फोटो गैलरी

Hindi News क्रिकेटकुमार संगकारा ने बताया कैसे अपनी विकेटकीपिंग स्किल्स सुधार सकते हैं ऋषभ पंत

कुमार संगकारा ने बताया कैसे अपनी विकेटकीपिंग स्किल्स सुधार सकते हैं ऋषभ पंत

श्रीलंका के पूर्व कप्तान और दुनिया के सबसे सफल विकेटकीपरों में शुमार कुमार संगकारा ने भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर खेले गए सीरीज के तीसरे टेस्ट मैच के बाद ऋषभ पंत को लेकर अपनी...

कुमार संगकारा ने बताया कैसे अपनी विकेटकीपिंग स्किल्स सुधार सकते हैं ऋषभ पंत
लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्ली Tue, 12 Jan 2021 06:46 AM
ऐप पर पढ़ें

श्रीलंका के पूर्व कप्तान और दुनिया के सबसे सफल विकेटकीपरों में शुमार कुमार संगकारा ने भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर खेले गए सीरीज के तीसरे टेस्ट मैच के बाद ऋषभ पंत को लेकर अपनी बात रखी है। इसके अलावा संगकारा ने बताया कि किस तरह से पंत अपनी विकेटकीपिंग स्किल्स को सुधार सकते हैं। पंत ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सिडनी टेस्ट की दूसरी पारी में 97 रनों की पारी खेली और टेस्ट बचाने में अहम रोल अदा किया। संगकारा ने पंत और चेतेश्वर पुजारा के बीच हुई साझेदारी की भी जमकर तारीफ की।

IND को लगा एक और बड़ा झटका, आखिरी टेस्ट मैच से बाहर हुए जडेजा

उन्होंने कहा,'स्कोरिंग के रेट में बदलाव को देखें तो अब रिवर्स स्वीप, पैडल, आक्रामक मानसिकता ये सभी छोटे फॉर्मैट की देन है। यह टेस्ट क्रिकेट में भी दिखाई दे रहा है और इसे देखना काफी मजेदार है।' ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सिडनी में तीसरे टेस्ट में पंत ने 118 गेंद में 97 रन बनाए। वहीं बेन स्टोक्स ने 2019 एशेज सीरीज में हेडिंग्ले टेस्ट में नॉटआउट 135 रन की आक्रामक पारी खेली थी। संगकारा ने पंत और चेतेश्वर पुजारा की एकदम उलट बैटिंग स्किल्स का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा, 'पंत जैसे बल्लेबाज काफी आक्रमक शैली में खेलते हैं और उन्हें पुजारा जैसे पारंपरिक बल्लेबाज के साथ खेलते देखना अच्छा लगा।'

ॠषभ पंत और चेतेश्वर पुजारा की बल्लेबाजी को लेकर क्या बोले

संगकारा ने कहा, 'यह देखकर अच्छा लगा कि दो अलग खिलाड़ी, दो अलग मानसिकता और तकनीक के साथ एक टीम में कैसे साथ में खेलते हैं। इसी तरह फॉर्मैट्स की भी बात है।' भारतीय टेस्ट टीम में विकेटकीपर की जगह को लेकर काफी बहस छिड़ी हुई है। पंत बल्लेबाजी में बेहतर हैं तो ऋद्धिमान साहा विकेटकीपर के तौर पर उनसे बेहतर हैं। यह पूछने पर कि दोहरी जिम्मेदारी कैसे निभानी चाहिए, पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज ने कहा, 'प्रैक्टिस। अगर विकेटकीपिंग उतनी अच्छी नहीं है, जितनी अच्छी होनी चाहिए, तो इस पर मेहनत करें,और कोई तरीका नहीं है। प्रैक्टिस को थोड़ा और समय देना होगा और बेहतर रणनीति बनानी होगी।'

(एजेंसी इनपुट के साथ)

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें