फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ क्रिकेटदो शतक बनाने के बाद भी हुई आलोचना तो इमाम उल हक बोले- पिच मेरे ऑर्डर पर नहीं बनी और नहीं क्यूरेटर मेरे रिश्तेदार हैं

दो शतक बनाने के बाद भी हुई आलोचना तो इमाम उल हक बोले- पिच मेरे ऑर्डर पर नहीं बनी और नहीं क्यूरेटर मेरे रिश्तेदार हैं

पाकिस्तान के ओपनर इमाम उल हक ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में खेली गई अपनी पारी, पिच की स्थिति और कराची में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच के बारे में बात की है। पाकिस्तान क्रिकेट...

दो शतक बनाने के बाद भी हुई आलोचना तो इमाम उल हक बोले- पिच मेरे ऑर्डर पर नहीं बनी और नहीं क्यूरेटर मेरे रिश्तेदार हैं
Vikash Gaurलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 10 Mar 2022 02:37 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

पाकिस्तान के ओपनर इमाम उल हक ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में खेली गई अपनी पारी, पिच की स्थिति और कराची में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच के बारे में बात की है। पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) द्वारा आयोजित की गई एक वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में मीडिया से बात करते हुए इमाम उल हक ने कहा कि वह अपने बैक-टू-बैक शतकों का श्रेय अपने माता-पिता और उनकी प्रार्थनाओं को देंगे।

इमाम उल हक ने कहा, "जब आप ऑस्ट्रेलिया जैसी विपक्षी टीम के खिलाफ खेलते हैं और रन बनाते हैं तो यह हमेशा अद्भुत अहसास होता है। मेरे हाल के घरेलू मैचों ने मेरी बहुत मदद की। मैं पिछले एक साल से पाकिस्तान की टीम का हिस्सा हूं, लेकिन मैं 12वां खिलाड़ी रहा हूं और इससे भी मुझे मदद मिली। मैंने बाहर बैठकर बहुत कुछ सीखा, क्योंकि मैं टेस्ट में भी अपने वनडे प्रदर्शन को दोहराना चाहता था। मैं अपने माता-पिता को उनकी प्रार्थनाओं के लिए भी धन्यवाद देना चाहता हूं।" 

इमाम ने एक साल से अधिक समय तक टीम से बाहर रहने के बाद पाकिस्तान टेस्ट टीम में वापसी की। उन्होंने स्टार खिलाड़ियों से सजी ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाजी लाइन अप के खिलाफ दमदार प्रदर्शन किया। हालांकि, कई लोग इस बात से खुश नहीं हैं, क्योंकि पिच को फ्लैट खी और इसे तेज गेंदबाजों के लिए सही नहीं पाया गया। इन टिप्पणियों का जवाब देते हुए इमाम ने कहा: "कोई भी ड्रॉ नहीं चाहता है। क्यूरेटर ने मेरे आदेश पर पिच तैयार नहीं की और न ही वह मेरा रिश्तेदार है।" 

उन्होंने कहा, "क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया भी हमारी सलाह पर पिचों को क्यूरेट नहीं करता है, जब हम ऑस्ट्रेलिया का दौरा करते हैं। हर टीम पिचों को क्यूरेट करती है उनकी ताकत के आधार पर। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि पिच किस प्रकार की है, मेरा काम प्रदर्शन करना है।" बाएं हाथ के इस खिलाड़ी ने आगे कहा कि पांच साल से अधिक समय तक पाकिस्तान टीम के साथ रहने के बावजूद उनकी अभी भी आलोचना होती है और अब उन्हें इसकी आदत हो गई है।

उन्होंने कहा, "चाहे मैं टीम में हूं या नहीं, मेरी हमेशा आलोचना की जाती है। मैं आलोचना से दुखी नहीं हूं, क्योंकि मेरा काम प्रदर्शन करना है। यह प्रबंधन को तय करना है कि रावलपिंडी टेस्ट मैच में मेरे रन अच्छे हैं या नहीं। शतक लगाने के बाद कप्तान और मेरे साथियों के लिए संकेत था। हालांकि, मैं इसके पीछे की वजह का खुलासा नहीं करूंगा।"  नेशनल स्टेडियम कराची में दूसरे टेस्ट मैच में पाकिस्तान का सामना ऑस्ट्रेलिया से होगा और सभी की निगाहें विकेट पर होंगी। 

epaper