DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ICC World Cup 2019: आखिर तक नहीं सुलझ पाई भारत की चार नंबर की पहेली

ICC World Cup 2019: इस विश्वकप में चौथे नंबर पर जो चार बल्लेबाज आजमाए गए, उनमें से किसी ने भी एक अर्धशतक तक नहीं बनाया।

vijay shankar  virat kohli  pti

ICC World Cup 2019: वर्ष 2015 के विश्वकप के बाद से लेकर 2019 के विश्वकप तक टीम इंडिया की चौथे नंबर की पहेली ऐसी उलझी कि अब तक सुलझ नहीं पाई है। इंग्लैंड में आयोजित विश्वकप से पहले बल्लेबाजी क्रम में चौथे नंबर को लेकर लगातार चिंता व्यक्त की जा रही थी और ये चिंताएं भारत के विश्वकप से बाहर हो जाने के बाद सही साबित हो गयी। भारत ने इस विश्वकप में चौथे नंबर पर चार बल्लेबाजों को आजमाया जो टीम रणनीति के लिहाज से सही नहीं कहा जा सकता।

भारत ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ मैच में चौथे नंबर पर लोकेश राहुल को उतारा। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मुकाबले में हार्दिक पांड्या उतरे। न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच बारिश से धुल गया। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच में चोट लगने के बाद ओपनर शिखर धवन टूर्नामेंट से बाहर हो गए और लोकेश राहुल को चौथे नंबर से ओपनिंग में जाना पड़ा।

धौनी पर ICC के कमेंट से भड़के फैन्स, जमकर सुनाई खरी-खरी

वर्ल्ड कप में भी बदलते रहे नंबर 4 के बल्लेबाज
पाकिस्तान के खिलाफ मैच में पांड्या चौथे नंबर पर उतरे जबकि अफगानिस्तान और वेस्टइंडीज के खिलाफ विजय शंकर को चौथे नंबर पर उतारा गया। शंकर के टूर्नामेंट से बाहर हो जाने के बाद ऋषभ पंत को टीम में शामिल किया गया था और इंग्लैंड, बंगलादेश, श्रीलंका तथा सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ पंत चौथे नंबर पर उतरे। 

गांगुली ने दी थी धौनी को नंबर 4 पर उतारने की सलाह
टीम प्रबंधन ने बल्लेबाजी के इस सबसे महत्वपूर्ण क्रम पर किसी भी बल्लेबाज को स्थायित्व का मौका नहीं दिया और बार बार इस क्रम पर नए बल्लेबाजों को आजमाया जाता रहा। सेमीफाइनल हारने के बाद पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली ने स्पष्ट तौर पर कहा था कि अनुभवी महेंद्र सिंह धौनी को चौथे नंबर पर उतारा जाना चाहिए था। 

वर्ल्ड कप में नहीं मिली अंबाती रायडू को जगह
इस साल के शुरू में न्यूजीलैंड दौरे में अंबाती रायडू को चौथे नंबर पर शानदार प्रदर्शन के बाद खुद कप्तान विराट कोहली ने कहा था कि टीम की चौथे नंबर की समस्या सुलझ गई है और रायडू का इस क्रम पर दावा पक्का माना जाने लगा। लेकिन रायडू को विश्वकप टीम में जगह नहीं मिली और शंकर के चोटिल होने के बाद मयंक अग्रवाल को विश्वकप टीम में शामिल किए जाने पर रायडू ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ही ले लिया।

वर्ल्ड कप में नंबर 4 पर आजमाए चार बल्लेबाज
इस विश्वकप में चौथे नंबर पर जो चार बल्लेबाज आजमाए गए, उनमें से किसी ने भी एक अर्धशतक तक नहीं बनाया। राहुल ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 26, पांड्या ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 48 और पाकिस्तान के खिलाफ 26, शंकर ने अफगानिस्तान के खिलाफ 29 और विंडीज के खिलाफ 14, पंत ने इंग्लैंड के खिलाफ 32, बंगलादेश के खिलाफ 48, श्रीलंका के खिलाफ चार और न्यूजीलैंड के खिलाफ 32 रन बनाए।

INDvsNZ: रोहित शर्मा ने सेमीफाइनल में हार के दो दिन बाद बयां किया दर्द, पढ़कर आंखें हो जाएंगी नम

2015 विश्वकप के बाद से रायडू रहे सबसे सफल
भारत ने 2015 विश्वकप के बाद से जिन खिलाड़ियों को चौथे नंबर पर आजमाया उसमें सबसे सफल रायडू ही रहे थे। रायडू ने इस क्रम पर 14 मैचों में 464 रन, धौनी ने 12 मैचों में 448 रन, अजिंक्य रहाणे ने 9 मैचों में 375 रन, दिनेश कार्तिक ने 9 मैचों में 264 रन, युवराज सिंह ने 8 मैचों में 354 रन और मनीष पांडे ने सात मैचों में 183 रन बनाये।

इस दौरान चौथे नंबर पर तीन शतक और 12 अर्धशतक बने। यह क्रम पिछले कुछ सालों में भारतीय बल्लेबाजी की सबसे कमजोर कड़ी बना रहा और विश्वकप में तो इसकी पोल ही खुल गयी। भारतीय टीम प्रबंधन ने तो यदि किसी एक खिलाड़ी पर भरोसा जताया होता तो बल्लेबाजी में स्थिरता आ सकती थी, लेकिन टॉप तीन के भरोसे भारतीय बल्लेबाजी चौथे नंबर को लेकर गंभीर नहीं हो पाई और पिछले चार सालों में इस क्रम की पहेली सुलझ नहीं सकी।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:icc world cup 2019 Team india number 4 batting spot crisis still remain