Wednesday, January 26, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ क्रिकेटIND vs NZ : मुंबई पांच साल बार फिर से टेस्ट मैच की मेजबानी को तैयार, जानिए वानखेड़े स्टेडियम में कैसा रहा है टीम इंडिया का रिकॉर्ड

IND vs NZ : मुंबई पांच साल बार फिर से टेस्ट मैच की मेजबानी को तैयार, जानिए वानखेड़े स्टेडियम में कैसा रहा है टीम इंडिया का रिकॉर्ड

लाइव हिन्दुस्तान टीम,मुंबई Ezaz Ahmad
Fri, 03 Dec 2021 08:40 AM
IND vs NZ : मुंबई पांच साल बार फिर से टेस्ट मैच की मेजबानी को तैयार, जानिए वानखेड़े स्टेडियम में कैसा रहा है टीम इंडिया का रिकॉर्ड

इस खबर को सुनें

भारत और न्यूजीलैंड के बीच दूसरा और अंतिम टेस्ट अब से कुछ ही देर में मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में शुरू होने वाला है। यह स्टेडियम पांच साल बाद एक बार फिर से टेस्ट मैच की मेजबानी के लिए तैयार है। भारत और न्यूजीलैंड के बीच कानपुर में खेला गया पहला टेस्ट बिना किसी परिणाम के ड्रॉ हो गया था। इस मैच में जो टीम जीतेगी वह सीरीज अपने नाम कर लेगी। वानखेड़े का यह मैदान अतीत में कई रोमांचक मुकाबलों गवाह रह चुका है और अब एक बार फिर से फैंस को एक रोमांचक मुकाबले उम्मीद है।

वानखेड़े स्टेडियम में भारत और न्यूजीलैंड के बीच अबतक दो टेस्ट मुकाबले हुए हैं और दोनों ही मैचों में भारत का पलड़ा भारी रहा है। पहला मैच 1976 में खेला गया था, जिसमें टीम इंडिया ने 162 रनों से बड़ी जीत दर्ज की थी। वहीं, दूसरा मुकाबला 1988 में हुआ था जिसमें भारतीय टीम ने 132 रनों से जीत अपने नाम की थी। भारतीय टीम ने अब तक वानखेड़े स्टेडियम में कुल 25 मुकाबले खेले हैं, जिसमें 11 मैचों में उसे जीत मिली है जबकि सात में हार का सामना करना पड़ा है। इसके अलावा सात मैच ड्रॉ हुए हैं। 

भारत ने इस मैदान पर अपना पिछला टेस्ट मैच 2016 में इंग्लैंड के खिलाफ खेला था, जब उसने मेह​मान टीम को एक पारी और 36 रन से हराया था। वानखेड़े स्टेडियम में जहां तक भारत और न्यूजीलैंड के बीच हुए मैचों का सवाल है तो दोनों टीमें यहां दो बार आमने-सामने हो चुकी हैं। इनमें से दोनों को एक-एक जीत मिली है। इस मैदान पर भारत की ओर से उच्चतम स्कोर बनाने का रिकॉर्ड विनोद कांबली हैं, उन्होंने 1992-93 में इंग्लैंड के खिलाफ 224 रनों की पारी खेली थी। वानखेड़े की पिच आमतौर पर बल्लेबाजों के फेवर में रही है। हालांकि, आखिरी दो दिनों में यहां स्पिनरों की मदद मिल सकती है।

epaper

संबंधित खबरें