फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ क्रिकेटIPL 2022 Final: राजस्थान रॉयल्स की हार के 5 प्रमुख कारण, कप्तान संजू सैमसन ने डुबोई टीम की लुटिया

IPL 2022 Final: राजस्थान रॉयल्स की हार के 5 प्रमुख कारण, कप्तान संजू सैमसन ने डुबोई टीम की लुटिया

आईपीएल 2022 में राजस्थान रॉयल्स का अंत निराशाजनक रहा। फाइनल में गुजरात टाइटंस के खिलाफ टीम को 7 विकेट से बड़ी हार का सामना करना पड़ा। इस हार के साथ टीम का 14 साल बाद खिताब जीतने का सपना अधुरा रह गया।

IPL 2022 Final: राजस्थान रॉयल्स की हार के 5 प्रमुख कारण, कप्तान संजू सैमसन ने डुबोई टीम की लुटिया
Lokesh Kheraलाइव हिंदुस्तान टीम,नई दिल्लीMon, 30 May 2022 04:29 PM
ऐप पर पढ़ें

आईपीएल 2022 में राजस्थान रॉयल्स का अंत निराशाजनक रहा। फाइनल में गुजरात टाइटंस के खिलाफ टीम को 7 विकेट से बड़ी हार का सामना करना पड़ा। इस हार के साथ टीम का 14 साल बाद खिताब जीतने का सपना अधुरा रह गया। बता दें, 2008 में पहली बार चैंपियन बनने के बाद इस सीजन राजस्थान रॉयल्स की टीम फाइनल तक पहुंचने में सफल रही थी। खिताब से चूकने के बाद राजस्थान रॉयल्स की वह गलतियां सामने आ रही है जिसने टीम की लुटिया डुबोई, इनमें सबसे बड़ा हाथ कप्तान संजू सैमसन का रहा। आइए जानते हैं आरआर की हार के 5 बड़े कारण-

शेन वॉर्न को श्रद्धंजलि नहीं दे पाई राजस्थान रॉयल्स, 14 साल बाद भी ट्रॉफी का वनवास जारी

टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला साबित हुआ गलत

आईपीएल 2022 के पूरे सीजन टॉस के दौरान किस्मत राजस्थान रॉयल्स के कप्तान संजू सैमसन से रूठी रही। फाइनल मुकाबले से पहले सैमसन ने मात्र 3 ही टॉस जीते थे, मगर खिताबी मुकाबले में जब किस्मत ने उनका साथ दिया तो उनसे बड़ी चूक हो गई। राजस्थान ने गुजरात के खिलाफ फाइनल मुकाबले में टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी चुनी। आरआर ने इससे पहले आरसीबी के खिलाफ इसी मैदान पर क्वालीफायर 2 खेला था और उस मैच में टीम लक्ष्य का पीछा करते हुए ही जीती थी, ऐसे में क्या उनका पहले बल्लेबाजी का फैसला सही था? सैमसन ने पहले बल्लेबाजी करने का तर्क देते हुए कहा था कि दूसरी पारी में उनके स्पिनर्स को मदद मिल सकती है, मगर वह अश्विन को फिर भी 11 ओवर के बाद अटैक पर लेकर आए।

बल्लेबाजी फ्लॉप

टॉस जीतकर जब कोई टीम खिताबी मुकाबले में उतरती है तो वह चाहती है कि एक बड़ा स्कोर खड़ा हो। इसके लिए उनके ऊपरी क्रम के बल्लेबाजों को बड़ी पारी खेलने की आवश्यकता होती है। मगर राजस्थान रॉयल्स के साथ ऐसा नहीं देखने को मिला। एक छोर पर बटलर धीमी बल्लेबाजी कर रहे थे, वहीं दूसरे छोर पर बल्लेबाज तेजी से रन बनाने के प्रयास में विकेट खो रहे थे। यशस्वी जायसवाल और देवदत्त पडिक्कल ने 8वीं गेंद पर अपना खाता खोला था। कप्तान संजू सैमसन की जब टीम को सबसे ज्यादा जरूरत थी तब वह एक खराब शॉट खेलकर आउट हो गए, कप्तान ने 11 गेंदों पर 14 रन बनाए। ऊपरी क्रम के बल्लेबाजों के फेल होने के बाद निचले क्रम के बैट्समैन ने भी निराश किया।

ये है IPL 2022 की धाकड़ प्लेइंग इलेवन, पूरे सीजन इन खिलाड़ियों ने लूटी महफिल; जानें कौन बना इस टीम का कप्तान

फिरकी गेंदबाजों ने किया निराश

लीग स्टेज में राजस्थान रॉयल्स के स्पिन गेंदबाज आर अश्विन और युजवेंद्र चहल ने लाजवाब प्रदर्शन किया था। पावरप्ले और बीच के ओवर में अश्विन विपक्षी टीम पर शिकंजा कसते थे वहीं डेथ में चहल अपना जादू दिखाते थे। मगर प्लेऑफ मैचों के दौरान ऐसा कुछ देखने को नहीं मिली। दोनों क्वालीफायर और फाइनल मिलाकर अश्विन और चहल के खाते में मात्र दो ही विकेट जाए, इस दौरान दोनों गेंदबाजों ने खूब रन खर्च किए। यही राजस्थान की हार का अहम कारण भी बना।

शून्य पर छोड़ा गिल का कैच

गुजरात टाइटंस की जीत में सलामी बल्लेबाज शुभमन गिल की भी अहम भूमिका था, 131 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए इस खिलाड़ी ने 45 रनों की नाबाद पारी खेली। मगर क्या आप जानते हैं कि जब गिल शून्य पर थे तो चहल ने उनका कैच छोड़ा था? जी हां, पारी के पहले ओवर की चौथी गेंद पर चहल ने स्क्वायर लेग की दिशा में गिल का एक आसान सा कैच छोड़ा था। इसके बाद गुजरात के इस सलामी बल्लेबाज ने राजस्थान के गेंदबाजों को आउट करने का एक भी मौका नहीं दिया।

अश्विन को 11 ओवर के बाद बॉलिंग पर लाना

जब कोई टीम 131 रनों को डिफेंड कर रही होती है तो उनकी नजरें शुरुआत से ही विकेट चटकाने पर होती है। इस दौरान वह अपने प्रमुख गेंदबाजों को इस्तेमाल करती है। संजू सैमसन ने शुरुआत में अपने सबसे अनुभवी गेंदबाज आर अश्विन को छोड़कर सभी गेंदबाजों का इस्तेमाल किया। अश्विन को कप्तान 11 ओवर के बाद अटैक पर लाए। उनके इस फैसले के दो कारण हो सकते हैं, पहला गिल और हार्दिक दो दाएं हाथ के बल्लेबाज क्रीज पर थे जो उनकी ऑफ स्पिन पर बड़े शॉट खेल सकते थे। वहीं दूसरा यह कि अश्विन को सैमसन मिलर और तेवतिया के लिए रोकना चाहते थे। मगर कप्तान इसका उलट भी सोच सकते थे, गिल और हार्दिक अगर अश्विन के पीछे जाते तो वह अपना विकेट भी गंवा सकते थे। वहीं जब तक आप ऊपरी क्रम के बल्लेबाजों को आउट नहीं करते तब तक आप निचले क्रम के लिए योजना कैसे बना सकते हैं। अश्विन ने फाइनल में तीन ओवर गेंदबाजी की और 32 रन खर्च किए।

लेटेस्ट Cricket News, Cricket Live Score, Cricket Schedule और T20 World Cup की खबरों को पढ़ने के लिए Live Hindustan AppLive Hindustan App डाउनलोड करें।