अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

INDvSA: द. अफ्रीका में रोहित की पहली सेंचुरी, फिर भी नहीं मनाया जश्न, जानिए क्यों

रोहित ने नहीं मनाया सेंचुरी का जश्न
रोहित ने नहीं मनाया सेंचुरी का जश्न

विराट कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया ने इतिहास रच डाला। पोर्ट एलिजाबेथ में मंगलवार को खेले गए छह मैचों की सीरीज का पांचवां वनडे जीतने साथ ही टीम इंडिया ने सीरीज पर कब्जा जमा लिया। इस जीत के हीरो रहे रोहित शर्मा, जिन्होंने 115 रनों की पारी खेली और मैन ऑफ द मैच भी चुने गए। दक्षिण अफ्रीका में सभी फॉरमैट मिलाकर ये रोहित का पहला सैंकड़ा था, लेकिन फिर भी उन्होंने इसका जश्न नहीं मनाया।

रोहित ने मैच के बाद बताया कि आखिर क्यों उन्होंने इस सेंचुरी का जश्न नहीं मनाया। मैन ऑफ द मैच चुने गए रोहित ने कहा, 'काफी लंबे समय से इसका इंतजार था। पारी का आनंद उठाया मैंने। जैसे-जैसे मैच आगे बढ़ता गया, विकेट स्लो होता चला गया।'

INDvSA: विराट 4-1 से बहुत खुश, लेकिन अगले मैच में बदल डालेंगे टीम!

INDvSA: भारत ने रचा इतिहास, 26 साल में द. अफ्रीका की धरती पर जीती सीरीज

उन्होंने कहा, 'ये हमेशा अच्छा लगता है कि आपने सेंचुरी बनाई और टीम जीत जाए। अपने आप को अच्छे फ्रेम ऑफ माइंड में रखना होता है और मैं वहीं करने की कोशिश कर रहा था।'

आगे की स्लाइड में जानें रोहित ने क्यों नहीं मनाया सेंचुरी का जश्न...

दो रनआउट ने रोहित को काफी दुखी किया
दो रनआउट ने रोहित को काफी दुखी किया

रोहित ने मैच के बाद बताया, 'मेरी आंखों के सामने दो रनआउट हुए। यही वजह थी कि मैंने अपनी सेंचुरी का जश्न नहीं मनाया।' विराट कोहली और अजिंक्य रहाणे रनआउट होकर पवेलियन लौटे थे। इन दोनों के रनआउट के लिए रोहित की काफी आलोचना भी की गई।

इसके अलावा रोहित ने कहा, 'मुझे मालूम था कि मुझे ज्यादा कुछ बदलने की जरूरत नहीं और रन अपने आप आते जाएंगे।'

आगे की स्लाइड में जानें रोहित ने और क्या कुछ कहा...

'आज मेरा दिन था'
'आज मेरा दिन था'

उन्होंने कहा, 'हम थोड़ी मुश्किल में आ गए थे और हमारे लिए ये जरूरी था कि मैं क्रीज पर ज्यादा देर रुकूं। मुझे खुशी है कि हम अच्छा स्कोर कर सके और फिर उसका बचाव भी कर पाए। आज मेरा दिन था।'

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:india vs south africa 5th odi here is why rohit sharma did not celebrate his century