने स्टार स्पोर्ट्स से बातचीत में पार्थिव पटेल ने पहले फाइनल के अनुभव याद किए। उन्होंने कहा, ''धोनी की टीम मीटिंग 2 मिनट से ज्यादा नहीं चलती थी। 2008 के फाइनल में भी यह मीटिंग इतने ही समय चली थी। मुझे पूरा विश्वास है कि 2019 में भी यह मीटिंग 2 मिनट से ज्यादा नहीं हुई होगी।''

धोनी जानते हैं, खिलाड़ियों के साथ क्या करना है
उन्होंने आगे कहा, ''अपने खिलाड़ियों के साथ क्या करना है, इसे लेकर धोनी हमेशा स्पष्ट रहते हैं। टीम संयोजन को लेकर उन्हें कभी कोई संदेह नहीं होता था। वह यह भी जानते थे कि किस खिलाड़ी को कौन सी भूमिका निभानी है।'' पार्थिव पटेल चेन्नई सुपर किंग्स के लिए 2010 तक खेले। उन्होंने यह स्वीकार किया अनेक सीनियर खिलाड़ियों के साथ ड्रेसिंग रूम शेयर करने के कारण उन्होंने बहुत कुछ सीखा। 

गैरी कर्स्टन ने बताया, किस भारतीय खिलाड़ी के साथ काम करना रहा सबसे आसान

इसके बाद पार्थिव पटेल ने एक एक सीजन कोच्चि टकर्स केरला और डेक्कन चार्जर्स के लिए खेले। 2014 में वह रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर के लिए खेले और 2018 में फिर इसी टीम में लौट आए। उन्होंने कहा, ''2008 में माइकल हसी, स्टीफन फ्लेमिंग और मैथ्यू हेडन जैसे सीनियर खिलाड़ियों से बहुत कुछ सीखने को मिला। मैंने देखा कि वे किस तरह बड़े मैचों की तैयारियां करते थे। आईपीएल अब बहुत बदल गया है। पहले हमारा लक्ष्य होता था 5 ओवरों में 30-36 रन  बनाना और अब हम पांच ओवरों में 50-60 रन बनाना चाहते हैं।''

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:MS Dhoni team meetings were not more than two minutes long says Parthiv Patel