फोटो गैलरी

Hindi News क्रिकेटविराट कोहली का नाम लेकर मोहम्मद रिजवान ने बढ़ाया अपनी बात का वजन, कहा- औसत खिलाड़ी....

विराट कोहली का नाम लेकर मोहम्मद रिजवान ने बढ़ाया अपनी बात का वजन, कहा- औसत खिलाड़ी....

विराट कोहली अपना औसत बढ़ा रहा है लेकिन वह उस पर ध्यान केंद्रित नहीं कर रहा है क्योंकि औसत खिलाड़ी औसत को देखते हैं और बड़े खिलाड़ी टीम को देखेंगे और स्थिति को। मेरा ध्यान भी इस पर ही रहता है।

विराट कोहली का नाम लेकर मोहम्मद रिजवान ने बढ़ाया अपनी बात का वजन, कहा- औसत खिलाड़ी....
Lokesh Kheraलाइव हिंदुस्तान टीम,नई दिल्लीFri, 09 Feb 2024 11:11 AM
ऐप पर पढ़ें

पाकिस्तान के विकेट कीपर बल्लेबाज मोहम्मद रिजवान विराट कोहली के बहुत बड़े फैन हैं। जब भी मौका मिलता है वह किंग कोहली की तारीफ करने से पीछे नहीं हटते। मगर हाल ही में उन्होंने अपनी बात का वजन बढ़ने के लिए विराट कोहली के नाम का इस्तेमाल किया है। दरअसल, लिमिटेड ओवर क्रिकेट में रिजवान के औसत और स्ट्राइकरेट की अकसर आलोचना होती है। ऐसे में उनका कहना है कि औसत खिलाड़ी औसत को देखते हैं और बड़े खिलाड़ी टीम को जिताने को देखते हैं।

'दूसरी बार पिता बनने वाले हैं विराट कोहली' बयान से पलटे एबी डिविलियर्स, मांगी माफी और कहा...

मोहम्मद रिजवान पाकिस्तान के लिए टी20 में ओपनिंग करते हैं, वहीं वनडे में मिडिल ऑर्डर बल्लेबाज की भूमिका निभाते हैं। जब उनसे पूछा गया कि टी20 और वनडे में आपकी अलग-अलग भूमिकाएं होती हैं, आप उनसे कैसे तालमेल बिठाते हैं?

तो उन्होंने क्रिकबज से कहा. "सबसे पहले आप जिन टीमों के लिए खेल रहे हैं वह वो भूमिका आपके सामने रखते हैं और यदि आप उस मामले में अपने बारे में सोचते हैं... जैसे खिलाड़ी जो सोचते हैं कि मुझे खुद को बचाना है, वह ज्यादा दूर तक नहीं जाएगा। जो खिलाड़ी औसत देखते हैं वे औसत खिलाड़ी होते हैं। यदि कोई प्रदर्शन कर रहा है तो यह लोगों के देखने के लिए आंकड़ों में होगा।"

U19 वर्ल्ड कप फाइनल में ऑस्ट्रेलिया से कभी नहीं हारा भारत, क्या इस बार लगेगी जीत की हैट्रिक?

वह आगे बोले, "जैसे कि भारत के विराट कोहली, वह अपना औसत बढ़ा रहा है लेकिन वह उस पर ध्यान केंद्रित नहीं कर रहा है क्योंकि औसत खिलाड़ी औसत को देखते हैं और बड़े खिलाड़ी टीम को देखेंगे और स्थिति और मेरा ध्यान इस पर रहता है कि टीम की आवश्यकता क्या है। टीम का कहना है कि रिजवान बोर्ड को देखें और उसके अनुसार खेलें। मैं अपनी जिंदगी में भी यही चीज बरकरार रखता हूं लेकिन यह आसान नहीं है। टी20 में नई गेंद से खेलना और वनडे में गेंद थोड़ी पुरानी होने पर 25 ओवर के बाद खेलना आसान नहीं है और यह दिमाग का खेल है।"

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें