फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News क्रिकेटमोहम्मद शमी का खुलासा, वर्ल्ड कप फाइनल हारने के बाद ड्रेसिंग रूम में कोई किसी से बात नहीं कर रहा था, तभी...

मोहम्मद शमी का खुलासा, वर्ल्ड कप फाइनल हारने के बाद ड्रेसिंग रूम में कोई किसी से बात नहीं कर रहा था, तभी...

मोहम्मद शमी ने खुलासा किया है कि ऑस्ट्रेलिया के हाथों वर्ल्ड कप फाइनल में हारने के बाद ड्रेसिंग रूम में कोई किसी से बात नहीं कर रहा था और खाना भी नहीं खा रहा था, लेकिन तभी पीएम मोदी वहां आए। 

मोहम्मद शमी का खुलासा, वर्ल्ड कप फाइनल हारने के बाद ड्रेसिंग रूम में कोई किसी से बात नहीं कर रहा था, तभी...
mohammed shami
Vikash Gaurलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 14 Dec 2023 06:59 AM
ऐप पर पढ़ें

ICC Cricket World Cup 2023 Final के करीब एक महीने बाद सामने आया है कि फाइनल में हारने के बाद टीम इंडिया के ड्रेसिंग रूम का माहौल कैसा था? भारतीय टीम के तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी ने इस बारे में खुलासा किया है। उन्होंने बताया है कि खिताबी मैच में हार झेलने के बाद सभी खिलाड़ी ड्रेसिंग रूम में थे और कोई किसी से बात नहीं कर रहा था। यहां तक कि कोई खाना भी नहीं खा रहा था, तभी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आए। 

मोहम्मद शमी ने एजेंडा आजतक में बताया, "विश्व कप 2023 फाइनल में हार के बाद ड्रेसिंग रूम में कोई किसी से बात नहीं कर रहा था और कोई खाना भी नहीं खा रहा था। अचानक पीएम नरेंद्र मोदी जी आ गए, यह सभी के लिए आश्चर्य की बात थी और उन्होंने हम सभी से बात की। वह बातचीत बहुत महत्वपूर्ण थी।" हालांकि, पीएम मोदी के भारतीय टीम के ड्रेसिंग रूप में जाने पर विपक्ष ने निशाना साधा था और कहा था कि उनको ऐसा नहीं करना चाहिए था। 

बता दें कि 19 नवंबर को अहमदाबाद के नरेंद्र मोदी स्टेडियम में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच वर्ल्ड कप 2023 का फाइनल मुकाबला खेला गया था। इस मैच में भारतीय टीम को हार मिली थी। वर्ल्ड कप 2023 में भारतीय टीम एकमात्र मैच हारी और वह फाइनल था। लगातार 9 मैच लीग फेज में जीतने के बाद टीम ने सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड को हराया था, लेकिन पहले मैच में ऑस्ट्रेलिया को धूल चटाने वाली भारतीय टीम फाइनल में उन्हीं से हार गई। 

केएल राहुल का 2.0 अवतार है मुश्किल, अब तीनों फॉर्मेट में निभानी होगी ये जिम्मेदारी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी इस मुकाबले को देखने के लिए पहुंचे थे। उन्होंने विजेता टीम के कप्तान पैट कमिंस को ट्रॉफी भी सौंपी थी। इसके कुछ देर बाद वे भारतीय टीम के ड्रेसिंग रूम में पहुंचे और खिलाड़ियों का हौसला बढ़ाया था। भारतीय खिलाड़ी टूटे हुए थे, क्योंकि उनको नहीं पता था कि उनकी टीम को हार क्यों मिली, क्योंकि टीम ने पूरे टूर्नामेंट में अच्छा प्रदर्शन किया था और फाइनल में आकर वे अपनी ही सरजमीं पर हार गए।