In British Parliament Pakistan Origin MP Rehman Chishti vouch for Sachin Tendulkar and Kapil Dev to Felicitates with Knightwood - ब्रिटेन में पाकिस्तानी मूल के सांसद ने उठाई सचिन तेंदुलकर और कपिल देव के हक की आवाज DA Image
18 नबम्बर, 2019|2:25|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ब्रिटेन में पाकिस्तानी मूल के सांसद ने उठाई सचिन तेंदुलकर और कपिल देव के हक की आवाज

इस अवसर पर वेस्टमिंस्टर ऍबी में 'कॉमनवेल्थ डे सर्विस' का भी आयोजन किया गया जिसमें ब्रिटेन की महारानी एलिबेथ मौजूद रहीं। 

An Old pic of Kapil Dev (L) Sachin Tendulkar (M) and Mohammad Azaharuddin

जब डॉन ब्रैडमैन और रिचर्ड हैडली को 'नाइटवुड' से सम्मानित किया जा सकता है तो फिर कपिल देव, सचिन तेंदुलकर, इमरान खान और वसीम अकरम जैसे महान क्रिकेटरों को क्यों नहीं? ब्रिटेन की पार्लियामेंट में यह मांग 'कॉमनवेल्थ डे' पर पाकिस्तानी मूल के सांसद रहमान चिश्ती की ओर से की गई। इस अवसर पर वेस्टमिंस्टर ऍबी में 'कॉमनवेल्थ डे सर्विस' का भी आयोजन किया गया जिसमें ब्रिटेन की महारानी एलिबेथ मौजूद रहीं। 

केंट के 'गिलिंगम एंड रेनहैम' सीट से चुनकर ब्रिटिश संसद में पहुंचे ​रहमान चिश्ती ने यह मुद्दा तब उठाया जब वहां की विदेश मंत्री हैरिएट बाल्डविन ने क्रिकेट को सभी कॉमनवेल्थ देशों के ​बीच जुड़ाव का एक माध्यम बताया। रहमान चिश्ती ने उपमहाद्वीप के क्रिकेटरों को 'नाइटवुड' से सम्मानित नहीं किए जाने को भेद-भाव बताया। रहमान चिश्ती की इस मांग पर ब्रिटेन की विदेशमंत्री हैरिएट बॉल्डविन ने सकारात्मक प्रतिक्रिया दी और अन्य सांसदों की तरफ से भी उन्हें समर्थन प्राप्त हुआ।

Read Also: IND vs AUS: सीरीज हार के बाद वर्ल्ड कप को लेकर कोहली ने दिया बड़ा बयान

सचिन-कपिल को 'नाइटवुड' क्यों नहीं?
चिश्ती ने कहा, 'ऑस्ट्रेलिया से सर डॉन ब्रैडमैन को, न्यूजीलैंड से सर रिचर्ड हैडली को नाइटवुड से सम्मानित किया गया है। लेकिन पाकिस्तान, भारत, दक्षिण अफ्रीका और श्रीलंका के महान क्रिकेटरों को इस सम्मान से वंचित रखा गया है। श्रीलंका में मुथैया मुरलीधरन हैं, पाकिस्तान में वसीम अकरम और इमरान खान हैं, दक्षिण अफ्रीका में जैक कैलिस हैं, भारत में सचिन तेंदुलकर और कपिल देव हैं। ये सभी महान क्रिकेटर्स हैं। इस साल जब हम (इंग्लैंड) विश्व कप की मेजबानी कर रहे हैं तो क्या माननीय मंत्री जी यह सुनिश्चित करना चाहेंगे कि विसंगित को दूर करते हुए इन सभी क्रिकेटरों को भी नाइटवुड से सम्मानित किया जाए।'

जानें क्या है नाइटहुड सम्मान या उपाधि?
ब्रिटिश सरकार साल 1917 से विभिन्न क्षेत्रों में अपना योगदान देने वाले ब्रिटिश नागरिकों को यह सम्मान दे रही है। किंग जॉर्ज पंचम के समय में यह सम्मान सिर्फ शीर्ष पदों पर बैठे लोगों या युद्ध के समय वीरता दिखाने वाले जवानों को दिया जाता था। लेकिन बाद में इसके पात्रता नियमों में बदलाव किया गया और विभिन्न क्षेत्रों में योगदान देने वाले लोगों को भी नाइटवुड से सम्मानित किया जाने लगा। नाइटवुड पांच अलग-अलग रैंक हैं- नाइट एंड डेम ग्रैंड क्रॉस (GBE), नाइट एंड डेम कमांडर (क्रमशः KBE और DBE), कमांडर (CBE), ऑफिसर (OBE) और सदस्य (MBE)। इनमें से शुरुआती दो रैंक हासिल करने वालों को सर या डेम की उपाधि दी जाती है।

Read Also: IndiavsAustralia: एरोन फिंच ने रचा इतिहास, 10 साल के सूखे को किया खत्म

सभी खेलों से जुड़े समाचार पढ़ें सबसे पहले Live Hindustan पर। अपने मोबाइल पर Live Hindustan पढ़ने के लिए डाउनलोड करें हमारा न्यूज एप। और देश-दुनिया की हर खबर से रहें अपडेट।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:In British Parliament Pakistan Origin MP Rehman Chishti vouch for Sachin Tendulkar and Kapil Dev to Felicitates with Knightwood