फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News क्रिकेटICC Online Fraud: आईसीसी के साथ हुआ 'जामताड़ा' जैसा कांड, लगा 21 करोड़ का चूना

ICC Online Fraud: आईसीसी के साथ हुआ 'जामताड़ा' जैसा कांड, लगा 21 करोड़ का चूना

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो कुछ बदमाशों ने संयुक्त राज्य अमेरिका में एक आईसीसी के सलाहकार के नाम पर एक फर्जी ईमेल आईडी बनाई और फेडरेशन के सीएफओ से भुगतान के लिए वाउचर की मांग की।

ICC Online Fraud: आईसीसी के साथ हुआ 'जामताड़ा' जैसा कांड, लगा 21 करोड़ का चूना
Lokesh Kheraलाइव हिंदुस्तान टीम,नई दिल्लीFri, 20 Jan 2023 07:43 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

नेटफ्लिक्स की फेमस वेब सीरीज 'जामताड़ा' के बारे में तो हर कोई जानता है, इस सीरीज में जैसे फिशिंग के जरिए चूना लगाया जाता है वैसा ही कुछ हादसा आईसीसी यानी अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद के साथ हुआ है। जी हां, आईसीसी के साथ ऑनलाइन ठगी का मामला सामने आया है जिसमें कुछ बदमाशों ने भुगतान के लिए आईसीसी के सलाहकार के नाम पर एक फर्जी ईमेल आईडी बनाई और वाउचर के रूप में इस ठगी को अंजाम दिया। दुबई ऑफिस के किसी भी अधिकारी ने इस मुद्दे पर अपना बयान देने से इनकार कर दिया है, मगर क्रिकबज की रिपोर्ट की माने तो आईसीसी ने इसकी जांच शुरू कर दी है।

विराट कोहली और शुभमन गिल ने तो कर दिखाया, अब रोहित शर्मा की बारी है

मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो कुछ बदमाशों ने संयुक्त राज्य अमेरिका में एक आईसीसी के सलाहकार के नाम पर एक फर्जी ईमेल आईडी बनाई और फेडरेशन के सीएफओ से भुगतान के लिए वाउचर की मांग की। हैरानी की बात तो यह है कि ICC में किसी ने भी अलग-अलग बैंक के अकाउंट नंबर पर ध्यान नहीं दिया।

IND W vs SA W: भारत ने ट्राई सीरीज का जीत के साथ किया आगाज, डेब्यू मैच इस खिलाड़ी ने मचाया धमाल

इस मुद्दे को लेकर ICC के अधिकारी अब अमेरिका में कानून प्रवर्तन अधिकारियों के साथ बात कर रहे हैं। मगर अधिकारिक रूप से इस मामले में हर कोई चुप्पी साधे हुआ है। 21 करोड़ की इस धोखाधड़ी के बाद आईसीसी के दुबई कार्यालय में मुख्य वित्तीय अधिकारी (सीएफओ) और उनके विभाग सुर्खियों में है।

बताया जा रहा है आईसीसी के साथ ऐसा पहली बार नहीं हुआ है। उनके साथ ऐसी तीन-चार घटनाएं हो चुकी है, मगर फिर भी इस पर कोई बड़ा एक्शन नहीं लिया जा रहा है।

अगर स्लिम लड़के चाहिए, तो फैशन शो में जाओ; सरफराज को जगह नहीं मिलने पर सुनील गावस्कर ने सेलेक्टर्स को सुनाई खरी-खोटी

क्रिकबज के अनुसार बीसीसीआई जैसे पूर्ण सदस्य के लिए 2.5 मिलियन डॉलर एक बड़ी राशि नहीं है, लेकिन नुकसान की मात्रा उस अनुदान के चार गुना के बराबर है जो ओडीआई स्थिति वाले एक एसोसिएट सदस्य को हर साल आईसीसी से प्राप्त होता है।