फोटो गैलरी

Hindi News क्रिकेटजो रूट उनका स्टीव स्मिथ है, बैजबॉल के चक्कर में... मिचेल जॉनसन ने की बिल्कुल सीधी बात, नो बकवास

जो रूट उनका स्टीव स्मिथ है, बैजबॉल के चक्कर में... मिचेल जॉनसन ने की बिल्कुल सीधी बात, नो बकवास

इंडिया वर्सेस इंग्लैंड पांच मैचों की सीरीज का आखिरी टेस्ट मैच 7 मार्च से धर्मशाला में खेला जाना है। इस सीरीज के दौरान जो रूट तीसरे टेस्ट मैच तक बैटिंग में फेल रहे, लेकिन चौथे टेस्ट में शतक लगाया।

जो रूट उनका स्टीव स्मिथ है, बैजबॉल के चक्कर में... मिचेल जॉनसन ने की बिल्कुल सीधी बात, नो बकवास
Namita Shuklaलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीTue, 27 Feb 2024 09:19 PM
ऐप पर पढ़ें

इंग्लैंड के स्टार बैटर जो रूट के नाम टेस्ट क्रिकेट के तमाम बड़े रिकॉर्ड्स दर्ज हैं। बेन स्टोक्स के कप्तान और ब्रेंडन मैक्कलम के टेस्ट टीम के हेड कोच बनने के बाद से इंग्लैंड टीम ने बैजबॉल को काफी बढ़ावा दिया। इंग्लैंड टीम ने स्टोक्स की कप्तानी में टेस्ट क्रिकेट खेलने का तरीका बदला और तेजी से बैटिंग कर विरोधी टीम पर दबाव डालना शुरू किया। भारत दौरे से पहले तक इंग्लैंड टीम को बैजबॉल का फायदा भी मिला था और बेन स्टोक्स की कप्तानी में इंग्लैंड ने एक भी टेस्ट सीरीज गंवाई भी नहीं थी, लेकिन भारत के खिलाफ पांच मैचों की सीरीज चार टेस्ट मैचों के अंदर ही इंग्लैंड 1-3 से गंवा चुका है। सीरीज के पहले तीन टेस्ट मैचों में जो रूट ने तेजी से बैटिंग के चक्कर में विकेट गंवाए थे, लेकिन चौथे टेस्ट मैच में उन्होंने अपना पुराना रूप दिखाया और शतक भी ठोका। ऑस्ट्रेलिया के पूर्व तेज गेंदबाज मिचेल जॉनसन ने जो रूट के बैजबॉल तरीके को लेकर एकदम सीधी बात की है, बिना किसी बकवास के। 

वफादारी तो...रोहित के 'टेस्ट की भूख' कमेंट पर गावस्कर ने किया रिएक्ट

जॉनसन ने अपने कॉलम में लिखा, 'जो रूट क्रिकेट जगत में चर्चा का विषय रहे, जिस तरह से उन्होंने अजीबोगरीब शॉट्स का चयन किया। उनके कप्तान बेन स्टोक्स और कोच मैक्कलम ने इसका बचाव भी किया, जैसा कि आपको लगा भी होगा। मैक्कलम ने इसका भी बचाव किया, जिस तरह से रूट नए तरह से खेल रहे हैं। रूट उनका स्टीव स्मिथ या ये कह लें मार्नस लाबुशेन है। वह काफी सही खिलाड़ी है, ऐसा बैटर जो क्रीज पर जाता है, बेकार गेंदों पर शॉट लगाता है और अच्छी गेंदों को जाने देता है।'

श्रेयस का यू टर्न, खुद को बताया फिट, मुंबई के लिए खेलेंगे सेमीफाइनल

उन्होंने आगे लिखा, 'मैंने एशेज सीरीज के दौरान भी कहा था, एक बैटिंग यूनिट के तौर पर एग्रेसिव होकर खेलना कोई नई बात नहीं है। अगर इंग्लैंड टीम को सही बैलेंस मिल जाता है कि कब उन्हें अटैक करना है और कब उन्हें डिफेंड करना है, तो वह बेहतर स्थिति में होंगे। जो रूट बहुत लंबे समय से बेस्ट बैटर्स में से एक रहे हैं। मुझे नहीं लगता कि उन्हें बैजबॉल की जरूरत भी है, खासकर तब जब टीम में काफी ज्यादा अटैकिंग बैटर मौजूद हैं।'

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें