फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News क्रिकेटIndia vs Australia: 'कई भारतीय खिलाड़ियों के चोटिल होने से भी हमारी टीम को फायदा नहीं होगा'

India vs Australia: 'कई भारतीय खिलाड़ियों के चोटिल होने से भी हमारी टीम को फायदा नहीं होगा'

ऑस्ट्रेलिया के अनुभवी स्पिनर नाथन लायन का मानना है कि चौथे टेस्ट से पहले भारत के कई खिलाड़ियों के चोटिल होने से भी मेजबान टीम फायदे की स्थिति में नहीं है। लायन ने एक वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में...

India vs Australia: 'कई भारतीय खिलाड़ियों के चोटिल होने से भी हमारी टीम को फायदा नहीं होगा'
एजेंसी,ब्रिसबेनWed, 13 Jan 2021 07:50 PM
ऐप पर पढ़ें

ऑस्ट्रेलिया के अनुभवी स्पिनर नाथन लायन का मानना है कि चौथे टेस्ट से पहले भारत के कई खिलाड़ियों के चोटिल होने से भी मेजबान टीम फायदे की स्थिति में नहीं है। लायन ने एक वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में बुधवार को कहा कि मैं यह नहीं कहूंगा कि ऑस्ट्रेलिया फायदे की स्थिति में है। भारत को कुछ बड़े खिलाड़ियों की कमी खल रही है लेकिन उसके पास काफी प्रतिभाशाली टीम है। तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह और ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा के चोटिल होने से भारत को दूसरे दर्जे के बॉलिंग अटैक के साथ उतरना होगा।

IND vs AUS: शोएब अख्तर की भविष्यवाणी, ब्रिसबेन में इस टीम को बताया जीत का दावेदार

लायन ने कहा कि हमें अपनी तैयारी की चिंता होनी चाहिए। उनके बारे में सोचने की जरूरत नहीं है। गाबा की पिच हमारी गेंदबाजी के अनुकूल है और उम्मीद है कि हम अच्छा प्रदर्शन कर सकेंगे। ऑस्ट्रेलिया ने इस मैदान पर 55 में से 33 टेस्ट जीते, 13 ड्रॉ खेले और आठ गंवाए हैं जबकि एक मैच टाई रहा। लायन ने कहा कि हमारा यहां शानदार रिकॉर्ड है। टीम आत्मविश्वास से भरी है और हम सकारात्मक क्रिकेट खेलना जानते हैं, लेकिन सिर्फ उसके भरोसे नहीं बैठ सकते।

बाबुल सुप्रियो ने निकाली बैटिंग में कमी, विहारी ने इस तरह की बोलती बंद

उन्होंने आगे कहा कि हमें पता है कि भारतीय टीम कितनी प्रतिभाशाली है और सीरीज जीतने को लालायित भी। ऋषभ पंत के बल्लेबाजी गार्ड को मिटाने के प्रयास के कारण आलोचना झेल रहे स्टीव स्मिथ का बचाव करते हुए उन्होंने कहा कि मैं वाकई बहुत दुखी हूं, जिस तरह से हर कोई उसे निशाना बना रहा है। उसने 80 के करीब टेस्ट जीते हैं और हर टेस्ट में वह ऐसा करता आया है। उन्होंने कहा कि उस टेस्ट में हमें आगे बल्लेबाजी नहीं करनी थी लेकिन वह फिर भी बल्लेबाजी के बारे में सोच रहा था। वह मेरी मदद के लिए भी ऐसा करता आया है। वह देख रहा था कि मुझे गेंद कहां डालनी है और क्या रफ्तार होनी चाहिए।