DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

टीम इंडिया सपोर्ट स्टाफ सलेक्शन शुरू, इस खास वजह से संजय बांगड़ का जाना तय!

batting coach sanjay bangar  ap

टीम इंडिया के प्रमुख कोच रवि शास्त्री (Ravi Shasrti) का पिछले सप्ताह ही रिन्युअल हुआ है। अब सपोर्ट स्टाफ के चयन काम बचा है। सपोर्ट स्टाफ को चुनने की जिम्मेदारी एमएसके प्रसाद की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय सीनियर चयन समिति पर है। समिति ने सोमवार से प्रक्रिया शुरू कर दी है और गुरुवार तक वह सपोर्ट स्टाफ के नामों का ऐलान कर देगी। माना जा रहा है कि गेंदबाजी कोच भारत अरुण और फील्डिंग कोच आर श्रीधर इन पोस्ट के प्रबल दावेदार हैं। वहीं, बल्लेबाजी कोच संजय बांगड़ को विक्रम राठौड़ से कड़ी चुनौती मिलने की उम्मीद है।

बल्लेबाजी कोच के स्थान पर जरूर बदलाव देखा जा सकता है। मौजूदा बल्लेबाजी कोच संजय बांगड़ का जाना तय माना जा रहा है और इसकी वजह नंबर-4 के लिए उपुयक्त बल्लेबाज न खोज पाना माना जा रहा है। पूर्व चयनकर्ता विक्रम राठौड़ और पूर्व बल्लेबाज प्रवीण आमरे ने बल्लेबाजी कोच के लिए आवेदन दिया है। अब देखना होगा कि किसके हिस्से यह जिम्मेदारी आती है। 

विक्रम राठौड़ भी पूर्व टेस्ट ओपनर रहे हैं। रवि शास्त्री को टी-20वर्ल्ड कप 2021 तक के लिए कोच बना दिया गया है। ऐसे में आदर्श स्थिति यही है कि वह स्पोर्ट स्टाफ भी पुराना ही रखें,क्योंकि इन सबने मिलकर बल्लेबाजी, गेंदबाजी और फील्डिंग तीनों विभागों में शानदार प्रदर्शन किया है। शास्त्री का तो यह मानना है कि भारतीय फील्डिंग विश्व में बेस्ट है।

रवि शास्त्री फिर बने टीम इंडिया के कोच, लेकिन वायरल हो गया आर्चर का ट्वीट

सूत्रों के अनुसार, सबसे ज्यादा आवेदन बल्लेबाजी कोच के लिए आए थे। संजय बांगड़ ने हाल ही में हिन्दुस्तान टाइम्स से बातचीत में कहा था कि उन्होंने इस पद पर बने रहने के लिए बहुत कुछ किया है, फिर भी उन पर बहुत दबाव था। पूर्व ऑलराउंडर 2014 से टीम के साथ हैं। इस दौरान भारत ने 50 टेस्ट और 119 वनडे खेले हैं। भारतीय बल्लेबाजों ने क्रमशः 69 और 72 शतक लगाए हैं। 

वहीं, 90 के दशक में विक्रम राठौड़ ने छह टेस्ट और 7 वनडे खेले। इस साल के शुरू में उनका इंडिया ए और अंडर 19 के साथ जुड़ना ड्यू था। अंडर-19 के कोच राहुल द्रविड़ को उनका समर्थन था, लेकिन पूर्व इंडियन स्पिनर आशीष कपूर से उनके विवादों से मामला अटक गया। आशीष कपूर जूनियर सलेक्शन कमेटी के प्रमुख हैं। हाल ही में एक बार फिर से वह नेशनल क्रिकेट अकादमी (NCA) में बल्लेबाजी कोच के लिए शॉर्टलिस्ट किए गए। राहुल द्रविड़ ने इस अकादमी के निदेशक के रूप में चार्ज लिया है। 

बल्लेबाजी कोच के लिए जिन अन्य लोगों ने आवदेन किया था- उनमें रॉबिन सिंह, अमोल मजूमदार, ऋषिकेश कानिटकर, लालचंद राजपूत, मिथुन मिन्हास और प्रवीण आमरे थे। विदेशियों में इंग्लैंड के पूर्व बल्लेबाज जोनाथन ट्रॉट और मार्क रामप्रकाश थे। 

हेड कोच बनने के बाद रवि शास्त्री ने दिया पहला इंटरव्यू, बताया अगले दो वर्षों का प्लान

वहीं, भरत अरुण के लिए सबसे बड़ी चुनौती वेंकटेश प्रसाद हैं। वह 2007 से 2009 तक इस पद पर रह चुके हैं। पूर्व लेफ्ट आर्म स्पिनर सुनील जोशी भी इस रेस में शामिल हैं। फील्डिंग कोच के रूप में सबसे मजबूत दावेदार दक्षिण अफ्रीका के जोंटी रोड्स का समझा जा रहा है। हालांकि, वर्तमान फील्डिंग कोच श्रीधर पांच साल से टीम के साथ हैं। 

उम्मीदवारों की बड़ी संख्या को देखते हुए चयन की प्रक्रिया में तीन-चार दिन का समय लग रहा है। तीन सदस्यों की चयन समिति जिसमें कपिल देव, अंशुमान गायकवाड़ और शांता रंगास्वामी ने सपोर्ट सटाफ के चयन की मांग भी की थी। इसी समिति ने रवि शास्त्री का नाम प्रमुख कोच के लिए तय किया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:India support staff selection starts today Batting coach Sanjay Bangar faces the vikram rathore challenge