DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

2023 वर्ल्ड कप से पहले ICC को इन 6 नियमों में करना चाहिए बदलाव

2019 का विश्वकप इंग्लैंड में खेला गया था, अब चार साल बाद 2023 में एक बार फिर से आईसीसी वनडे वर्ल्ड कप का आयोजन किया जाएगा। इस बार 2023 का वर्ल्ड कप भारत में खेला जाना है।

stubborn zing bails  afp

ICC Cricket World Cup: आईसीसी विश्व कप 2019 क्रिकेट से ज्यादा विवादों को लेकर सुर्खियों में रहा। इस वर्ल्ड कप के दौरान ऐसे विवाद सामने आए, जिनके लिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट काउंसिल (ICC ) की जमकर आलोचना हुई। इसके साथ ही खराब अंपायरिंग को लेकर भी वर्ल्ड कप का यह सीजन खासा सुर्खियों में रहा था। अंपायरिंग के खराब स्टैंडर्ड को लेकर कड़ी आलोचना हुई। विश्व कप के फाइनल में जब गेंद बेन स्टोक्स के बल्ले को छूकर सीमा पार कर गई तो अंपायर ने इंग्लैंड को छह रन दे दिए। जबकि कायदे से पांच रन दिए जाने चाहिए थे। यह मैच के अंतिम ओवर में हुआ। यदि इंग्लैंड को 5 रन दिए जाते तो न्यूजीलैंड एक रन से मैच जीत जाता और वह विश्व कप विजेता होता। लेकिन इसके बाद सुपर ओवर हुआ और बाउंड्री नियम में इंग्लैंड को विजेता चुन लिया गया। 

2019 का विश्वकप इंग्लैंड में खेला गया था, अब चार साल बाद 2023 में एक बार फिर से आईसीसी वनडे वर्ल्ड कप का आयोजन किया जाएगा। इस बार 2023 का वर्ल्ड कप भारत में खेला जाना है। ऐसे में पिछले विश्वकप की गलकियों से सबक लकरे आईसीसी को अपने कुछ नियमों में बदलाव करना चाहिए। आइए जानते हैं कि ऐसे कौन से नियम में हैं, जिनमें बदलाव किए जाने की जरुरत है।

ICC World Cup 2023:  जानिए, कब और कहां खेला जाएगा आईसीसी वर्ल्ड कप 2023

रिलप्लेस बाउंड्रीज रूलः लिहाजा विश्व कप का फाइनल टाई हो गया, नियमों के अनुसार अब सुपर ओवर होना था। यह सुपर ओवर भी टाई हुआ, लेकिन क्योंकि इंग्लैंड ने पूरे मैच के दौरान अधिक चौके लगाए थे इसलिए उसे विजेता घोषित कर दिया गया। क्रिकेट पंडित इस नियम को बदलने की मांग कर रहे हैं। इसके दो विकल्प बताए जा रहे हैं। पहला, यह देखा जाए कि दोनों टीमों की पारी में किसके कितने विकेट गिरे। दूसरा यह देखा जाए कि किस टीम ने अतिरिक्त रन अधिक दिए।

ट्रॉफी शेयर होनी चाहिएः न्यूजीलैंड के कोच गैरी स्टीड का कहना है कि ऐसी स्थिति में दोनों टीमों के बीच ट्रॉफी शेयर की जानी चाहिए। क्योंकि यदि दोनों टीमें 100 ओवरों के बाद भी एक दूसरे को परास्त नहीं कर पाई, सुपर ओवर में भी फैसला नहीं हो पाया तो दोनों टीमें विजेता होना डिजर्व करती हैं। 2002 की चैंपियंस ट्रॉफी श्रीलंका के कप्तान सनथ जयसूर्या और भारत के कप्तान सौरव गांगुली के बीच शेयर की गई थी। हालांकि, यह मैच किसी खराब मौसम के चलते बिना परिणाम के समाप्त हुआ था। अगर फाइनल टाई होता है तो आईसीसी को इसी तरह के समझौते पर सहमति पर विचार करना चाहिए।

ICC ODI WC: 2023 के वर्ल्ड कप में शायद ही देखने को मिले ये 5 भारतीय चेहरे

दोनों टीमों के रन रेट को देखना चाहिएः पाकिस्तान ने 11 अंकों के साथ न्यूजीलैंड की बराबरी की थी। लेकिन यह तय होना था कि कौन सेमी फाइनल में खेलेगा। यह बेहतर रन रेट के आधार पर तय होना था। लेकिन इस व्यवस्था में दो खामियां हैं। फैन्स को यह देखना था कि पाकिस्तान ने बांग्लादेश को आखिरी मैच में कितने रन से हराना है। साथ ही, न्यूजीलैंड ने अंतिम ग्रुप मैच में इंग्लैंड के खिलाफ डिफेंसिव खेल खेला। इससे उनकी रन रेट खराब नहीं हुई लेकिन खेल बहुत बोरिंग हो गया। तो क्यों नहीं टाई ब्रेकर की स्थिति में हेड टू हेड देखा जाए।  

बारिश की वजह से देरी होने वाले मैचों को खत्म किया जाएः यह चकित करने वाली बात है कि केवल ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड और अफगानिस्तान के सभी 9 मैचों में पूरा परिणाम निकला। इसकी कीमत अप्रत्यक्ष रूप से पाकिस्तान को चुकानी पड़ी। वह सेमीफाइनल में नहीं पहुंच पाया। लिहाजा ग्रुप मैचों में बारिश होने के कारण रिजर्व डे होना चाहिए। क्योंकि आईसीसी की प्राथमिकता फेयर होनी चाहिए। 

जिंग बेल्स को ड्रॉप की जाएं: विश्व कप 2019 में कम से कम पांच ऐसे मौके आए, जब जिंग बेल्स गिरी नहीं। क्योंकि उनका वजन ज्यादा बताया गया। विराट कोहली और ऑस्ट्रेलियन कप्तान एरोन फिंच ने इन बेल्स को रिप्लेस करने की इच्छा प्रकट की है। आईसीसी को भी इस पर दोबारा विचार करना चाहिए।

ऐसी क्रिकेट लीग जिसमें होगा 100 गेंद का मैच, 10 गेंद का एक ओवर

भारत में खेला जाएगा अगला वर्ल्ड कप
आईसीसी वर्ल्ड कप 2023 भारत में 9 फरवरी से 26 मार्च तक खेला जाएगा। यह 13वां आईसीसी वनडे क्रिकेट विश्व कप होगा। इंग्लैंड पहले ही 1975, 1979, 1983, 1999 और 2019 में विश्व कप का आयोजन कर चुका है। इंग्लैंड अकेला ऐसा देश है, जिसने 1975,1979, 1983, 1999 में आयरलैंड, नीदरलैंड, स्काटलैंड और वेल्स के साथ टूर्नामेंट की सह मेजबानी की। 

भारत ने अबतक दो बार जीता है वर्ल्ड कप
1987 का विश्व कप पहला ऐसा मौका था, जो इंग्लैंड से दूर भारत और पाकिस्तान में आयोजित किया गया। इस उप महाद्वीप में 1996 और 2011 में भी विश्व कप का आयोजन हुआ। 2011 में भारत ने महेंद्र सिंह धौनी की कप्तानी में 1983 के बाद दूसरा आईसीसी वनडे क्रिकेट विश्व कप जीता था। हालांकि, पाकिस्तान को सह-मेजबान होने का दर्जा अनिश्चित सुरक्षा के चलते खोना पड़ा।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ICC should change these 6 rules before 2023 odi Cricket World Cup at india