DA Image
हिंदी न्यूज़ › क्रिकेट › India vs New Zealand: WTC फाइनल से पहले कीवी बॉलिंग अटैक को लेकर जानिए क्या बोले रोहित शर्मा
क्रिकेट

India vs New Zealand: WTC फाइनल से पहले कीवी बॉलिंग अटैक को लेकर जानिए क्या बोले रोहित शर्मा

भाषा,साउथम्पटनPublished By: Namita Shukla
Fri, 18 Jun 2021 05:44 PM
India vs New Zealand: WTC फाइनल से पहले कीवी बॉलिंग अटैक को लेकर जानिए क्या बोले रोहित शर्मा

आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप (डब्ल्यूटीसी) का फाइनल मैच भारत और न्यूजीलैंड के बीच खेला जाना है। साउथम्पटन में लगातार बारिश के चलते पहले दिन का खेल शुरू नहीं हो सका है। टॉस से पहले ही लंच ब्रेक तक लेना पड़ गया। इस ऐतिहासिक मैच से पहले टीम इंडिया के सीनियर बल्लेबाज रोहित शर्मा ने कीवी टीम के बॉलिंग अटैक को लेकर खुलकर अपनी राय रखी है। इंग्लैंड में टेस्ट मैचों में पहली बार सलामी बल्लेबाज की भूमिका निभा रहे रोहित को न्यूजीलैंड के बॉलिंग अटैक का अच्छी तरह से सामना करने का पूरा विश्वास है, क्योंकि वह छोटे फॉर्मेट में कई बार उनका सामना कर चुके हैं।

WTC Final IND vs NZ: साउथम्पटन में जारी बारिश के बीच रितिका सजदेह ने ट्वीट कर मांगी ये दुआ

रोहित ने स्टार स्पोर्ट्स से कहा, 'मैं उन गेंदबाजों का पहले सामना कर चुका हूं और उनके मजबूत और कमजोर पक्षों को जानता हूं। यह सब परिस्थितियों, टीम की स्थिति और हम पहले खेल रहे हैं या बाद में, इस पर निर्भर करेगा।' इस ऐतिहासिक मैच के पहले दिन शुरुआती सेशन का खेल बारिश की भेंट चढ़ गया। वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप में एक सलामी बल्लेबाज के रूप में 1000 से अधिक रन बनाने वाले रोहित ने कहा, 'यह मायने रखेगा और इस बारे में ज्यादा न सोचना भी अहम है। एक मजबूत टीम के खिलाफ चीजों को सरल और नैचुरल रखना भी जरूरी होता है।'

आरोन फिंच ने कहा, IPL 2021 खेल रहे ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों को होगी ये मुश्किल

सीमित ओवरों के सुपर स्टार रोहित को भी खेल का पारंपरिक फॉर्मेट ही पसंद हैं, क्योंकि यह आपके सामने लगातार चुनौती पेश करता है। उन्होंने कहा, 'आपको पांच दिन तक चुनौती का सामना करना होता है और मुझे लगता है कि ऐसा किसी अन्य खेल में नहीं होता है। यहां हर दिन अलग तरह की चुनौती होती है। लंबे समय के खेल में आपको धैर्य बनाए रखना होता है। आप अलग-अलग परिस्थितियों में खेलते हो और यह आसान नहीं है।' रोहित ने कहा, 'आपको पांच दिन तक मानसिक रूप से तरोताजा रहना होगा और मैदान पर अच्छे फैसले करने होंगे। आपको इन चुनौतियों से निपटने के लिए शारीरिक रूप से फिट रहना होगा।' 

संबंधित खबरें