india vs bangladesh The team victory was not necessary to make a record says deepak chahar - रिकॉर्ड बनाना नहीं टीम की जीत जरूरी थी: दीपक चाहर DA Image
7 दिसंबर, 2019|12:02|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

रिकॉर्ड बनाना नहीं टीम की जीत जरूरी थी: दीपक चाहर

दीपक ने कहा कि उन्हें अभी भी विश्वास नहीं हो रहा है कि उन्होंने हैट्रिक सहित 6 विकेट मात्र 7 रन देकर लिए हैं। दीपक ने कहा कि इतने विकेट लेने के लिए कम से कम 25 रन तो बनते ही हैं।

deepak chahar jpg

रिकॉर्ड बनाना हमेशा खास होता है, लेकिन जब भगवान की मर्जी होती है, तभी रिकॉर्ड बनते हैं। बांग्लादेश के खिलाफ जीत में योगदान भी कम महत्वपूर्ण नहीं है। 10 नवंबर 2019 मेरे लिए अबतक की सबसे यादगार तारीख बन गई है। टीम इंडिया के लिए लंबे समय तक खेलना और टीम को जिताना ही अब मेरी जिंदगी का सबसे बड़ा लक्ष्य है।

अंतर्राष्ट्रीय टी-20 में भारत के लिए पहली हैट्रिक लेने के बाद सोमवार को दीपक चाहर हिन्दुस्तान से बातचीत कर रहे थे। दीपक ने कहा कि उन्हें अभी भी विश्वास नहीं हो रहा है कि उन्होंने हैट्रिक सहित 6 विकेट मात्र 7 रन देकर लिए हैं। दीपक ने कहा कि इतने विकेट लेने के लिए कम से कम 25 रन तो बनते ही हैं। 

दीपक ने कहा कि भारत की जीत और रिकॉर्ड बनाने के बाद उन्होंने सबसे पहले भगवान का शुक्रिया अदा किया। जब रणजी ट्राफी खेलना शुरू किया था तो सोचा था कि टीम इंडिया की नीली जर्सी बनना अंतिम लक्ष्य है। अब नीली जर्सी पहन ली तो हर उस मैच में जीत की अपेक्षा होती है जिसमें मैं खेलता हूं। 

'नेट पर कम से कम एक लाख गेंदें फेंकने के बाद आया है दीपक चाहर का ऐसा परफॉर्मेंस'

दीपक चाहर नहीं हैं टी-20 इंटरनेशनल में हैट्रिक लेने वाले पहले भारतीय, चूक पर ट्रोल हुआ BCCI

सीरीज के तीसरे मैच में शानदार गेंदबाजी करने वाले दीपक ने कहा कि वह मैच में टीम की जरूरत के हिसाब से गेंदबाजी कर रहे थे। स्कोर ज्यादा बड़ा नहीं था। भगवान का आशीर्वाद साथ था और सोच-समझकर की गई गेंदबाजी भारत की जीत के काम आ गई।

भविष्य की योजना के बारे में दीपक का कहना है कि वह आगे की ज्यादा नहीं सोचते हैं। टीम इंडिया के लिए खेलने का बड़ा सपना पूरा होने के बाद अब लंबे समय तक टीम की सेवा करने का ही लक्ष्य है। 

अगले वर्ष होने वाले आईसीसी टी-20 विश्व कप के लिए टीम इंडिया में जगह बनाने की संभावना पर दीपक का कहना है कि उनका काम प्रदर्शन करते रहना है। विश्वकप के लिए टीम चुनने वाले चयनकर्ता तय करेंगे कि टीम में किसको चुनना है। 

बेटे के प्रदर्शन पर पिता और कोच लोकेन्द्र चाहर भी सोमवार को खासे खुश दिखाई दिए। उन्होंने हिन्दुस्तान से बातचीत में कहा कि बेटा देश की जीत में अहम योगदान देता रहे, यही उनकी कामना है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:india vs bangladesh The team victory was not necessary to make a record says deepak chahar