DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ICC WC 2019 Countdown: कैरी पैकर की बगावत एकदिवसीय क्रिकेट में सबसे बड़ी क्रांति की वजह बनी

वर्ल्ड सीरीज क्रिकेट के लिए तीन टीमों का गठन किया गया। वेस्टइंडीज और ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ी सबसे ज्यादा थे, लिहाजा इनसे डब्ल्यूएससी, ऑस्ट्रेलिया इलेवन और वेस्टइंडीज इलेवन तैयार हो गई।

world series cricket in sydney 1979  photo credit  the courier mail

ऑस्ट्रेलिया के चैनल नाइन के प्रमुख कैरी पैकर का गुस्सा क्रिकेट की सबसे बड़ी बगावत की वजह बना। उन्होंने शीर्ष क्रिकेटरों को जोड़कर परंपरागत क्रिकेट का ढांचा तहस-नहस किया और वर्ल्ड सीरीज क्रिकेट की नींव रखी। दुनियाभर के क्रिकेटर पैकर के लुभावने प्रस्ताव के बाद उनसे जुड़ते चले गए। यह लीग विश्व क्रिकेट रंगीन जर्सी और दिन-रात के मैचों की शुरुआत का पहला कदम साबित हुई।

नए दौर का आगाज

1976 में ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट बोर्ड से प्रसारण के अधिकार न मिलने से नाराज पैकर ने असंतुष्ट क्रिकेटरों से बगावत करा दी। टोनी ग्रेग और इयान चैपल ने खिलाड़ियों को जोड़ने का काम किया। 1977 में वर्ल्ड सीरीज क्रिकेट की घोषणा होने तक किसी को इसकी भनक नहीं लगी। ग्रेग से इंग्लैंड की कप्तानी छीन ली गई। लीग को आईसीसी ने अमान्य करार दे दिया। स्टेडियम नहीं मिले तो पैकर ने दूसरे खेल मैदानों में किसी तरह मैच कराए। पर ज्यादा दर्शक मैदान तक नहीं पहुंचे। 1979 तक लीग दो सत्र ही चल सकी। सुलह के बाद बागियों की अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी हुई। लीग को पैकर की सर्कस, पजामा क्रिकेट कहा गया।

RCBvRR: बारिश का सबसे बड़ा खामियाजा भुगता रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर ने

IPL2019: चेन्नई सुपर किंग्स की टीम को लेकर हर्ष भोगले ने कही बड़ी बात

तीन टीमें

वर्ल्ड सीरीज क्रिकेट के लिए तीन टीमों का गठन किया गया। वेस्टइंडीज और ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ी सबसे ज्यादा थे, लिहाजा इनसे डब्ल्यूएससी, ऑस्ट्रेलिया इलेवन और वेस्टइंडीज इलेवन तैयार हो गई। अन्य देशों के सभी खिलाडि़यों को मिलाकर वर्ल्ड इलेवन टीम बनाई गई।

27 खिलाड़ियों की कंगारू टीम

- 1977 की एशेज सीरीज से पहले ऑस्ट्रेलियाई बोर्ड को तगड़ा झटका लगा उसके लगभग सभी शीर्ष खिलाड़ी पैकर की लीग से जुड़े चुके थे।
- चैपल बंधु यानि इयान, ग्रेग और ट्रेवर इस टीम के सबसे बड़े सितारे थे। इयान चैपल की कप्तानी में डेनिस लिली, रॉड मार्श, ज्योफ थॉमसन, डग वाल्टर, केपलर वेसेल्स सरीखे दिग्गज खेले।

20 कैरेबियाई दिग्गज सीरीज खेले

- विंडीज के सभी बड़े सितारे खेले। इनमें क्लाइव लॉयड (कप्तान), विव रिचर्ड्स, एंडी रॉबर्ट्स, माइकल होल्डिंग, गार्नर, ग्रीनिज, डेसमंड हेंस, कोलिन क्रॉफ्ट, रोहन कन्हाई जैसे महारथी शामिल थे।

20 सितारों से सजी वर्ल्ड इलेवन की टीम

- वर्ल्ड टीम की कमान इंग्लैंड के टोनी ग्रेग को दी गई। द. अफ्रीका के धुरंधर बैरी रिचर्ड्स, माइक प्रॉक्टर और क्लाइव राइस को खेलने का मौका मिला। 

- रंगभेद नीतियों के कारण द. अफ्रीका पर प्रतिबंध था। पाक: इमरान खान, जावेद मियांदाद, जहीर अब्बास, सरफराज नवाज, माजिद खान, मुश्ताक मोहम्मद। इंग्लैंड: एलन नॉट, डेनिस एमिस, बॉब वूल्मर। न्यूजीलैंड: रिचर्ड हेडली।

- 13 ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी बागी लीग से जुड़े। टीम 3-0 से एशेज हारी।

रंगीन जर्सी में दिन-रात के मैच

वर्ल्ड सीरीज क्रिकेट के दौरान लागू किए। इन क्रांतिकारी कदमों से बाद में क्रिकेट को बड़ा फायदा हुआ। खिलाडियों को मिलने वाले पैसे में खासा इजाफा हुआ, रंगीन किट और दिन-रात के मुकाबले अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में लागू किए गए। सीरीज के ये फॉर्मूले वैश्विक स्तर पर लागू हुए-

- मुकाबले रात की दूधिया रोशनी में। हर टीम के लिए अलग रंग की जर्सी और स्टाइल का इस्तेमाल।

- दो-चार नहीं बल्कि दर्जन भर कैमरों से मैदान के हर कोने पर नजर।

- दर्शकों की भी मुकाबलों में भागीदारी। 

पहली बार सफेद कूकाबुरा गेंद

पारंपरिक लाल गेंद से अलग कूकाबुरा ने वर्ल्ड सीरीज के लिए पहली बार सफेद गेंद ईजाद की। रिची बेनो, ग्रेग और इयान चैपल ने मिलकर रात में आसानी से दिखने वाली गेंद तैयार कराई।
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ICC World Cup countdown Kerry Packer started World Series Cricket