DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   क्रिकेट  ›  दीपक चाहर ने बताया क्यों सिर्फ इंद्रानगर नहीं बल्कि पूरे इंडिया के 'गुंडे' हैं राहुल द्रविड़
क्रिकेट

दीपक चाहर ने बताया क्यों सिर्फ इंद्रानगर नहीं बल्कि पूरे इंडिया के 'गुंडे' हैं राहुल द्रविड़

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Namita Shukla
Thu, 22 Jul 2021 08:29 PM
दीपक चाहर ने बताया क्यों सिर्फ इंद्रानगर नहीं बल्कि पूरे इंडिया के 'गुंडे' हैं राहुल द्रविड़

टीम इंडिया के पूर्व क्रिकेटर राहुल द्रविड़ अपने शांत स्वभाव के लिए हमेशा मशहूर रहे हैं। हाल में उनको लेकर एक ऐड आया था, जिसमें उनको गुस्सा करते हुए दिखाया गया था। उस ऐड में द्रविड़ बैट से गाड़ी पर हमला करते दिखे थे और बाद में चिल्लाते हुए कहा था, 'मैं इंद्रानगर का गुंडा हूं।' यह ऐड खूब वायरल हुआ था और अभी तक इसकी चर्चा होती रहती है। द्रविड़ इस समय टीम इंडिया के हेड कोच के तौर पर श्रीलंका के दौरे पर हैं। भारत और श्रीलंका के बीच तीन मैचों की सीरीज का दूसरा वनडे इंटरनेशनल मुकाबला 20 जुलाई को खेला गया था, जिसमें भारत ने तीन विकेट से जीत दर्ज की थी। दीपक चाहर ने नॉटआउट 69 रनों की पारी खेलकर भारत को यह जीत दिलाई थी। तीसरे वनडे से पहले दीपक चाहर ने कहा कि द्रविड़ सिर्फ इंद्रानगर के नहीं बल्कि पूरे इंडिया के गुंडे हैं।

चाहर ने कहा, 'राहुल द्रविड़ सिर्फ इंडिया का गुंडा नहीं है, पूरे इंडिया का बन गए हैं।' सीरीज के दूसरे मैच में जब टीम इंडिया मुश्किलों में घिरी नजर आ रही थी, तब द्रविड़ ड्रेसिंग रूम से डगआउट में पहुंच गए और राहुल चाहर के साथ दीपक के लिए मैसेज भेजवाया था। इसके अलावा चाहर को बैटिंग ऑर्डर में भुवनेश्वर कुमार से पहले भेजने का फैसला भी राहुल द्रविड़ का ही था। टीम इंडिया ने जिस तरह से वापसी करके यह मैच जीता, उसके बाद से द्रविड़ की जमकर तारीफ हो रही है और टीम इंडिया की जीत का क्रेडिट चाहर के साथ कोच राहुल द्रविड़ को भी दिया जा रहा है।

द्रविड़ भारत के सबसे लोकप्रिय क्रिकेटरों में से एक हैं। द्रविड़ ने चाहर को कहा था कि वह आखिरी तक क्रीज पर टिकें और इस खिलाड़ी ने कोच की बात मानते हुए ऐसा किया और भारत को जीत दिलाई। मैच के बाद चाहर ने कहा था कि राहुल द्रविड़ का उन पर जो भरोसा था, उससे ही उन्हें यह पारी खेलने में मदद मिली। भारत ने 276 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए एक समय 193 के स्कोर तक सात विकेट गंवा दिए थे। चाहर ने भुवी के साथ मिलकर इसके बाद टीम इंडिया को जीत दिलाई।

संबंधित खबरें