DA Image
4 मार्च, 2021|10:16|IST

अगली स्टोरी

मुंबई लोकल ट्रेन में सीट मिलना या तेज गेंदबाजों का सामना? जानें शार्दुल ठाकुर की नजर में क्या है ज्यादा मुश्किल

pic credit  fox cricket

टीम इंडिया के तेज गेंदबाज शार्दुल ठाकुर पिछले कुछ समय से काफी चर्चा में रहे हैं। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चार टेस्ट मैच की सीरीज के आखिरी मैच में शार्दुल ने ब्रिसबेन के गाबा मैदान पर पहली पारी में 67 रनों की अहम पारी खेली थी, जिसके दम पर टीम इंडिया ने जीत की नींव रखी थी। शार्दुल ने बल्लेबाजी के दौरान ऑस्ट्रेलिया के पेस अटैक का सामना किया था, जिसे दुनिया के बेस्ट पेस अटैक में से एक माना जाता है। जोश हेजलवुड, पैट कमिंस और मिचेल स्टार्क जैसे गेंदबाजों के खिलाफ शार्दुल ने अपनी बल्लेबाजी से काफी प्रभावित किया था। शार्दुल ने भारत लौटने के बाद कहा कि मुंबई की लोकल ट्रेन में सीट मिलना दुनिया के दिग्गज तेज गेंदबाजों का सामना करने से भी ज्यादा मुश्किल है।

मजेदार MEME के साथ वीरेंद्र सहवाग ने पुजारा को कहा- Happy B'day

ऑस्ट्रेलिया में हाल में खत्म हुई बॉर्डर-गावस्कर सीरीज से पहले शार्दुल के पास महज एक टेस्ट मैच का अनुभव था, लेकिन उन्होंने जिस तरह से ऑस्ट्रेलिया में बैट और बॉल से प्रभावित किया, उससे कई दिग्गज क्रिकेटर्स प्रभावित हुए। उनकी ऑल-राउंडर स्किल्स निर्णायक टेस्ट मैच में टीम इंडिया के लिए काफी अहम साबित हुई थी। शार्दुल ने पहली पारी में 115 गेंदों का सामना किया था, जिसमें 9 चौके और दो छक्के शामिल थे। शार्दुल महाराष्ट्र के पालघर के रहने वाले हैं और उन्होंने अपने बचपन के दिनों से मुंबई की लोकल ट्रेन में काफी सफर किया है। अभी भी उन्हें लोकल ट्रेन में सफर करने में कोई शर्म नहीं आती है।

नए लुक में नजर आए धोनी, फैन्स ने जमकर की तारीफ- PHOTOS

इंडियन एक्सप्रेस को दिए इंटरव्यू में जब शार्दुल से पूछा गया कि क्या मुंबई लोकल ट्रेन में सीट मिलना दुनिया के दिग्गज तेज गेंदबाजों का सामना करने से मुश्किल है, तो उन्होंने कहा, 'मुंबई लोकल ट्रेन में सीट मिलना ज्यादा मुश्किल है, इसके लिए आपको स्किल और टाइमिंग दोनों चाहिए। तेज गेंदबाजों का सामना करना फिर भी बहुत आसान है। मुझे तेज गेंदबाजों का सामना करना हमेशा से बहुत पसंद है। मुझे कभी भी स्पीड से डर नहीं लगता है। मुझे 145 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से ज्यादा की गेंद का सामना करने से भी डर नहीं लगता। ऐसा शायद इसलिए है कि मेरा क्रिकेट करियर ही ऐसे शुरू हुआ। पालघर की पिचों में असामान्य उछाल होता था तो यह मेरे खेल में अपने आप आ गया। इसके अलावा टीम इंडिया के लिए प्रैक्टिस करते समय मैं थ्रोडाउन स्पेशलिस्ट का सामना खूब करता हूं, तो मुझे तेज गेंदबाजों को खेलने की आदत है।'

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:India vs Australia Getting a seat in Mumbai local requires skill and timing facing fast bowlers is much easier feels Shardul Thakur Ind vs Aus