DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

CWC 2019: कीवी कप्तान केन विलियमसन बोले- फाइनल कोई नहीं हारा

ICC World Cup 2019: इंग्लैंड के खिलाफ विश्व कप फाइनल में नाटकीय तरीके से मिली हार से उबरने की कोशिश में जुटे न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन ने कहा कि फाइनल कोई नहीं हारा है।

kane williamson  ap

ICC World Cup 2019 Final, England vs New Zealand: इंग्लैंड के खिलाफ विश्व कप फाइनल में नाटकीय तरीके से मिली हार से उबरने की कोशिश में जुटे न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन ने कहा कि फाइनल कोई नहीं हारा है। पूर्व और मौजूदा क्रिकेटरों ने न्यूजीलैंड से सहानुभूति जताई है। निर्धारित समय और सुपर ओवर में स्कोर बराबर रहने के बाद चौकों छक्कों की संख्या के आधार पर इंग्लैंड को विजेता घोषित किया गया। इसके बाद से क्रिकेट जगत हास्यास्पद नियमों की समीक्षा की मांग कर रहा है। 

विलियमसन ने न्यूजटाक जेडबी से कहा, ''आखिर में कोई भी फाइनल नहीं हारा, लेकिन खिताब तो एक टीम को देना ही था।'' हार को गरिमा के साथ स्वीकार करने के लिए हर तरफ विलियमसन और उनकी टीम की तारीफ हो रही है। उन्होंने कहा कि टूर्नामेंट के नियमों का सभी को पहले से पता था।

न्यूजीलैंड की हार से निराश हैं कीवी कोच, ICC से की ये डिमांड

मैच के बाद प्रेस कांफ्रेंस में विलियमसन ने इस नियम के बारे में पूछे जाने पर कहा था, ''आप कभी सोच नहीं सकते कि ऐसे सवाल भी पूछे जायेंगे। मैने भी कभी नहीं सोचा था कि ऐसे सवाल का जवाब दूंगा।'' उन्होंने कहा, ''यह स्वीकार करना मुश्किल है क्योंकि दोनों टीमों ने इस पल के लिए काफी मेहनत की थी।'' उन्होंने कहा, ''दो प्रयासों के बाद भी विजेता का निर्धारण नहीं हो सका। इसके बाद जिस तरह से हुआ, कोई भी टीम ऐसा नहीं चाहेगी।''

हार के बाद भी दिल जीतने वाले केन विलियमसन के लिए यह स्वीकार कर पाना मुश्किल है कि चौकों-छक्कों की संख्या के आधार पर उनकी टीम विश्व कप से वंचित रह गई। फिर भी ‘भद्रजनों के खेल’ के इस सबसे ‘भद्र खिलाड़ी’ को कोई गिला-शिकवा नहीं है। 

मुस्कुराहट में छिपा दर्द 
हार के बाद उनकी मुस्कुराहट में छिपा दर्द दिख रहा था और आंखें निराशा की कहानी बयां कर रही थीं। फिर भी वह काफी संयमित नजर आए। उन्होंने कहा, हंसे या रोएं, यह आपका फैसला है। कोई गुस्सा नहीं है। निराशा है, जो हम सब महसूस कर रहे हैं। पर कुछ चीजें वश में नहीं होतीं।

नियम पर सवाल नहीं
एक सच्चे खिलाड़ी की तरह उन्होंने आईसीसी के इस नियम पर कोई सवाल उठाने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा, ''नियम है तो है और टूर्नामेंट की शुरुआत से है। किसी ने सोचा नहीं होगा कि इस तरह का मैच होगा। यह शानदार मैच था और सभी ने इसका मजा लिया।''

विलियमसन ने कहा, नियम तो पहले से ही हैं। आप मैदान पर उतरते समय ये सब नहीं सोचते। हम अगर कुछ चौके ज्यादा लगाते तो शायद जीत जाते और फिर वे भी ऐसा नहीं सोचते। ‘सज्जनता की मिसाल’ बने कीवी कप्तान यह अपेक्षा नहीं रखते कि सब खिलाड़ी उनकी तरह हों। उन्होंने कहा, हर किसी की अपनी शख्सियत है। यही दुनिया की खूबी है। हर किसी को अलग होना भी चाहिए। यह कठिन सवाल है। आप खुद को बदलने की कोशिश मत कीजिए और जो कर रहे हैं, उसका पूरा मजा लीजिए।

इंग्लैंड की जीत के 'हीरो' बेन स्टोक्स के पिता बोले- साझा होनी चाहिए थी ट्रॉफी

ओवर-थ्रो पर कहा, उम्मीद है फिर ऐसा नहीं होगा 
विलियमसन ने दुर्भाग्यपूर्ण ओवर-थ्रो पर निराशा जताई। उन्होंने कहा, यह शर्मनाक था कि गेंद स्टोक्स के बल्ले से टकरा गई। उम्मीद करता हूं कि भविष्य में ऐसा फिर कभी नहीं हो। इस तरह के मैच में कभी नहीं। न्यूजीलैंड टीम ने काफी दिलेरी से प्रदर्शन करके फाइनल में जगह बनाई लेकिन शायद जीत हमारी किस्मत में नहीं थी। खिलाड़ी बहुत निराश हैं। ऐसी हार पचाना मुश्किल है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Kane Williamson opens up on super over boundy icc rule and controversial overthrow runs in final over watch video