DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   क्रिकेट  ›  INDvAUS: विराट की कप्तानी को लेकर मचे बवाल के बीच उनके सपोर्ट में आए हरभजन सिंह

क्रिकेटINDvAUS: विराट की कप्तानी को लेकर मचे बवाल के बीच उनके सपोर्ट में आए हरभजन सिंह

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Namita Shukla
Mon, 30 Nov 2020 12:50 PM
INDvAUS: विराट की कप्तानी को लेकर मचे बवाल के बीच उनके सपोर्ट में आए हरभजन सिंह

टीम इंडिया इन दिनों ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर है। दोनों टीमों के बीच तीन मैचों की वनडे इंटरनैशनल सीरीज खेली जा रही है और इसके बाद तीन मैचों की टी20 इंटरनैशनल सीरीज भी खेली जानी है। लिमिटेड ओवर फॉर्मैट के बाद 17 दिसंबर से चार टेस्ट मैचों की बॉर्डर-गावस्कर सीरीज खेली जाएगी। टीम इंडिया के लिए दौरे की शुरुआत अच्छी नहीं रही और लगातार दो मैच हारकर वनडे सीरीज विराट एंड कंपनी पहले ही गंवा चुकी है। लगातार दो वनडे मैचों में हार के बाद से विराट कोहली की कप्तानी पर सवाल खड़े हो रहे हैं, इस बीच सीनियर क्रिकेटर हरभजन सिंह ने उनका बचाव किया है।

INDvAUS: विराट कोहली की कप्तानी को लेकर भड़के गौतम गंभीर

हाल ही में मुंबई इंडियंस ने रोहित शर्मा की कप्तानी में इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का पांचवां खिताब जीता था, जिसके बाद से लगातार यह बहस चल रही है कि क्या लिमिटेड ओवर फॉर्मैट में विराट की जगह रोहित को कप्तान बना दिया जाना चाहिए। गौतम गंभीर ने इस सीरीज में विराट की कप्तानी को खराब करार दिया और आकाश चोपड़ा भी उनसे सहमत नजर आए, लेकिन सीनियर स्पिनर भज्जी अब विराट के सपोर्ट में उतरे हैं। भज्जी ने कहा कि कोहली पर कप्तानी के साथ कोई अतिरिक्त दबाव नहीं है।  भज्जी ने इंडिया टुडे पर कहा, 'मुझे नहीं लगता कि कप्तानी को लेकर विराट किसी भी तरह के दबाव में हैं। मुझे नहीं लगता कि कप्तानी उनके लिए बोझ है। मुझे लगता है वह चुनौतियों का सामना करना चाहते हैं, वह लीडर हैं, जो फ्रंट से लीड कर टीम के बाकी खिलाड़ियों के लिए उदाहरण पेश करते हैं।'

विराट के लिए सूर्यकुमार ने किया ऐसा ट्वीट कि फैन्स ने कर दिया ट्रोल

भज्जी ने आगे कहा, 'मुझे नहीं लगता कि विराट के खेल पर कप्तानी का असर पड़ रहा है, यह ऐसा है कि एक शख्स आपको मैच जीतकर नहीं दे सकता है। जैसा कि मैं पहले भी कह चुका हूं, वर्ल्ड कप के बाद भी। आपको पता है कि आपके पास विराट कोहली और रोहित शर्मा हैं। केएल राहुल को बल्लेबाजी करते देखना अच्छा लगता है, लेकिन आपके पास कुछ और कंसिस्टेंट खिलाड़ी होने चाहिए, जो टीम इंडिया के लिए अच्छा करें। जिससे कुछ दबाव विराट से हटे और वह खुलकर खेल सकें।'
 

संबंधित खबरें