kuldeep yadav says about his hat trick getting hat trick special against Australia - INDvAUS: अगर ऐसा होता तो हैट्रिक नहीं ले पाते कुलदीप 1 DA Image
6 दिसंबर, 2019|8:51|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

INDvAUS: अगर ऐसा होता तो हैट्रिक नहीं ले पाते कुलदीप

वनडे में हैट्रिक लेने वाले तीसरे भारतीय गेंदबाज
वनडे में हैट्रिक लेने वाले तीसरे भारतीय गेंदबाज

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे वनडे मैच में हैट्रिक लेने वाले भारतीय गेंदबाज कुलदीप यादव ने कहा कि अगर उन्होंने बांये हाथ के कलाई के स्पिनर की तरह पारंपरिक गेंद फेंकी होती तो उन्हें हैट्रिक नहीं मिलती। कुलदीप ने मैथ्यू वेड, एशटन एगर और पैट कमिंस को आउट करके वनडे में हैट्रिक लेने वाले टीम इंडिया के तीसरे गेंदबाज बने। उनसे पहले चेतन शर्मा और कपिल देव वनडे में हैट्रिक ले चुके हैं। 

WHAT! गौतम गंभीर ने लिया बड़ा फैसला, ईशांत शर्मा ने ली उनकी जगह

कुलदीप ने कहा, हैट्रिक गेंद के लिए मुझे लगा कि अगर गेंद घूमेगी तो विकेट नहीं मिलेगा। इसलिये मैंने तरीके को बदला और सफल रहा।

उन्होंने कहा कि शुरूआत में गेंद को पकड़ने में परेशानी हो रही थी, इसलिये उन्होंने शुरू में पहले स्पैल में कुछ रन गंवा दिए लेकिन छोर बदलने के साथ ही चीजें बदल गयी। 

कुलदीप ने कहा, यह मेरे लिये सचमुच बहुत खास है क्योंकि मेरी शुरूआत अच्छी नहीं थी, मैंने कभी भी नहीं सोचा था कि मुझे हैट्रिक मिलेगी। लेकिन फिर भी मैं हैट्रिक लेने में सफल रहा। गेंद गीली थी और ग्रिप अच्छी नहीं थी। लेकिन जब छोर बदला तो मैं कम से कम एक विकेट लेना चाहता था ताकि ऑस्ट्रेलिया को दवाब में लाया जा सके। मैं अपनी विविधता का इस्तेमाल कर गेंद को सही जगह डालने की कोशिश कर रहा था।  

अगली स्लाइड में पढ़े : कुलदीप ने बताया सफलता का राज

आईपीएल में खेलने का मिला फायदा
आईपीएल में खेलने का मिला फायदा

कुलदीप ने कहा, आईपीएल में कोलकाता नाइट राइडर्स के साथ तीन सत्र में खेलना मेरे लिए फायदेमंद रहा, क्यों कि इससे पिच के बारे में जानने में मदद मिली। अंर्तराष्ट्रीय क्रिकेट में भारत की ओर से तीसरे सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले इस गेंदबाज के मुताबिक जब दोनों साथ गेंदबाजी करते है तो हवा में उनकी गेंद की गति में विविधता भी विपक्षी बल्लेबाजों को परेशान करती है।

WAH! सोशल मीडिया पर फैंस ने मनाया भारत की जीत का जश्न, स्मिथ हुए ट्रोल

उन्होंने कहा, दोनों की गति में अंतर है, कुलदीप धीमी रफ्तार से फ्लाइटेड गेंद फेंकते है जबकि चहल ज्यादा फ्लाइट देते और थोड़ी तेज गेंद फेंकते है। दोनों एक दूसरे का साथ बखूब ही देते है। वे परिपक्व है और खेल की स्थिति को पढ़ने की उनकी कला से मैं प्रभावित हूं। 

2011 में विश्वकप विजेता भारतीय टीम का हिस्सा रहे हरभजन ने कहा कि विश्व कप में अभी काफी समय है और फिलहाल यह तय नहीं किया जा सकता कि विश्व कप के टीम में कौन होगा। उन्होंने कहा, मुझे विश्व कप के बारे में नहीं पता। विश्व कप में अभी काफी समय है। ईमानदारी से कहूं तो दोनों काफी अच्छा कर रहे है और मुझे उन पर फक्र है।   
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: kuldeep yadav says about his hat trick getting hat trick special against Australia