DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आंकड़े दे रहे गवाही: लक्ष्य का सफल पीछा करने में विराट कोहली से ज्यादा अच्छे बल्लेबाज हैं एमएस धौनी

महेंद्र सिंह धौनी ने 2019 की शुरूआत नए तेवर और जोशो-खरोश के साथ की है और आलोचकों को यह बता दिया है कि आगामी वनडे विश्व कप में हिस्सा लेकर वह अपनी ही शर्तों पर क्रिकेट को अलविदा कहेंगे।

Mahendra Singh Dhoni.jpg

साल 2018 में बुरी तरह असफल रहने के बाद ऐसे कयास लगने लगे थे कि पूर्व भारतीय कप्तान महेंद्र सिंह धौनी का क्रिकेट करियर अब समाप्त हो चुका है। और वह वनडे विश्व कप में भारतीय टीम का हिस्सा नहीं होंगे। इस बीच माही को टी-20 टीम से ड्रॉप भी होना पड़ा। लेकिन चैम्पियन हमेशा चैम्पियन होता है, यह साबित किया है महेंद्र सिंह धौनी ने। उन्होंने नए साल यानी 2019 की शुरूआत नए तेवर और जोशो-खरोश के साथ की है और आलोचकों को यह बता दिया है कि इंग्लैंड में होने वाले आगामी वनडे विश्व कप में हिस्सा लेकर वह अपनी ही शर्तों पर क्रिकेट को अलविदा कहेंगे। धौनी ने 2019 की शुरूआत ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध सिडनी वनडे मैच से की और 51 रन की पारी खेली। हालांकि, उनकी इस पारी की खूब आलोचना हुई क्योंकि उन्होंने 51 रन बनाने के लिए 96 गेंदों का सामना किया। 

एमएस धौनी ने बल्ले से आलोचकों को दिया करारा जवाब
वैसे क्रिकेट की सामान्य समझ रखने वाला व्यक्ति भी इस धीमी मगर महत्वपूर्ण पारी के लिए महेंद्र सिंह धौनी की आलोचना नहीं करेगा। क्योंकि वह जिस वक्त बल्लेबाजी के लिए क्रीज पर आए थे उस वक्त भारत अपने 3 विकेट सिर्फ 4 रन के स्कोर पर गंवा चुका था। ऐसे में एमएस धौनी ने क्रीज पर समय बिताकर भारत को इस मुश्किल परिस्थिति से बाहर निकालने की रणनीति के साथ बल्लेबाजी की। जिसमें उन्होंने 96 गेंदें खेलनी पड़ गईं। इसके बाद उन्होंने एडिलेड वनडे में धौनी ने 54 गेंदों में 2 छक्कों की मदद से 55 रन की नाबाद पारी खेल भारत के लिए मैच फिनिश किया। आखिरी ओवर में उन्होंने छक्का जड़कर स्कोर टाई किया और फिर एक रन लेकर भारत को 6 विकेट से जीत दिलाई।

AUSvsIND: विराट ने की धौनी की तारीफ, कहा- उन्हें इस टीम का हिस्सा होना ही चाहिए

एमएस धौनी ने वनडे में फिर से हासिल किया 50 का एवरेज
इस दौरान महेंद्र सिंह धौनी ने अपने आलोचकों को ना सिर्फ बल्ले से करारा जवाब दिया बल्कि अपने लिए भी कई खोई उपलब्धियां हासिल की। एमएस धौनी ने साल 2018 में 20 वनडे मैचों की 13 पारियों में सिर्फ 25 की मामूली औसत और 71.43 के स्ट्राइक रेट से 275 रन बनाए। इस दौरान उनका सर्वोच्च स्कोर नाबाद 42 रन रहा। यह धौनी के 15 साल के क्रिकेटटिंग करियर का सबसे बुरा साल रहा। इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट पहली बार 80 के नीचे पहुंचा और उनकी औसत भी लगभग एक दशक बाद 50 के नीचे पहुंची। लेकिन महेंद्र सिंह धौनी ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले दो वनडे मैचों में दो अर्धशतक जड़ एक बार फिर अपनी औसत 50 के पार पहुंचा दिया। 

सफल रन चेज में दुनिया के सबसे ज्यादा औसत वाले बल्लेबाज
यही नहीं महेंद्र सिंह धौनी ने एक और मामले में विराट कोहली को पीछे छोड़ दिया। सफलता पूर्वक लक्ष्य का पीछा करते हुए महेंद्र सिंह धौनी दुनिया के सबसे ज्यादा औसत वाले बल्लेबाज हैं। उनकी औसत 99.85, जबकि भारतीय कप्तान विराट कोहली जिन्हें लक्ष्य का पीछा करने के मामले में क्रिकेट इतिहास का सबसे कामयाब बल्लेबाज माना जाता है उनकी औसत 99.04 की है। हालांकि, यह रिकॉर्ड कम से कम 25 वनडे पारियां खेलने वाले क्रिकेटर्स के बीच का है। अगर ओवरऑल बल्लेबाजी औसत की बात करें तो विराट कोहली का एवरेज 59.76 और महेंद्र सिंह धौनी का एवरेज 50.38 का है।

AUSvsIND : ऑस्ट्रेलिया की धरती पर वनडे शतक लगाने वाले पहले भारतीय कप्तान बने विराट कोहली

सभी खेलों से जुड़े समाचार पढ़ें सबसे पहले Live Hindustan पर। अपने मोबाइल पर Live Hindustan पढ़ने के लिए डाउनलोड करें हमारा न्यूज एप। और देश-दुनिया की हर खबर से रहें अपडेट। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Mahendra Singh Dhoni surpasses Virat Kohli for highest average in Successful Run Chases