DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   क्रिकेट  ›  श्रीलंका की हार पर भड़के मुथैया मुरलीधरन, कहा- टीम जीतना भूल गई है
क्रिकेट

श्रीलंका की हार पर भड़के मुथैया मुरलीधरन, कहा- टीम जीतना भूल गई है

पीटीआई,कोलंबोPublished By: Namita Shukla
Wed, 21 Jul 2021 01:19 PM
श्रीलंका की हार पर भड़के मुथैया मुरलीधरन, कहा- टीम जीतना भूल गई है

भारत के खिलाफ श्रीलंका ने जैसे जीता हुआ मैच गंवाया, उससे अपने समय दिग्गज स्पिनर रहे मुथैया मुरलीधरन बहुत निराश हैं। इंटरनेशनल क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले मुरलीधरन का मानना है कि मौजूदा श्रीलंकाई टीम भूल गई है कि जीत कैसे दर्ज की जाती है। मुरलीधरन ने कहा कि मानना होगा कि खेल में देश काफी मुश्किल दौर से गुजर रहा है। श्रीलंका ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवर में 9 विकेट पर 275 रन बनाए, जवाब में भारत ने 193 रनों तक सात विकेट गंवा दिए थे। बावजूद इसके भारत ने पांच गेंद शेष रहते ही मैच तीन विकेट से अपने नाम कर लिया।

मुरलीधरन ने ईएसपीएनक्रिकइंफो पर कहा, 'मैंने आप से पहले भी कहा है कि श्रीलंका जीतने की राह भूल चुका है, पिछले कुछ सालों से यह टीम जीत दर्ज करना ही भूल गई है। यह उनके लिए भी मुश्किल है कि उन्हें पता ही नहीं है कि कैसे जीत दर्ज करनी है।' लेग स्पिनर वनिंदु हसरंगा ने तीन विकेट लेकर टीम इंडिया को मुश्किल में डाल दिया था, लेकिन कप्तान दसुन शनाका ने उनके ओवर बचा लिए, जिससे आखिरी के ओवरों में उनका इस्तेमाल किया जा सका और यह श्रीलंका को काफी भारी पड़ गया। मुरलीधरन ने आगे कहा, 'हमने आपको पहले भी कहा है कि अगर श्रीलंका ने पहले 10-15 ओवर में तीन विकेट निकाल लिए, तो टीम इंडिया संघर्ष करती नजर आएगी। दीपक चाहर और भुवनेश्वर कुमार ने टीम इंडिया को शानदार जीत दिलाई।'

मुरलीधरन बोले, 'और श्रीलंका ने भी कुछ बड़ी गलतियां की। उन्हें वनिंदु हसरंगा से गेंदबाजी करानी चाहिए थी, ना कि उनके ओवर आखिरी के लिए बचाने चाहिए थे। अगर श्रीलंका ने भुवनेश्वर या चाहर का विकेट ले लिया होता, तो बचे हुए दो टेलेन्डर्स के साथ जीत मुश्किल हो जाती। उन्होंने कुछ गलतियां की, लेकिन यह अनुभवहीन टीम है।' श्रीलंका की हार पर कोच मिकी आर्थर को भड़कते हुए देखा गया था, जिसको लेकर मुरलीधरन ने कहा, 'मुझे लगता है कि कोच अपना गुस्सा और निराशा दिखा रहे थे, लेकिन इसकी जगह उन्हें शांत बैठकर टीम को कुछ मैसेज भेजने चाहिए थे कि अपने बेस्ट गेंदबाजों से गेंदबाजी कराई जाए, विकेट लेने की कोशिश की जाए और अंत तक लक्ष्य को डिफेंड करने की कोशिश की जाए।'

संबंधित खबरें