DA Image
9 जुलाई, 2020|11:16|IST

अगली स्टोरी

एमएस धोनी के ऑनलाइन प्रोग्राम से खिलाड़ियों को मिलेगी जॅाब, घर बैठे कोर्स करने का मिल रहा मौका

धोनी के ऑनलाइन कोच प्रोग्राम से जॅाब का रास्ता खुला है। धोनी अकादमी के ऑनलाइन कोर्स से जुड़े कई खिलाड़ी जुड़ चुके हैं। खिलाड़ियों को घर बैठे ही कोर्स करने का मौका मिला रहा है।

mahendra singh dhoni jpg

लॉकडाउन में रोजगार के संकट के बीच एमएस धोनी अकादमी ऑनलाइन कोचिंग एजुकेशन प्रोग्राम चला रही है। ऑनलाइन कोचिंग कोर्स पास करने वालों को एमएस धोनी अकादमी में ही नौकरी का अवसर मिल सकता है। बरेली के क्रिकेटर भी इस कोर्स का लाभ उठा रहे हैं। लॉक डाउन ने खिलाड़ियों और प्रशिक्षकों दोनों पर ही प्रभाव डाला है। स्कूलों में कोचिंग दे रहे प्रशिक्षकों की नौकरी पर भी संकट के बादल मंडरा रहे हैं। वहीं, खिलाड़ी या कोच आगे बढ़ पाएंगे जिनके पास ज्ञान का भंडार होगा। ऐसे में धोनी अकादमी छोटे-छोटे शहरों के युवाओं के लिए घर बैठे कोचिंग का मौका दे रही है। 

अकादमी 15-15 दिनों का ऑनलाइन कोर्स करवा रही है। रोज दो घंटे का सेशन होता है। इसमें बैटिंग, बालिंग, फील्डिंग को विशेष रूप से सिखाया जा रहा है। इसके अलावा चोट से बचाव और सही डाइट की भी जानकारी दी जा रही है। 

India Tour of Australia 2020: भारत-ऑस्ट्रेलिया एडिलेड में खेल सकते हैं डे-नाइट टेस्ट मैच

ऑन ग्राउंड असेसमेंट के आधार पर नौकरी
15 दिनों के कोर्स के बाद जब लॉकडाउन खुल जाएगा, तब खिलाड़ियों को ऑन ग्राउंड असेसमेंट और ट्रेनिंग के लिए बुलाया जाएगा। यह तीन दिन का सेशन होगा। इसके आधार पर खिलाड़ियों को नौकरी भी मिल सकती है। कोर्स पास करने वाले खिलाड़ियों को प्रमाण पत्र भी मिलेगा। इसे पास करने के बाद बीसीसीआई के लेवल वन कोर्स को पास करना बेहद आसान होगा। कोर्स की फीस पांच हजार रुपये है।

श्रेष्ठ कोच तैयार करने का बेस्ट ट्रेनिंग प्रोग्राम
आरका स्पोटर्स के एमडी मिहिर दिवाकर ने बताया कि एमएस धोनी अकादमी आधुनिक तकनीक की मदद से श्रेष्ठ प्रशिक्षकों को तैयार कर रही है। अंडर-19 विश्व कप विजेता टीम के सदस्य रहे मिहिर बताते हैं कि कोच एजुकेशन प्रोग्राम में बीसीसीआई से मान्यता प्राप्त कोच सत्रजीत लहिरी और मंदार दल्वी कोचिंग दे रहे हैं। कोचिंग के दौरान चाइल्ड प्रोटेक्शन, चाइल्ड साइकोलाजी, कम्युनिकेशन स्किल, अकादमिक मैनेजमेंट की जानकारी भी दी जा रही है। हमारा मकसद है कि हम योग्य कोच तैयार कर उन्हें अपनी ही अकादमियों में जाब दे सकें। यूपी में बरेली के साथ ही लखनऊ, कानपुर, मोदीनगर और नोएडा में हमारे सेंटर चल रहे हैं। पूरे देश में इनकी संख्या 15 है। लॉकडाउन के बाद यह संख्या 40 होने वाली है।

BCCI को भरोसा, ICC टी20 वर्ल्ड कप 2021 की मेजबानी भारत से छीनकर 'आत्महत्या' जैसा कदम नहीं उठाएगा

रोजगार के खुलेंगे नए रास्ते
बरेली में एमएस धोनी अकादमी के चीफ कोच अमरजीत सिंह सोनकर ने कहा कि लॉकडाउन में ऑनलाइन कोचिंग शुरू की गई थी। अभी तक दो बैच पूरे हो चुके हैं। दो बैच और ट्रेनिंग ले रहे। इससे रोजगार के रास्ते भी खुलेंगे।

घर बैठे मिल रही शानदार कोचिंग
सीनियर क्रिकेटर राहुल कपूर ने बताया कि अभी कोर्स शुरू हुए दो दिन ही हुए हैं। घर बैठे ऐसा कोर्स करने को मिल रहा है जिसके लिए बड़े शहरों की दौड़ लगानी पड़ती। जूम एप के जरिए कोचिंग कराई जा रही है।  

लॉकडाउन का होगा सदुपयोग  
सीनियर क्रिकेटर अभिषेक द्विवेदी ने बताया कि लॉकडाउन का इससे अच्छा सदुपयोग नहीं हो सकता था। ऑनलाइन ट्रेनिंग नए तरह का अनुभव है। बरेली जैसे शहर में यह सुविधा मिलना बड़ी बात है।

सचिन तेंदुलकर ने अपने बचपन की फोटो के साथ जानिए क्यों शेयर की लारा के बेटे की फोटो, दिल जीत लेगा कैप्शन

नई-नई चीजें सीखने का मौका
सीनियर क्रिकेटर ललित मोहन ने कहा कि ऐसा लग ही नहीं रहा है कि हम लोग आफ फील्ड सेशन ले रहे हैं। ऑनलाइन सेशन में काफी कुछ नई चीजें सीखने को मिल रही हैं। यह भविष्य में लाभकारी होंगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:MS Dhoni online program will give players the opportunity to get a job