फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News क्रिकेटमर्द हर दर्द भूल सकता है, लेकिन 19 नवंबर...शिखर धवन ने क्यों लिखी ऐसी पोस्ट

मर्द हर दर्द भूल सकता है, लेकिन 19 नवंबर...शिखर धवन ने क्यों लिखी ऐसी पोस्ट

Shikhar Dhawan: वनडे वर्ल्ड कप 2023 के फाइनल को अरसा बीत चुका है। लेकिन फाइनल हारने का दर्द अभी भी खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। अब शिखर धवन ने एक्स पर लिखी अपनी एक पोस्ट में इसका जिक्र किया है।

मर्द हर दर्द भूल सकता है, लेकिन 19 नवंबर...शिखर धवन ने क्यों लिखी ऐसी पोस्ट
Deepakलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीFri, 21 Jun 2024 03:13 PM
ऐप पर पढ़ें

Shikhar Dhawan: वनडे वर्ल्ड कप 2023 के फाइनल को अरसा बीत चुका है। लेकिन फाइनल हारने का दर्द अभी भी खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है। अब भारतीय ओपनर शिखर धवन ने एक्स पर लिखी अपनी एक पोस्ट में इसका जिक्र किया है। शिखर ने लिखा है कि मर्द किसी भी दर्द से पार पा सकता है, लेकिन 19 नवंबर को जो दर्द मिला, उसे भूलना असंभव है। गौरतलब है कि हाल ही में रोहित शर्मा ने भी कहा था कि उन्हें आज तक ऑस्ट्रेलिया के हाथों फाइनल में हारने का मलाल है। 

बिलबोर्ड किया शेयर
शिखर धवन ने एक्स पर एक पोस्ट लिखी है। इसमें उन्होंने एक बिलबोर्ड शेयर किया है। इस बिलबोर्ड पर लिखा है, ‘वैशाली, आई एम ओवर यू। नॉट योर्स, खन्ना।’ इस बिलबोर्ड के जरिए किसी खन्ना ने वैशाली को संदेश देने की कोशिश की है। इसके जरिए उसने यह बताया है कि वह अब वैशाली को भूल चुका है। बिलबोर्ड के साथ शिखर ने अपनी पोस्ट में लिखा है कि मर्द सभी दर्द भूल सकते हैं, लेकिन 19 नवंबर का दर्द नहीं भूल सकते। 

एक गेंद, दो बार आउट, फिर भी नॉट आउट...शान मसूद के साथ तो गजब ही हो गया
क्या हुआ था 19 नवंबर को

19 नवंबर 2023 को वनडे वर्ल्ड कप का फाइनल मैच खेला गया था। भारत के सामने ऑस्ट्रेलिया की टीम थी। भारत ने बल्लेबाजी और गेंदबाजी दोनों में काफी अच्छी शुरुआत की थी। लेकिन बड़ी साझेदारियों की कमी के चलते भारत 50 ओवरों में 240 रन ही बना सका। बाद में ट्रैविस हेड 120 गेंदों पर 137 रन और मार्नस लाबुशेन 110 गेंदों पर नाबाद 58 रन की बदौलत ऑस्ट्रेलिया ने 43 ओवर में ही जीत दर्ज करते हुए छठा एकदिवसीय विश्व कप खिताब अपने नाम कर लिया। इस जीत को लेकर रोहित शर्मा अभी तक दुखी हैं। उन्होंने कुछ दिन पहले ही कहा था कि वह फाइनल मैच के बाद कई दिनों तक काफी बेचैन थे।