DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जॉन्टी रोड्स बोले- टीम इंडिया की फील्डिंग बेहतर हुई, लेकिन सुधार की गुंजाइश बाकी

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व बल्लेबाज और क्रिकेट की दुनिया के सबसे बेहतरीन क्षेत्ररक्षकों माने जाने वाले जॉन्टी रोड्स ने स्वीकार किया है कि टीम इंडिया की फील्डिंग में अभूतपूर्व सुधार हुआ है।

jonty rhodes jpg

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व बल्लेबाज और क्रिकेट की दुनिया के सबसे बेहतरीन क्षेत्ररक्षकों माने जाने वाले जॉन्टी रोड्स ने स्वीकार किया है कि टीम इंडिया की फील्डिंग में अभूतपूर्व सुधार हुआ है। साथ ही रोड्स ने इसमें और सुधार की गुंजाइश भी बताई है। रोड्स के मुताबिक भारतीय क्रिकेटरों का फिटनेस लेवल काफी अच्छा हुआ है लेकिन उन्हें मैदान पर अपनी चुस्ती और फुर्ती में सुधार करने की अभी और जरूरत है। जॉन्टी रोड्स ने कहा, 'दक्षिण अफ्रीका में हम सभी तरह के स्पोर्ट्स खेलते हुए बड़े होते हैं। उन्हीं खेलों ने मुझे वह फील्डर बनाया जिसके लिए मैं याद किया जाता हूं। फील्डिंग में लेटरल मूवमेंट काफी महत्वपूर्ण होती है। मुझे नहीं लगता कि भारतीय क्रिकेटर्स अभी इसमें अपना बेस्ट कर पा रहे हैं।'

Read Also: IND vs WI 1st Test : सुनील गावस्कर ने एंटीगा टेस्ट की प्लेइंग XI पर उठाए सवाल

रोड्स ने माना कि भारत ने अपनी फील्डिंग में काफी सुधार किया है 
रोड्स ने कहा, 'क्रिकेट कोच के तौर पर हम थ्रोइंग को बहुत तवज्जो नहीं देते हैं। हमें ज्यादा चिंता इस बात की होती है कि फील्डर कैच ठीक से ले रहा है कि नहीं या गेंद को अच्छे से रोक रहा है कि नहीं। जब आप रन बचा रहे होते हैं तो अपना डाइरेक्शन बदलना काफी महत्वपूर्ण होता है। ये सभी ऐसे क्षेत्र हैं जहां भारतीय क्रिकेटरों को और सीखने और सुधार करने की दरकार है।' ​इंग्लैंड में समाप्त हुए विश्व कप में भारत की फील्डिंग के बारे में पूछे जाने पर जॉन्टी रोड्स ने कहा, 'भारत का कैचिंग इस विश्व कप में काफी अच्छा रहा। लेकिन मुझे लगता है कि भारतीय फील्डर्स और कई कैच ले सकते थे।

Read Also: टीम इंडिया के सपोर्ट स्टाफ का चयन पूरा, बांगड़ की जगह विक्रम राठौड़ बने बैटिंग कोच

टीम इंडिया का फील्डिंग कोच बनने के दौड़ में शामिल थे जॉन्टी रोड्स
जॉन्टी रोड्स टीम इंडिया के फील्डिंग कोच बनने की दौड़ में शामिल थे। उन्होंने इसके लिए आवेदन किया था। लेकिन आर श्रीधर को चयन समिति ने एक बार फिर से मौका देने का फैसला किया है। रोड्स ने कहा, 'हर टीम के पास कुछ ऐसे खिलाड़ी होते हैं खासकर गेंदबाज जो मैदान में इतना सहयोग नहीं दे पाते। ऐसा इसलिए नहीं कि वे अच्छा नहीं करते लेकिन कुछ चीजें हैं जिनपर और काम करना होगा। फील्डिंग एक आदत है। अगर यह काम कर रहा है तो इसे ठीक करने की जरूरत नहीं। भारत ने पिछले कुछ वर्षों में अपनी फील्डिंग में बहुत बड़े पैमाने पर सुधार किया है। लेकिन कुछ ऐसी खामियां हैं जिन्हें मैं ठीक कर सकता हूं।'

सभी खेलों से जुड़े समाचार पढ़ें सबसे पहले Live Hindustan पर। अपने मोबाइल पर Live Hindustan पढ़ने के लिए डाउनलोड करें हमारा न्यूज एप। और देश-दुनिया की हर खबर से रहें अपडेट।    

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Jonty Rhodes said fielding standards of the Indian cricket team has improved drastically but they still need to improve in certain areas