फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News क्रिकेटIND vs ENG : 'पापा को आज मेरे प्रदर्शन पर गर्व होगा',धर्मशाला में शतक लगाने के बाद इमोशनल हुए शुभमन गिल

IND vs ENG : 'पापा को आज मेरे प्रदर्शन पर गर्व होगा',धर्मशाला में शतक लगाने के बाद इमोशनल हुए शुभमन गिल

भारतीय टीम के बल्लेबाज शुभमन गिल ने इंग्लैंड के खिलाफ जारी टेस्ट सीरीज में दूसरा शतक लगाया है। उन्होंने खेल खत्म होने के बाद कहा कि इस पारी से उनके पिता काफी गर्व महसूस करेंगे।

IND vs ENG : 'पापा को आज मेरे प्रदर्शन पर गर्व होगा',धर्मशाला में शतक लगाने के बाद इमोशनल हुए शुभमन गिल
Himanshu Singhलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीFri, 08 Mar 2024 07:36 PM
ऐप पर पढ़ें

भारत के स्टार बल्लेबाज शुबमन गिल ने इंग्लैंड के खिलाफ धर्मशाला में अपने शानदार शतक का श्रेय अपने पिता लखविंदर गिल को दिया। गिल ने दूसरे दिन का खेल खत्म होने के बाद कहा कि उनके पिता ने एक ऐसे ही शतक की कल्पना की थी और इस शतक के बाद उनके पिता को उनपर गर्व होगा। पांचवें टेस्ट मैच में पहली पारी में शुभमन गिल ने रोहित के साथ मिलकर शानदार शतकीय साझेदारी की और सीरीज का दूसरा शतक भी लगाया।

धर्मशाला में खेले जा रहे मैच में पांचवें टेस्ट के दूसरे दिन शुभमन गिल के पिता लखविंदर भी मौजूद रहे। गिल के शतक लगाने के बाद स्टैंड में मौजूद उनके पिता खुशी से झूम उठे थे। गिल ने बशीर को चौका जड़कर सौ रन पूरे किए। श्रृंखला में दूसरा शतक जमाने के बाद उन्होंने हेलमेट उतारकर दर्शकों का झुककर अभिवादन किया जिसमें उनके पिता भी बैठे थे, इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। 

दूसरे दिन का खेल खत्म होने पर शुभमन गिल ने ब्रॉडकास्टर से बातचीत में कहा, ''ये मेरे पिता का विजन था। उन्हें आज मेरे प्रदर्शन पर गर्व होगा। शुरुआत में गेंद ज्यादा हलचल नहीं कर रही थी और मैं उस (एंडरसन) पर दबाव डालना चाहता था। हर बार मैं जब भी बल्लेबाजी के लिए जाता हूं अच्छा महसूस करता हूं। मैंने बड़ा स्कोर मिस कर दिया लेकिन मैं अच्छा महसूस कर रहा हूं।''

IND vs ENG : देवदत्त पडिक्कल ने चौथे नंबर पर बल्लेबाजी कर रचा इतिहास, 36 साल बाद हुआ ऐसा

मोहाली में घर पर होने पर शुभमन को ट्रेनिंग देने वाले उनके पिता लखविंदर ने कहा कि वह तीसरे नंबर पर उतरने के उसके फैसले से सहमत नहीं हैं। उन्होंने कहा, ''उसे पारी का आगाज ही करना चाहिए। जब आप ड्रेसिंग रूम में लंबे समय तक बैठते हैं तो दबाव बढता है। तीसरा नंबर ना तो पारी की शुरूआत का है और ना ही मध्यक्रम का। इसके अलावा उसका खेल ऐसा नहीं है। यह क्रम चेतेश्वर पुजारा के अनुकूल है जो रक्षात्मक खेलता है।''