फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News क्रिकेटअफगानिस्तान के खिलाफ भारतीय खिलाड़ियों ने क्यों पहना ब्लैक आर्मबैंड? आप भी जान लीजिए वजह

अफगानिस्तान के खिलाफ भारतीय खिलाड़ियों ने क्यों पहना ब्लैक आर्मबैंड? आप भी जान लीजिए वजह

अफगानिस्तान के खिलाफ टी20 वर्ल्ड कप 2024 के सुपर 8 के मैच में भारतीय खिलाड़ी ब्लैक आर्मबैंड पहनकर मैदान पर उतरे। इसके पीछे की वजह ये थी कि आज एक पूर्व भारतीय क्रिकेटर का निधन हो गया है। 

अफगानिस्तान के खिलाफ भारतीय खिलाड़ियों ने क्यों पहना ब्लैक आर्मबैंड? आप भी जान लीजिए वजह
india black armband
Vikash Gaurलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 20 Jun 2024 08:39 PM
ऐप पर पढ़ें

अफगानिस्तान के खिलाफ टी20 वर्ल्ड कप 2024 के अपने सुपर 8 के पहले मैच में भारतीय टीम के खिलाड़ी ब्लैक आर्म बैंड पहनकर मैदान पर उतरे। कप्तान रोहित शर्मा जब टॉस के लिए मैदान पर आए तो उस समय उनकी बांह पर काली पट्टी नहीं थी, लेकिन जब बल्लेबाजी के लिए आए तो रोहित शर्मा ही नहीं, बल्कि विराट कोहली की बाजू पर भी काली पट्टी बंधी हुई थी। ये ब्लैक आर्मबैंड भारतीय खिलाड़ियों ने क्यों पहना? इसकी वजह कुछ और नहीं, बल्कि एक पूर्व भारतीय खिलाड़ी का निधन हो गया है, जिनको ट्रिब्यूट देने के लिए भारतीय खिलाड़ियों ने ऐसा किया है। 

दरअसल, गुरुवार 20 जून को भारत के पूर्व तेज गेंदबाज डेविड जॉनसन का निधन हो गया। उन्होंने टीम इंडिया के लिए 1996 में दो वनडे इंटरनेशनल मैच खेले थे और कर्नाटक के लिए लंबे समय तक वे फर्स्ट क्लास और लिस्ट ए क्रिकेट खेले थे। गुरुवार 20 जून को बेंगलुरु में उनका निधन हो गया। बीसीसीआई ने एक्स पोस्ट में जानकारी दी है, "पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज डेविड जॉनसन, जिनका गुरुवार को निधन हो गया था, उनकी याद में टीम इंडिया आज ब्लैक आर्मबैंड बांधेगी।" भारतीय टीम की एक तस्वीर भी बीसीसीआई ने एक्स हैंडल पर शेयर की है।  


 

वहीं, अगर रिपोर्ट्स की मानें तो डेविड जॉनसन ने अपने अपार्टमेंट की चौथी मंजिल से छलांग लगाकर आत्महत्या की, क्योंकि वे काफी समय से डिप्रेशन में चल रहे थे। इसी वजह से उन्होंने ये कदम उठाया, लेकिन कुछ मीडिया रिपोर्ट्स ये भी कहती हैं कि उनका पैर फिसल गया था। उनके करियर की बात करें तो 10 अक्टूबर 1996 को उन्होंने भारत के लिए पहला टेस्ट मैच ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला था और दिसंबर 1996 में साउथ अफ्रीका के खिलाफ वे दूसरा टेस्ट मैच खेलने उतरे थे, जो उनके करियर का आखिरी इंटरनेशनल मैच था। 3 विकेट उनको करियर में मिले थे।