फोटो गैलरी

Hindi News क्रिकेटIND vs AUS: आकाश चोपड़ा ने किया एक्सप्लेन क्यों T20 में हिट और ODI में फ्लॉप हैं सूर्यकुमार यादव

IND vs AUS: आकाश चोपड़ा ने किया एक्सप्लेन क्यों T20 में हिट और ODI में फ्लॉप हैं सूर्यकुमार यादव

सूर्यकुमार यादव को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पांच मैचों की टी20 इंटरनेशनल सीरीज में कप्तानी का मौका मिला है और अपनी कप्तानी में उन्होंने पहला ही मैच दो विकेट से जीता। सूर्यकुमार यादव मैन ऑफ द मैच चुने गए।

IND vs AUS: आकाश चोपड़ा ने किया एक्सप्लेन क्यों T20 में हिट और ODI में फ्लॉप हैं सूर्यकुमार यादव
Namita Shuklaलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीFri, 24 Nov 2023 12:44 PM
ऐप पर पढ़ें

37 मैच 25.77 का मामूली औसत और 105.03 का स्ट्राइक रेट... वहीं 54 मैच 46.85 का धांसू औसत और 173.38 का धाकड़ स्ट्राइक रेट, ये आंकड़े हैं सूर्यकुमार यादव के वनडे इंटरनेशनल क्रिकेट और टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट के। टी20 इंटरनेशनल बैटर रैंकिंग में सूर्या नंबर-1 पायदान पर हैं और इस फॉर्मेट में मौजूदा समय में उनको बेस्ट बल्लेबाज माना जाता है। सूर्या हालांकि वनडे में सफल नहीं हुए हैं, इस बल्लेबाज ने जहां तीन शतक और 16 हाफसेंचुरी टी20 इंटरनेशनल में ठोकी हैं, वहीं वनडे में उनके खाते में महज चार पचासा दर्ज हैं। इस भारतीय बल्लेबाज के वनडे और टी20 स्टैट्स में जमीन आसमान का फर्क है और टीम इंडिया के पूर्व क्रिकेटर आकाश चोपड़ा ने समझाया है कि आखिर यह फर्क क्यों है। इंडिया वर्सेस ऑस्ट्रेलिया पांच मैचों की सीरीज पहले टी20 इंटरनेशनल मैच में कप्तानी कर रहे सूर्या ने 42 गेंदों पर 80 रन ठोके और ऑस्ट्रेलिया के खिताफ भारत की जीत में अहम भूमिका निभाई।

रिंकू की कामयाबी के पीछे किसका हाथ? कार्तिक ने बताई 'अनटोल्ड स्टोरी'

आकाश चोपड़ा ने सूर्या को लेकर कहा, 'टी20 में सूर्यकुमार एकदम अलग तरह के खिलाड़ी नजर आते हैं, उनका अप्रोच एकदम अलग है, वह बिल्कुल अनस्टॉपेबल हो जाते हैं, ऐसा क्यों होता है? ऐसा इसलिए होता है क्योंकि उनका डीएनए एकदम अलग तरह से सेट हो चुका है। वह इस फॉर्मेट को और इस फॉर्मेट की जरूरतों को समझते हैं। और वह टी20 इंटरनेशनल में मैच की परिस्थिति के हिसाब से खेलते हैं। इतना ही नहीं विरोधी टीम को भी समझ आता है, और फील्ड प्लेसमेंट में वह नजर भी आता है।'

क्यों रिंकू का विनिंग SIX नहीं आया किसी काम? यहां समझें ICC का नियम

आकाश चोपड़ा ने कहा, 'मेरा मानना है कि यह जरूरी नहीं है कि कोई खिलाड़ी तीनों फॉर्मेट में ही खेले। सूर्या सिर्फ टी20 क्रिकेटर बनकर भी रह सकते हैं। यह अच्छा होगा कि अगले छह महीने तक उन्हें बस टी20 क्रिकेट पर फोकस करने के लिए छोड़ दिया जाए। मुझे लगता है कि हम एक टी20 रॉकस्टार को सिर्फ इसलिए नहीं खोना चाहेंगे कि वह तीनों फॉर्मेट में खेले ही।'

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें