DA Image
हिंदी न्यूज़ › क्रिकेट › पृथ्वी शॉ के ऐटिट्यूड पर भारत के पूर्व कोच अंशुमान गायकवाड़ ने दिया बड़ा बयान, बोले-उन्हें जमीन से जुड़े रहने की जरूरत
क्रिकेट

पृथ्वी शॉ के ऐटिट्यूड पर भारत के पूर्व कोच अंशुमान गायकवाड़ ने दिया बड़ा बयान, बोले-उन्हें जमीन से जुड़े रहने की जरूरत

लाइव हिन्दुस्तान टीम ,नई दिल्ली Published By: Guest2
Sat, 10 Jul 2021 06:52 PM
पृथ्वी शॉ के ऐटिट्यूड पर भारत के पूर्व कोच अंशुमान गायकवाड़ ने दिया बड़ा बयान, बोले-उन्हें जमीन से जुड़े रहने की जरूरत

भारतीय टीम सलामी बल्लेबाज शिखर धवन की कप्तानी में इन दिनों श्रीलंका दौरे पर है। युवा खिलाड़ियों से सजी इस टीम में ऐसे कई नाम हैं, जिनपर पूर्व खिलाड़ियों की नजर है, उन्हीं में से एक नाम है पृथ्वी शॉ का। 2018 में भारत की अंडर-19 विश्वकप विजेता टीम के कप्तान पृथ्वी ने अपने अब तक के अपने छोटे इंटरनेशनल क्रिकेट के सफर में कई उतार-चढ़ाव देखे हैं। 2020-21 के ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर खराब प्रदर्शन करने के बाद उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया था। उसके बाद पृथ्वी ने जबरदस्त बल्लेबाजी की। विजय हजारे ट्रॉफी में रिकॉर्ड 827 रन बनाए, जिसमें एक दोहरा शतक भी शामिल है। आईपीएल 2021 में भी उनका बल्ला सिर चढ़कर बोला, आईपीएल 2021 में खेले 8 मैचों में उन्होंने 308 रन बनाए। उनकी इस शानदार बल्लेबाजी के कारण उन्हें श्रीलंका दौरे के लिए टीम में शामिल किया गया। उनकी इस यात्रा पर पूर्व कोच अंशुमान गायकवाड़ ने बड़ा बयान दिया है।

 

'हिन्दुस्तान टाइम्स' से भारतीय टीम के पूर्व कोच ने इस सीरीज के बारे में बात की और कहा कि यह सीरीज पृथ्वी शॉ के लिए काफी महत्वपूर्ण होने वाली है। उन्होंने पृथ्वी के बारे में बात करते हुए कहा, 'वह एक शानदार खिलाड़ी हैं, जिन्होंने ढेरों रन बनाए हैं। जब वो इंटरनेशनल क्रिकेट में आए थे तो ऐसा लगा कि ये खिलाड़ी इस मंच पर टिकेगा, मगर ऐसा नहीं हो सका। ये शायद विश्वास, अति विश्वास या फिर घमंड के कारण हुआ है। ये सभी किसी भी खिलाड़ी के पतन का कारण बनते हैं। खिलाड़ी को जमीन से जुड़ा होना चाहिए, यह बहुत जरूरी है'। उन्होंने कहा, 'मुझे पता है युवावस्था में ये सब होता है, पर मुझे लगता है उन्हें उनका सबक मिल गया है। कुछ खिलाड़ी दूसरों से प्रेरित होते हैं, तो कुछ अपने अनुभव से।'

 

पृथ्वी शॉ ने जब 2018 में टेस्ट में डेब्यू किया तो रवि शास्त्री ने उन्हें ब्रायन लारा, सचिन तेंदुलकर और वीरेंद्र सहवाग का मिश्रण बता दिया। उसके बाद उनका करियर ग्राफ ऊपर-नीचे होता रहा। 2019 में पृथ्वी डोप टेस्ट में फेल हो गए और उनपर 8 महीने का बैन लग गया। इसके बाद उनके कंधे में भी चोट लग गई। इस दौरान उनकी फॉर्म भी चली गई। 2020 के न्यूजीलैंड दौरे पर भी उनका बल्ला कम ही चला। आईपीएल 2020 में भी उनका बल्ला खामोश रहा। 2020-21 के ऑस्ट्रेलिया दौरे पर पहले टेस्ट की दोनों परियों में उन्होंने स्विंग के आगे सरेंडर कर दिया। इसके बाद उन्हें टीम से निकाल दिया गया था। मगर उन्होंने मुंबई के कोच प्रवीण आमरे के साथ मिलकर कड़ी मेहनत की और टीम में वापसी की।

संबंधित खबरें